स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जच्चा को किराए के घर की व्यवस्था

Zakir Pattankudi

Publish: Aug 17, 2019 20:36 PM | Updated: Aug 17, 2019 20:36 PM

Hubli

जच्चा को किराए के घर की व्यवस्था
-पूर्व पार्षद देंगे किराया
हुब्बल्ली

जच्चा को किराए के घर की व्यवस्था
हुब्बल्ली
मकान की दीवार गिरने से मंदिर में नवजात शिशु के साथ रह रही अमरगोल की जच्चा के परिवार को महानगर निगम के पूर्व पार्षद मल्लिकार्जुन होरकेरी ने किराए के घर की व्यवस्था करने के साथ इंसानियत की मिसाल कायम की है।
जच्चा शिल्पा लद्दी एक माह के शिशु के साथ मंदिर में मनाह ली है। महिला एवं बाल कल्याण विभाग के अधिकारियों ने शनिवार को मंदिर का दौरा कर शिल्पा का कुशलक्षेम जाना।

किराए का भुगतान भी करेंगे

पूर्व पार्षद मल्लिकार्जुन होरकेरी ने बताया कि जच्चा व बच्चा के मंदिर में स्थापित राहत केंद्र में पनाह लेने के बारे में जानकारी मिलने के बाद तुरन्त मौके पर जाकर उनके लिए जरूरी वस्तुओं को दिलवाया। इसके अलावा किराए के घर में जाने पर मदद देने का आश्वासन दिया था। अब एक घर को तलाश कर वहां स्थानांतरित हुए हैं। शिल्पा लद्दी के मकान की दीवार गिरने के संबंध में तालुक प्रशासन की ओर से 28 हजार रुपए के मुआवजे का चेक दिया गया है। नई दीवार निर्माण करने के साथ मकान की मरम्मत करवाने के लिए एकाध माह चाहिए। तब तक किराए के घर में रहने की व्यवस्था की गई है, किराए का भुगतान भी हम ही करेंगे।

जच्चा का कुशलक्षेम जाना

महिला एवं बाल कल्याण अधिकारी एबी मुनियप्पा, शिशु विकास योजना अधिकारी (सीडीपीओ) एनए पुट्टप्पनवर तथा महिला पर्यवेक्षक दीपा हेब्बल्ली ने मंदिर का दौरा कर जच्चा का कुशलक्षेम जाना।

पौष्टिक आहार का आश्वासन

महिला एवं बाल कल्याण अधिकारी एबी मुनियप्पा ने कहा कि शिल्पा को छह माह तक प्रतिदिन दूध, अंडा समेत पौष्टिक आहार उपलब्ध करने के स्थानीय आंगनबाडी की पर्यवेक्षक को निर्देश दिया है। साथ ही एक स्वास्थ्य सहायिका शिल्पा के घर जाकर स्वास्थ्य के बारे में जानकारी प्राप्त करेगी। मंदिर में पनाह पाने वाली शिल्पा तथा उसके शिशु को बाल सुरक्षा इकाई में कुछ दिन पुनर्वास उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया था परन्तु उनके और दो छोटे बच्चे होने से सभी को वहां व्यवस्था उपलब्ध कराना संभव नहीं है। इसके चलते अमरगोल के आंगनबाडी में उन्हें रहने को कहा गया था परन्तु मंदिर में ही थोड़ी व्यवस्था होने से वहीं ठहरी थी। अब किराए के घर को गई है। उन्हें पौष्टिक आहार उपलब्ध करने के साथ स्वास्थ्य की देखभाल करने की व्यवस्था विभाग की ओर से की जाएगी।