स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जुड़वां शहर में शीघ्र लागू होगी ट्रैफिक वार्डन व्यवस्था

Zakir Pattankudi

Publish: Jul 16, 2019 19:39 PM | Updated: Jul 16, 2019 19:39 PM

Hubli

जुड़वां शहर में शीघ्र लागू होगी ट्रैफिक वार्डन व्यवस्था
-इससे हो जाएगा यातायात समस्या का समाधान
-हुबली-धारवाड़ पुलिस आयुक्तालय की योजना
- सार्वजनिक सहभागिता पर रहेगा जोर
हुब्बल्ली

जुड़वां शहर में शीघ्र लागू होगी ट्रैफिक वार्डन व्यवस्था

हुब्बल्ली
हुब्बल्ली-धारवाड़ पुलिस आयुक्तालय ने यातायात व्यवस्था के लिए नागरिक स्नेही ट्रैफिक वार्डन व्यवस्था लागू करने का फैसला लिया है। यह व्यवस्था सार्वजनिक सहभागिता से लागू की जाएगी।
हुब्बल्ली-धारवाड़ जुड़वां शहर के विकास के साथ जनसंख्या तथा वाहनों की संख्या भी बढ़ रही है। इससे विपरीत ट्रैफिक समस्या बढ़ रही है। शहर में यातायात पुलिस की संख्या भी बहुत कम है। इन सबको ध्यान में रखकर हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर पुलिस आयुक्त ने नई तर्ज की यातायात निगरानी योजना को लागू करने का निर्णय किया है।

यातायात पुलिस के साथ तैनात किया जाएगा


पहले से ही पुलिस उपायुक्त, सहायक पुलिस आयुक्त तथा यातायात पुलिस अधिकारियों के साथ एक चरण की चर्चा कर योजना की रूपरेखा तैयार की है। प्रथम चरण में सौ जनों को नियुक्त कर, उन्हें एक सप्ताह यातायात नियमों के बारे में प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके बाद ट्रैफिक सिग्नल क्षेत्र में यातायात पुलिस के साथ उन्हें कर्तव्य पर तैनात किया जाएगा।

जुड़वां शहर का मूल निवासी हो


पुलिस आयुक्त एमएन नागराज का कहना है कि ट्रैफिक वार्डन बनने के इच्छुकों को जुड़वां शहर का मूल निवासी होना चाहिए। न्यूनतम दसवीं कक्षा पास होनी चाहिए और किसी प्रकार की आपराधिक गतिविधियों में भाग नहीं लेना चाहिए। स्वेच्छा से जो कोई भी आगे आएंगे उन्हें प्रथम प्राथमिकता दी जाएगी।
विद्यार्थी, अभियंता, निजी रोजगार, अंशकालिक रोजगार इस प्रकार 60 वर्ष पार वाले यातायात विभाग को अपनी सेवा दे सकता है। इनकी इच्छा के तहत मध्यांतर में एक, दो या फिर तीन घंटा यातायात रखरखाव में कार्य कर सकते हैं। पुलिस विभाग ही इन्हें यूनिफार्म, जूते तथा टोपी देगा।


यह कहते हैं आयुक्त


वर्ष 2013 में जब रायचूर जिला पुलिस अधीक्षक था उस दौरान वहां ट्रैफिक वार्डन व्यवस्था लागू किया था, जो सफल हुई थी। इसी तर्ज पर हुब्बल्ली-धारवाड़ जुड़वां शहर में भी लागू किया जाएगा।
-एमएन नागराज, आयुक्त, हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर पुलिस आयुक्तालय
..........बाक्स में लगाएं
कर्मचारियों की कमी
हुब्बल्ली में तीन धारवाड़ में एक कुल चार यातायात पुलिस थाने हैं। मौजूदा जनसंख्या तथा वाहनों की संख्या के हिसाब से हर एक थाने के लिए 110 कर्मचारियों की जरूरत है परन्तु मौजूदा केवल 70 से 80 कर्मचारी मात्र हैं। इनमें भी कुछ कर्मचारी वारंट, अवकाश, कार्यालय कार्य के चलते घूमते रहते हैं। इसके चलते एक एक थाने में यातायात सुव्यवस्था कार्य में प्रतिदिन 60 प्रतिशत कर्मचारियों को ही कर्तव्य का निर्वाह करना संभव है। चार यातायात थानों के क्षेत्र में सौ से अधिक ट्रैफिक सिग्नल तथा सौ से अधिक क्रास रोड हैं। कर्मचारियों की कमी से हर कहीं पेश आने वाली ट्रैफिक समस्या को नियंत्रित करने के लिए यातायात पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ती है।

ट्रैफिक जाम की समस्या आम

हुब्बल्ली-धारवाड़ जुड़वां शहर में चल रहे विकास कार्य, पार्किंग व्यवस्था नहीं होने, शहर का व्यवस्थित विकास नहीं होने के कारण प्रमुख मार्ग समेत लग भग सभी सड़कों पर ट्रैफिक समस्या सिर दर्द बनी हुई है। हुब्बल्ली के केश्वापुर सर्कल, स्टेशन रोड अंडर ब्रिज, अम्बेडकर सर्कल, कोप्पिकर रोड, लैमिंगटन रोड चिटगुप्पी सर्कल, दाजिबानपेट, तुलजाभवानी सर्कल, संगोल्ली रायण्णा सर्कल, चेन्नम्मा सर्कल होसूर सर्कल, उणकल क्रास, पुरानी हुब्बल्ली सर्कल, इंडी पंप सर्कल, धारवाड़ का सुभाष रोड, कला भवन, जुबली सर्कल, गांधी नगर, टोल नाका इस प्रकार कई सर्कलों, भीडभाड़ वाले इलाकों में ट्रैफिक जाम की समस्या आम हो गई है।