स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कॉलेज में प्रवेश लेने आवेदन शुल्क 100 नहीं अब 50

Mohammed Javed

Publish: Jun 11, 2019 11:43 AM | Updated: Jun 11, 2019 11:43 AM

Indian Regional

पहले यह राशि ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों तरह से 100 रुपए रखी गई थी

भिलाई . हेमचंद यादव विश्वविद्यालय ने आखिरकार अपना फैसला वापस ले लिया है। अब कॉलेज में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को आवेदन फार्म के रूप में सिर्फ 50 रुपए देने होंगे। पहले यह राशि ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों तरह से 100 रुपए रखी गई थी। दरअसल, पं. रविशंकर विवि का आवेदन फार्म 50 रुपए का ही है, जिसे देखते हुए हेमचंद विवि ने भी इसे 100 से घटाकर 50 रुपए कर दिया है। यह फैसला कमजोर आर्थिक स्थिति से मजबूर विद्यार्थियों को थोड़ी ही सही, मगर राहत देगा। विवि ने कहा, मंगलवार से जो विद्यार्थी आवेदन करेंगे, उन्हें 50 रुपए का भुगतान ही करना होगा।

प्रवेश नहीं तो, उसी फार्म में चुनेंगे दूसरा विषय
हेमचंद विवि ने कहा है कि आवेदन शुल्क घटानेे के साथ ही अब ऐसे विद्यार्थी जिन्हें संस्था में चयनित विषय में प्रवेश न मिल पाए तो वे उसी फार्म के जरिए दूसरे विषय का चयन भी कर पाएंगे। मान लीजिए यदि किसी छात्र ने बीएससी के लिए आवेदन किया था, लेकिन मेरिट में उसका नाम नहीं आया। ऐसी स्थिति में वह बीए या बीकॉम लेता है तो इसके लिए छात्र को अलग से कोई फार्म भरने की जरूरत नहीं होगी। कॉलेज का प्राचार्य उसी आवेदन में विषय बदलेगा। इस तरह विद्यार्थियों को राहत मिलेगी। प्राचार्य को विवि के द्वारा सॉफ्टवेयर व ऑफलाइन में इसका अधिकार रहेगा। आवेदन शुल्क जब 100 रुपए किया गया तो सबसे पहले पत्रिका ने इस शुल्क को कम करने के लिए खबर प्रमुख्ता से प्रकाशित की। तब यह मामला उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल के संज्ञान में आया।

जिसने चुकाए 100 रुपए उसका क्या होगा?
विवि प्रशासन ने कहा है कि कॉलेज में प्रवेश के आवेदन ४ जून से शुरू हुए है। अब यदि किसी छात्र ने उक्त तिथि में या उसके बाद १० जून तक आवेदन सौ रुपए चुकाए हैं, उसको बाकी के 50 रुपए वापस लौटाए जाएंगे। इसके लिए संस्था को कहा जाएगा कि वे छात्र के एडमिशन शुल्क में अंतर के ५० रुपए को एडजस्ट कर दे। विवि अलग से छात्र के बैंक खाते में रकम न डालकर, इस तरह की व्यवस्था करेगा।

नि:शुल्क करते तब बात कुछ और होती
प्रवेश प्रक्रिया के आवेदन शुरू करने से पहले विवि में ३१ मई को लीड कॉलेजों के प्राचायोँं की बैठक हुई थी, जिसमें सभी प्राचार्यों ने शुल्क को नि:शुल्क रखने की बात कही थी। इसके बाद भी विवि ने आवेदन का शुल्क रखा। खैर, ५० रुपए करना तो ठीक है, लेकिन विवि प्रशासन चाहता तो यह रकम पूरी तरह से हटाई भी जा सकती थी, लेकिन विवि ने यह व्यवस्था नहीं अपनाई।

डॉ. सीएल देवांगन, कुलसचिव, हेमचंद विवि
कॉलेजो में आवेदन के लिए ऑनलाइन व ऑफलाइन का शुल्क सौ से घटाकर ५० रुपए कर दिया गया है। अब छात्रों को विषय बदलने की स्थिति में दूसरा फार्म भी नहीं भरना है। प्राचार्य उसी फार्म में दूसरा विषय दे सकेंगे।