स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ओवरब्रिज से बढ़ेंगे हादसे

Zakir Pattankudi

Publish: Aug 18, 2019 20:11 PM | Updated: Aug 18, 2019 20:11 PM

Hubli

ओवरब्रिज से बढ़ेंगे हादसे
-क्षेत्रवासियों ने लगाया आरोप
हुब्बल्ली

ओवरब्रिज से बढ़ेंगे हादसे
हुब्बल्ली
शहर के देसाई सर्कल के पास राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 218 पर स्थित रेलवे ओवरब्रिज कार्य पूरा होने के बाद यह क्षेत्र हादसों का क्षेत्र (एक्सीडेंट जोन) में परिवर्तित होने की आशंका है। यह आरोप क्षेत्र के लोगों ने लगाया है।
लोगों का कहना है कि राष्ट्रीय राजमार्ग नियमों के तहत भू-अधिग्रहण कर सड़क निर्माण करने के लिए अनिवार्य तौर पर सड़क तीस मीटर चौड़ी होनी चाहिए। भू-अधिग्रहण का मौका नहीं होने के संदर्भ में यह सड़क कम से कम 12 मीटर होनी अनिवार्य है। देसाई सर्कल पर स्थित 20 मीटर सड़क पर ही 12 फीट की दो सर्विस रोड का निर्माण किया गया है। इसके अलावा पुल के दोनों ओर दीवार का निर्माण करने के लिए चार फीट जगह का इस्तेमाल किया गया है। इसके चलते फिलहाल हुब्बल्ली-सोलापुर राष्ट्रीय राजमार्ग के लिए केवल दस मीटर सड़क बची है। इस सड़क पर वाहनों के दबाव को देखने पर यह बहुत छोटी होने का लोगों का आकलन सच लग रहा है। यहां भूमि अधिग्रहण के लिए मौका होने पर भी अधिकारियों ने भूमि अधिग्रहण नहीं करके मौजूदा सड़क पर ही ओवरब्रिज व सर्विस रोड निर्माण करने का फैसला लिया जो लोगों के आक्रोश का कारण बना।

बढ़ेगी समस्या

इस सड़क पर चन्नम्मा सर्कल की ओर से आने वाले वाहन तंग मार्ग से चौड़ी सड़क को मिलते हैं परन्तु केश्वापुर की ओर से आने वाले वाहनों को चौड़ी सड़क पर आकर तंग सड़क से गुजरना पड़ेगा। इसमें भी वनवे होने से आमतौर पर इस सड़क पर वाहन तेज रफ्तार से ही आते हैं परन्तु चौड़ी सड़क मानकर बाईं ओर से ही तेज गति से वाहन आने पर हादसा होना पक्का है।

एक्सीडेंट जोन बनने के नजर आ रहे हैं सभी लक्षण

खास तौर पर चौड़ी सड़क मानकर दो वाहन एक साथ ही आने पर बाईं ओर के वाहन चालक की हालत बता नहीं सकते। दूसरी ओर वाहनों को उसी रफ्तार में दाएं भाग पर मुडऩे पर बगल के वाहन या फिर सामने के वाहनों से टकरा जाने की आशंका बनेगी। यह इस सड़क का वास्तविक नजारा है। चार-पांच बार ब्ल्यू प्रिंट तैयार कर कार्य करने पर भी इस सड़क की हालत में किसी भी कारण सुधार होने की संभावना भी नहीं है। इसलिए जरूरी भूमि अधिग्रहण किए बिना, मौजूदा जमीन पर ही पुल निर्माण करने का फैसला लिया। इससे एक्सीडेंट जोन बनने के सभी लक्षण नजर आ रहे हैं।

हादसे होने की आशंका सता रही

इस बारे में स्थानीय निवासी अनंतराज मेलांट ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के सहायक अभियंता गंगाधर चलगेरी तथा केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी, पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टर को पत्र लिखकर ध्यान खींचने का प्रयास किया है परन्तु अब तक कोई परिवर्तन की कार्रवाई करने के बारे में प्रतिक्रिया नहीं मिल रही है। लोगों को हादसे होने की आशंका सता रही है।