स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

70 साल की महिला के ज़ज्बे को सलाम, आज भी पकाती है चूल्हे पर खाना करती है गरीबों की फ्री में सेवा

Pratibha Tripathi

Publish: Sep 16, 2019 15:56 PM | Updated: Sep 16, 2019 15:57 PM

Hot on Web

  • कोयंबटूर में एक रुपये में इडली खिलाने वाली अम्मा
  • गरीब लोगों को मुफ्त में इडली खिलाने वाली रानी की कहानी
  • 85 साल की उम्र पार कर चुकीं कमलातल की कहानी हो रही है वायरल
  • सोशल मिडिया पर तेजी से वायरल हुई इडली देने वाली 'अम्मा'

नई दिल्ली। तमिलनाडु के कोयंबटूर में एक रुपए में इडली बेचने वाली अम्‍मा कमलाथल एक समय सोशल मीडिया पर काफी सुर्खियां बटोरती हुई नजर आई थी जिनके काम को देख वह हर किसी के लिये प्रेरणा बनकर उभरी। अभी उनके काम की चर्चा लोगों की जुबान से उतरी नही थी कि अब अग्नि तीर्थम में रहने वाली एक 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला की अदम्य भावना सामने आई है। रामेश्वरम के नजदीक फुटपाथ के किनारे पर बैठकर अपनी दुकान चलाने वाली यह महिला गरीबों कि नि:स्वार्थ सेवा कर रही है गरीबों को वह फ्री में इडली खिलाती हैं।

पैसे ना देने पर दबाब नही डालती
बैसे तो रानी प्रति प्लेट इडली के लिए 30 रुपये लेती हैं लेकिन जब कोई गरीब ग्राहक उनके पास पहुंचता है और पैसे नही दे पाता है तो वह पर इसके लिए जोर नहीं डालतीं। यदि पैसे नहीं हैं तो वह फ्री में ही इडली खा सकते हैं। रानी की यह मदद खासतौर पर उन गरीब तबके के लोगों के लिए है, जिनके पास खाने के लिए पैसे नहीं होते। रानी के अनुसार वह रोज चूल्हे पर खाना बनाती हैं और ईंधन के रूप में लकड़ी का इस्तेमाल करती हैं।
एक रुपये में इडली देने वाली 'अम्मा'
गौरतलब है कि तमिलनाडु के कोयंबटूर जिले की 80 साल की एक वृद्ध महिला कमलाथल भी अपने गांव में काम करने वाले गरीब मजदूरों को सिर्फ एक रुपए में भर प्लेट इडली और सांभर खिलाती हैं। गरीबों की मदद के लिये कड़ी मेहनत करने वाली कमलाथल की कहानी जब सोशल मीडिया पर तेजी के साथ फैली। तो उनके सराहनीय काम को देखते हुये कई लोग उनकी मदद के लिये आगे बढ़ने लगे। और उनकी मदद करने लगे। उन्हें फ्री में रसोई गैस कनेक्शन दिया गया है।