स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हादसा : तड़के धड़ाम से नाले में जा गिरा मकान, पिलर धंसे, ढह गया आशियाना

Uttam Rathore

Publish: Sep 21, 2019 11:14 AM | Updated: Sep 21, 2019 11:14 AM

Indore

नगर निगम गैंग के पहुंचने से पहले पड़ोसियों ने पहुंचाई राहत, धमाके से खुली नींद, पानी में बह गया गृहस्थी का सामान और घायल एमवाय अस्पताल में भर्ती

इंदौर. परदेशीपुरा क्षेत्र में आज तड़के नाले पर बना दोमंजिला मकान अचानक गिर गया। मकान गिरने से सात लोग घायल हो गए। इन घायलों में चार बच्चे और तीन बड़े लोग शामिल हैं। मकान गिरने पर पानी में गृहस्थी के सामान सहित लोग बह गए। मकान गिरने पर इतना जोरदार धमाका हुआ कि पड़ोसियों की नींद ही खुल गई और उन्होंने नगर निगम गैंग के पहुंचने से पहले ही राहत कार्य शुरू कर दिया। घायल लोगों को निकालने के बाद उन्हें एमवाय अस्पताल पहुंचाया गया।

नदी-नालों पर अतिक्रमण कर लोग धड़ल्ले से मकान बनाकर रह रहे हैं। अपनी जान जोखिम में डालकर उनमें लोग रह भी रहे हैं, जिन्हें हटाने की कार्रवाई न तो जिला प्रशासन कर रहा है और न ही नगर निगम। नतीजतन नदी-नालों के किनारे पर बने मकान बरसात के चलते जलस्तर बढऩे से धंस रहे और लोग घायल हो रहे हैं। पिछले दिनों एरोड्रम रोड स्थित अमन रीजेंसी कॉलोनी में दो मकान धंस गए थे, जो कि नाले पर बने हुए थे। आज अल सुबह 3.45 बजे डमरू उस्ताद चौराहा परदेशीपुरा के पास लाल गली में नाले किनारे बना दो मंजिला पक्का मकान गिर गया जो कि मिस्त्री का काम करने वाले नौशाद करीम का था। जिस समय मकान गिरा उस समय जोरदार धमका हुआ और आवाज सुनकर पड़ोसी जाग गए। साथ ही गिरे मकान के पास पहुंचे और मलबे में दबे लोगों को निकालना शुरू किया। इसके साथ ही पड़ोसी इशाक खान ने निगम कंट्रोल रूम को सूचना देने के साथ 108 को भी फोन लगाया। निगम अमले के पहुंचने से पहले पड़ोसियों ने मकान के मलबे में दबे लोगों को निकालकर एमवाय अस्पताल भेजना शुरू कर दिया था।

... और भी बने हुए हैं मकान
निगम के जोन क्रमांक 17 और वार्ड 23 में आने वाली लाल गली में जहां नाले किनारे मकान गिरा है, उसके आसपास और भी कई मकान हैं जो कि नाले पर बने हुए हैं। इनमें कुछ पक्के और कुछ कच्चे मकान हैं। निगम को चाहिए कि नाले किनारे के मकानों को हटाने की कार्रवाई करें ताकि भविष्य में मकान गिरने के साथ कोई जनहानि नहीं हो।

हादसा : तड़के धड़ाम से नाले में जा गिरा मकान, पिलर धंसे, ढह गया आशियाना

सो रहा था परिवार
परदेशीपुरा क्षेत्र की लाल गली में नाले पर बना मकान जिस समय गिरा, उस समय नौशाद का परिवार सो रहा था। नाले में पिलर गाढ़कर यह मकान बनाया गया था। बरसात के चलते नाले में पानी बढ़ा और मिट्टी का कटाव होने से आरसीसी के पिलर धंस गए और मकान गिर गया। इस कारण घर में सो रहे सभी लोग सीधे मलबे के साथ नाले के पानी में गिर गए। मकान गिरने की आवाज सुनकर उठे आसपास के रहवासियों ने नाले में गिरे लोगों को निकाला।

10 मिनट में पहुंचे अफसर
लाल गली में मकान गिरने की सूचना जैसे ही निगम कंट्रोल रूम पर पहुंची, वैसे ही क्षेत्रीय जोनल अफसर का सेट गूंजने लगा। एलआईजी क्षेत्र में रहने वाले जोनल अफसर नरेंद्र कुरील तो 10 मिनट में मौके पर पहुंच गए, लेकिन निगम अमले को आने में देरी हुई।

हादसा : तड़के धड़ाम से नाले में जा गिरा मकान, पिलर धंसे, ढह गया आशियाना

पानी का तेज बहाव होने से कट गई मिट्टी
निगम अमला पहुंचा तब तक मकान गिरने से घायल नाजरिन (17), ममताशा (15), अलीशा (10) रईसा, फेमिदा पति नौशाद (36) और नौशाद पिता करीम (40) सहित एक अन्य घायल व्यक्ति अस्पताल पहुंच गए थे। यहां पर घायलों को इलाज कर छुट्टी कर दी गई, क्योंकि किसी को भी गंभीर चोट नहीं आई है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार नाले पर बना नौशाद का मकान जलस्तर बढऩे की वजह से गिर गया। पानी का तेज बहाव होने से मिट्टी का कटाव हुआ और मकान धंसकर गिर गया। इससे गृहस्थी का सामान बह गया और लोग नाले में गिर गए, जिन्हें जैसे-तैसे करके निकाला और अस्पताल पहुंचाया गया। हालांकि मकान गिरने के बाद मलबे का ढेर लग गया है। इसे हटाने के काम में निगम का अमला जुट गया है। मकान गिरने की सूचना पर मौके पर पुलिस भी पहुंच गई है।

सभी को दे रहे हटने के नोटिस
लाल गली नाले पर वर्षों पुराने मकान बने हुए हैं। इन्हें हटने के लिए पहले ही नोटिस दे चुके हैं। इसमें घटना-दुर्घटना होने पर स्वयं की जिम्मेदारी होने का लिखा गया है। नाले में जलस्तर बढऩे पर मिट्टी का कटाव होने से मकान गिर गया। घायलों को अस्पताल पहुंचाया या है। इसके साथ ही सभी को फिर से नोटिस दिए जा रहे हैं। इन्हें हटाने की कार्रवाई भी जल्द होगी।
- नरेंद्र कुरील, क्षेत्रीय जोनल अफसर