स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चिकित्सकों की सलाह नजरअंदाज कर जनता से मिलने आया

Zakir Pattankudi

Publish: Aug 19, 2019 20:56 PM | Updated: Aug 19, 2019 20:56 PM

Hubli

चिकित्सकों की सलाह नजरअंदाज कर जनता से मिलने आया
-पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा
बागलकोट

चिकित्सकों की सलाह नजरअंदाज कर जनता से मिलने आया
बागलकोट
पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा है कि बाढ़ के संकट से जूझ रहे बादामी विधानसभा क्षेत्र के लोगों से मिलने के लिए मैं चिकित्सकों की सलाह को नजरअंदाज कर मिलने आया हूं।
कर्लकोप्पा बाढ़ प्रभावित गांव का दौरा करने के बाद सिद्धरामय्या ने कहा कि बाढ़ आने के तुरन्त बाद बादामी आना चाहा था परन्तु मैंने 4 अगस्त को आंखों का ऑपरेशन (नेत्र शल्य चिकित्सा) करवाया था। इसके चलते बाढ प्रभावित इलाकों में पुत्र को भेजा। घर से ही यहां के नेताओं के साथ बातचीत कर पीडि़तों की समस्याओं को सुनने, प्रतिक्रिया व्यक्त करने के निर्देश दिए थे। अभी भी चिकित्सकों ने तीन सप्ताह तक विश्राम करने की सलाह दी है परन्तु क्षेत्र की जनता मुसीबत में है इसलिए चिकित्सकों की सलाह की परवाह किए बिना यहां आया हूं।
सिद्धरामय्या ने कहा कि बाढ़ से भयभीत नहीं होना चाहिए। हम आपके साथ हैं। आपका कार्य होने तक मुख्यमंत्री तथा अधिकारियों पर दबाव बनाएंगे। फिलहाल हम सत्ता में नहीं है केवल आपका जनप्रतिनिधि मात्र हूं। कांग्रेस-जद (ध) गठबंधन सरकार चली गई। अब भाजपा सरकार सत्ता में है।
उन्होंने कहा कि बाढ़ से घर खो चुके लोगों को अस्थाई शेड निर्माण करके देने के जिलाधिकारी को निर्देश दिए गए हैं। कर्लकोप्प गांव को पूरी तरह स्थानांतरित करना है। आगामी दिनों में कभी बाढ़ नहीं आनी चाहिए इसकी भगवान से प्रार्थना करते हैं। बाढ़ से मृतकों के परिजनों, घर खोने वालों को पांच लाख रुपए का मुआवजा तथा जरूरी खर्च के लिए दस हजार रुपए राहत राशि देने का सरकार ने फैसला लिया है। यह राशि बिचौलियों की जेब में नहीं जानी चाहिए। सीधे तौर पर लाभार्थी के खाते में जमा कराने का फैसला लिया गया है। दो-तीन दिनों में पीडि़तों के खाते में दस हजार रुपए जमा करने के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री सिध्दरामय्या ने बाढ़ में मृत भीमप्पा की पत्नी देवक्का को पांच लाख रुपए का चेक दिया।

छात्राओं ने की बस सेवा की मांग

बाढ़ प्रभावित बादामी का दौरा कर रहे पूर्व मुख्यमंत्री सिध्दरामय्या को बीच सड़क पर मुलाकात कर तालुक के कलस गांव की छात्राओं ने गांव के लिए बस सेवा उपलब्ध करने की मांग की। छात्राओं ने कहा कि गांव के लिए बस सुविधा नहीं है, जिससे बहुत समस्या हो रही है। कलस गांव से कित्तली गांव को प्रतिदिन पैदल चलकर जाने के हालात पेश आए हैं। इसके चलते बस सुविधा उपलब्ध कीजिए।
छात्राओं के ज्ञापन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सिध्दरामय्या ने शीघ्र ही गांव को बस सुविधा उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।