स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बेंगलूरु में किसान रैली 21 को

Zakir Pattankudi

Publish: Jul 17, 2019 20:17 PM | Updated: Jul 17, 2019 20:17 PM

Hubli

बेंगलूरु में किसान रैली 21 को
-विभिन्न मांगों को लेकर मुख्यमंत्री को सौंपेंगे ज्ञापन
हुब्बल्ली

बेंगलूरु में किसान रैली 21 को
हुब्बल्ली
अखण्ड कर्नाटक रैयत संघ की ओर से किसान शहीद दिवस के उपलक्ष्य में विभिन्न मांगों को लेकर 21 जुलाई को बेंगलूरु में किसान रैली का आयोजन किया गया है।
शहर के पत्रकार भवन में बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में अखिल कर्नाटक रैयत संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष सिध्दनगौड़ा पाटील ने कहा कि बेंगलूरु के क्रांतिवीर संगोल्ली रायण्णा रेलवे स्टेशन से मुख्यमंत्री आवास तक रैली निकाली जाएगी। इसके बाद विभिन्न मांगों को लेकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा जाएगा। इस रैली में राज्य भर से किसान तथा किसान संगठनों के प्रमुख भाग लेंगे। अगर 21 जुलाई तक सरकार पतन होगी तो बेंगलूरु के गांधी भवन में सभा आयोजित कर किसान शहीद दिवस मनाया जाएगा।
उन्होंने कहा कि किसान आर्थिक तौर पर संकट में फंस गए हैं। शीघ्र किसानों का ऋण माफ करने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री के साथ चर्चा की जाएगी। राज्य की ज्वलंत समस्याओं तथा पेयजल के बारे में उचित कार्रवाई करनी चाहिए। गन्ना उत्पादक किसानों को पूरक समर्थन मूल्य देना चाहिए। शीघ्र किसानों का फसल ऋण माफ करना चाहिए। केंद्र तथा राज्य सरकार को सूखा राहत तथा फसल बीमा राशि किसानों के खाते में जमा करनी चाहिए। गांवों के तालाबों से गाद हटाने का कार्यक्रम लागू करना चाहिए। हमारा खेत हमारी सड़क योजना को लागू करना चाहिए। राज्य की जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार को तुरन्त नदियों को जोडऩे का निर्णय लेना चाहिए।
उन्होंने कहा कि चीनी मिलें अधिकतर राजनेताओं की हैं। इसके चलते चीनी मिल मालिकों को राजनीति में मौका नहीं देना चाहिए। राज्य सरकार से जनता तंग आ गई है। व्यक्तिगत स्वार्थ की खातिर संघर्ष कर रहे जनप्रतिनिधियों को निर्वाचित कर के भेजना हमारा दुर्भाग्य है।
संवाददाता सम्मेलन में उलवप्पा वोडेयर, सुधिरकुमार, निंगप्पा ज्योतिनायकर समेत कई उपस्थित थे।