स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

3 साल का हुआ 'खजांची', अखिलेश ही नहीं पूरी समाजवादी पार्टी मुरीद है इस बच्चे की...

Prakash Chand Joshi

Publish: Nov 08, 2019 10:34 AM | Updated: Nov 08, 2019 10:34 AM

Hot on Web

  • अखिलेश यादव ने रखा था बच्चे का नाम
  • बैंक की लाइन में हुआ था खजांची का जन्म

नई दिल्ली: आज 8 नवंबर 2019 तारीख है, लेकिन 8 नवंबर 2016 का वो दिन शायद ही कोई भूला होगा। इस दिन देश के पीएम नरेंद्र मोदी ने रात 8 बजे नोटबंदी करके देश के लोगों को चौंका दिया था। अब इस नोटबंदी के 3 साल हो गए हैं। नोटबंदी के समय पर लोगों को पैसा निकालने के लिए लंबी-लंबी कतारों में लगना पड़ा था। वहीं समाजवादी पार्टी हर साल इस दिन का जश्न मनाती है। चलिए जानते हैं क्यों।

[MORE_ADVERTISE1]akhilesh2.png[MORE_ADVERTISE2]

पिछले साल किया था घर गिफ्ट

दरअसल, 2 दिसंबर 2016 को उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात की एक महिला ने बैंक की लाइन में एक बच्चे को जन्म दिया। वहीं यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ( akhilesh yadav ) ने इस बच्चे का नाम 'खजांची' रखा था। हर साल वो इस बच्चे का जन्मदिन मनाते हैं। यही नहीं पिछले साल जब खजांची 2 साल का हुआ था तो अखिलेश ने उन्हें घर गिफ्ट किया था। वहीं इस साल लखनऊ स्थित सपा के दफ्तर में खजांची ( Khajanchi ) का जन्मदिन मनाया जाएगा। बताया जा रहा है कि खुद अखिलेश यादव भी इस जन्मदिन पार्टी में शामिल होंगे। पिछले साल घर गिफ्ट करने के लिए खुद अखिलेश खजांची के पैतृक गांव सरदार पुरवा भी पहुंचे थे और उपहार में दिए आवास का निरीक्षण किया।

रस्में छोड़ मैच देखने लग गया ये पाकिस्तानी दूल्हा, खुद ICC ने लिखी ये बड़ी बात

[MORE_ADVERTISE3]akhilesh1.png

खजांची के बहाने पीएम मोदी पर निशाना

नोटबंदी के दौरानी खजांची की मां सर्वेषा 2 दिसंबर को पंजाब नेशनल बैंक जाकर पैसा निकालने के लिए सुबह 11 बजे से लाइन में लगी थी। वहां उन्हें प्रसव पीड़ा हुई और उन्होंने एक बच्चे को जन्म दिया। खबर मीडिया द्वारा अखिलेश यादव तक पहुंची, तो उन्होंने बैंक में पैदा होने के कारण बच्चे का नाम खजांची रख दिया। साथ ही मां को 1 लाख रुपये की सहायता राशि दी थी। वहीं अखिलेश खजांची के बहाने पीएम नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधते हुए देख गए हैं। वो अक्सर अपनी सभाओं में तंज कसने केलिए खजांची का जिक्र करते के साथ ये साबित करने की कोशिश करते हैं कि मोदी सरकार के कदम से पीड़ित लोगों की उन्होंने मदद की।