स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ट्रांसजेंडर पुजारी जो लोगों की मुसीबतें करती हैं दूर , 13 साल से भगवान की कर रही हैं आराधना

Priya Singh

Publish: Sep 16, 2019 12:20 PM | Updated: Sep 16, 2019 12:41 PM

Hot on Web

  • रवि अम्मा एक किन्नर हैं जो एक मंदिर की पुजारी भी हैं
  • 13 साल से रवि अम्मा मंदिर की हैं पुजारी

नई दिल्ली। भगवान के लिए सभी प्यारे हैं क्या नर क्या नारी। रवि अम्मा एक किन्नर हैं जो एक मंदिर की पुजारी भी हैं। कोई दुखिया अगर उनके पास आता तो वे उसे आशीर्वाद देती हैं ताकी उनकी सारी तकलीफ दूर हो जाए। आज 13 साल से रवि अम्मा इस मंदिर की पुजारी हैं। रवि अम्मा बचपन में स्कूल जाने के बजाय मंदिर जाया करती थीं और मंदिर में भगवान की पूजा किया किया करती थीं। 10 साल की उम्र में उन्हें पता चल गया था कि उनका शरीर पुरुष का है लेकिन आत्मा एक महिला की। तमिल पिक्टरों से प्रेरित होकर वे साड़ी पहनने लगीं और अम्मा (देवी) की तरह जीवन जीने लगीं।

ravi_amma.jpg
IMAGE CREDIT: newindianexpress

भारत ट्रांसजेडर के हालत में तो हर किसी को पता है लेकिन रविकुमार के शरीर में बदलाव को लेकर उनके परिवार और रिश्तेदारों ने उनका साथ दिया और आज तक दे रहे हैं। रवि अम्मा का कहना है कि एक बार जब उनके परिवार को पता चला कि वो भगवान के शरण में जा रहे हैं तो किसी ने उन्हें रोका नहीं। आज भी रवि अम्मा अपने परिवार के साथ रहती हैं। उन्होंने वेदों (धार्मिक ग्रंथों) और प्रार्थनाओं को स्थानीय मंदिरों से पुजारियों के मार्गदर्शन के माध्यम से सीखा।

pujari.jpg
IMAGE CREDIT: newindianexpress

रवि अम्मा ने अब तक अपने इलाके एक बड़ा नाम कमाया है और वे अपने लोगों के लिए हमेशा कुछ अच्छा करने की उम्मीद करती हैं। पुरोहित ने कहा कि एक दिन, वह चाहेगी कि लोग कहें कि एक ट्रांसजेंडर होने के बावजूद, उसने जीवन में और धर्म में बहुत कुछ हासिल किया है। "मैं नहीं चाहता कि लोग मुझे देखें और कहें कि ये किन्नर पैदा हुई और मर गई। इसके बजाय, मैं चाहूंगा कि लोग मुझे देखें और कहें, एक ट्रांसजेंडर होने के बावजूद, वह अब तक आई हैं और अपने पूरे जीवन में धर्म में बहुत सम्मान और एक बड़ा नाम कमाया है।'