स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

व्यापक अपशिष्ट प्रबंधन योजना को लगा ग्रहण

Zakir Pattankudi

Publish: Jul 17, 2019 19:49 PM | Updated: Jul 17, 2019 19:49 PM

Hubli

व्यापक अपशिष्ट प्रबंधन योजना को लगा ग्रहण
-कॉम्पैक्ट स्टेशन निर्माण को जनता व जनप्रतिनिधियों का विरोध
-जून अंततक पूरा होने की उम्मीद पर पानी फिरा
-छह में मात्र दो का कार्य पूरा
हुब्बल्ली

व्यापक अपशिष्ट प्रबंधन योजना को लगा ग्रहण
हुब्बल्ली
हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर निगम की ओर से गठित व्यापक अपशिष्ट प्रबंधन योजना को शुरुआत में ही ग्रहण लगा है। कॉम्पैक्ट स्टेशन निर्माण के लिए जनता की ओर से कड़ा विरोध व्यक्त हो रहा है तो वहीं कुछ जगहों पर जनप्रतिनिधियों के भी विरोध व्यक्त करने से समस्या खड़ी हुई है।
महानगर के कचरा निस्तारण को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए लगभग 60 करोड़ रुपए की लागत में महानगर निगम ने व्यापक अपशिष्ट प्रबंधन योजना गठित की है। हुब्बल्ली में चार तथा धारवाड़ में दो कॉम्पैक्ट स्टेशन निर्माण करने का फैसला लिया गया है। इन स्टेशनों में स्थित कंटेनरों में कचरा डालने से सभी ऑटो-रिक्शा डम्परों को अंचटगेरी के डंपिंग यार्ड जाने की जरूरत नहीं है। इससे समय तथा ऊर्जा की बचत ही योजना का मुख्य उद्देश्य है।


जनप्रतिनिधियों का विरोध


जनता के विरोध पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों के भी साथ देने से महानगर निगम अधिकारियों को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। महानगर निगम के चुनाव नजदीक हैं, इसके चलते कोई भी जनप्रतिनिधि योजना के बारे में बात नहीं कर रहे हैं। जनता को नहीं चाहिए तो यह योजना क्यों चाहिए इस मानसिकता में महानगर निगम के पूर्व पार्षद नजर आ रहे हैं। आए दिन हो रहे महानगर निगम के आयुक्त के तबादले से भी योजना पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। सितम्बर 2018 में पहला कॉम्पैक्ट स्टेशन पूरा हुआ था। इसके आधार पर जून 2019 के अंततक सभी कॉम्पैक्ट स्टेशनों के पूरा होकर कार्य आरम्भ करने की उम्मीद थी परन्तु जनता के भारी विरोध के चलते असम्भव लग रहा है। कई बार स्थानीय लोगों को समझाइशी का कार्य भी हुआ है। जनता के नहीं मानने के चलते आखिरी हथियार के तौर पर पुलिस की मदद से योजना को लागू करने की अनिवार्यता की राय पर अधिकारी आए हैं।


कॉम्पैक्ट स्टेशनों की स्थिति


महानगर निगम कार्य क्षेत्र में निर्धारित छह कॉम्पैक्ट स्टेशनों में से इंदिरा नगर स्थित महानगर निगम क्षेत्रीय कार्यालय संख्या 11 परिसर तथा उणकल में निर्माण हुए हैं और प्रायोगिक तौर पर कार्य आरम्भ हुआ है। बकाया बेंगेरी चीकू बाग परसिर में चल रहा निर्माण कार्य स्थगित हुआ है। नंदिनी ले आउट में कॉम्पैक्ट स्टेशन निर्माण को लेकर स्थानीय लोगों के भारी विरोध के कारण कार्य आरम्भ नहीं हुआ है। धारवाड़ के कल्याण नगर में कार्य लगभग पूरा हुआ है। फिश मार्केट में कॉम्पैक्ट स्टेशन निर्माण के लिए निर्धारित की गई जमीन योग्य नहीं है। हालही में चिन्हित जमीन पुरात्तव विभाग के कार्यक्षेत्र में आने से विभाग के अधिकारियों ने अनुमति नहीं दी है। इसके चलते दूसरी जगह तलाश रहे हैं। अधिकारियों की ओर से चिन्हित सभी जगहें महानगर निगम के स्वामित्व में होने के बाद भी जनता का विरोध है।


जनता का विरोध क्यों


लोगों का कहना है कि महानगर निगम के अधिकारियों में योजना को लागू करने तथा आरम्भ में दिखाई देने वाली रुची बाद में नहीं रहती। कॉम्पैक्ट स्टेशनों के निर्माण होने से आसपास के इलाकों में बदबू, स्वच्छता की कमी, विभिन्न बीमारियों के फैलने का भय रहता है। महानगर निगम स्वच्छता पर अधिक जोर नहीं दे रहा है। आरम्भ में उतनी अधिक समस्या नहीं होने पर भी आगामी दिनों में इन कॉम्पैक्ट स्टेशनों के आसपास जीवन बिताना मुश्किल हो जाएगा। कॉम्पैक्ट स्टेशन होने से वाणिज्य भवनों को उम्मीद के हिसाब से किराया नहीं मिलेगा।


शहर के बाहर हो कॉम्पैक्ट स्टेशन


जन-आबादी वाले इलाकों में कॉम्पैक्ट स्टेशन निर्माण को आगे आना सही नहीं है। महानगर निगम के अधिकारियों के बातों पर हमें विश्वास नहीं है। अधिकारी कहते कुछ हैं और करते कुछ हैं। स्वच्छता कायम नहीं रखने पर जीवन गुजारना बहुत कठिन होगा। इसके चलते शहर के बाहर ही कॉम्पैक्ट स्टेशनों का निर्माण करना उचित है।
-उमेश सूर्यवंशी, निवासी, बेंगेरी


जनता का सहयोग जरूरी


कॉम्पैक्ट स्टेशन निर्माण करने से जनता को किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होगी। कचरे को ऑटो-रिक्त डम्पर से सीधे विशाल कंटेनरों में डालकर वहां से अंचटगेरी डंपिंग यार्ड पहुंचाने से स्टेशनों में कचरा डालने का सवाल ही नहीं है। कॉम्पैक्ट स्टेशनों को वैज्ञानिक तौर पर निर्माण करने से बदबू समेत कोई समस्या नहीं होगी। महानगर निगम के विकास के लिए जनता को सहयोग देना चाहिए।
-आर. विजयकुमार, कार्यकारी अभियंता, ठोस कचरा प्रबंधन