स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

झोपड़ी में जिंदगी गुजार रहा था शहीद का परिवार, युवाओं ने बनवाकर दिया ये घर

Shiwani Singh

Publish: Aug 17, 2019 18:59 PM | Updated: Aug 17, 2019 19:05 PM

Hot on Web

  • झोपड़ी में रह रहा था शहीद का परिवार ( madhya pradesh martyrs family )
  • युवाओं ने बनवाकर दिया खूबसूरत घर
  • हथेली पर पांव रखवाकर शहीद की बेवा को कराया गृह प्रवेश

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश ( madhya pradesh ) में कुछ युवा एक शहीद के परिवार ( martyrs family ) के लिए वरदान बनकर सामने आएं। झोपड़ी में जिंदगी गुजार रहे शहीद के परिवार के लिए इन युवाओं ने चंदा जुटाकर खूबसूरत सा घर बनाया। युवाओं ने अपनी हथेलियों पर चला कर शहीद की बेवा को गृह प्रवेश भी कराया। अनोखे गृह प्रवेश का यह वीडियो सोशल ( social media )मीडिया पर वायरल हो रहा है।

यह भी पढ़ें-जानिए एक ऐसे किसान की कहानी जिसने अपनी बंजर भूमि से कमाए लाखों रुपए

बता दें कि यह मामला है मध्यप्रदेश के देपालपुर के एक छोटे से पीर पीपलियां ( peer pipliya village ) गांव का है। शहीद हवलदार मोहन सिंह सुनेर का 27 साल पहले निधन हो गया था। पूरे परिवार में मोहन सिंह ही कमाने वाले थे।

लेकन उनका परिवार अभी तक कच्चे मकान में रहने को मजबूर था। सरकार की तरफ से शहीद के परिवार की कोई मदद नहीं की गई थी। लेेकिन इन युवाओं ने मदद का हाथ बढ़ाते हुए शहीद की विधवा को राखी और स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर ये आशियाना भेंट किया।

जिसके बाद इन युवाओं की हर कोई तारीफ कर रहा है। सीएम कमलनाथ और पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी इन युवाओं की जमकर तारीफ की।

पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर लिखा, 'इंदौर के बेटमा गांव के युवाओं ने शहीद के परिवार की मदद कर देशभक्ति की मिसाल कायम की है। आप जैसे युवा ही भारत की असली पहचान हैं।

आप सभी ने सच्चे अर्थों में साबित किया है कि देश की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्योछावर करने वाले का परिवार उसके जाने के बाद देश का परिवार बन जाता है।'

यह भी पढ़ें-Paytm अकाउंट पर मंडरा रहा है खतरा!, कंपनी ने जारी की एडवाइजरी

शहीद की विधवा को घर देते समय युवाओं ने उन्हें अपनी हथेली पर चलाकर गृह प्रवेश कराया। जिसका एक वीडियो भी सामने आया है।

वीडियो में देखा जा सकता है कि कई युवाओं ने अपनी हथेली शहीद की बेवा के लिए जमीन पर बिछा दिए। जिसके बाद उस पर चलकर शहीद की पत्नी ने अपने नए घऱ में प्रवेश किया। देखें वीडियो-