रिपोर्ट में हुआ नींद उड़ाने वाला खुलासा! यहां सुबह-सुबह ही बच्चे कर रहे हैं ऐसा काम, खड़ी हो सकती है बड़ी मुसीबत

Priya Singh

Publish: Feb 04, 2019 11:37 AM | Updated: Feb 04, 2019 11:37 AM

Hot on Web

तीन से छह साल की उम्र के बच्चों के लिए मटर के आकार जितने टूथपेस्ट की सिफारिश की गई है और जिन बच्चों की उम्र तीन से कम है उनके लिए चावल के आकार जितना टूथपेस्ट प्रयोग करने को कहा गया है।

नई दिल्ली। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन (सीडीसी) की रिपोर्ट के मुताबिक, अमरीका में कई बच्चे आधिकारिक तौर पर की गई सिफारिश की तुलना में अधिक टूथपेस्ट का प्रयोग करते हैं। यह रिपोर्ट शुक्रवार को प्रकाशित हुई। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने रिपोर्ट के हवाले से कहा, "2013-16 डेटा के विश्लेषण में पाया गया कि तीन से छह साल की उम्र के 38 फीसदी से ज्यादा बच्चे सीडीसी और अन्य पेशेवर संगठनों द्वारा की गई सिफारिश की तुलना में अधिक टूथपेस्ट का प्रयोग करते हैं।" रिपोर्ट के मुताबिक, तीन से छह साल की उम्र के बच्चों के लिए मटर के आकार जितने टूथपेस्ट की सिफारिश की गई है और जिन बच्चों की उम्र तीन से कम है उनके लिए चावल के आकार जितना टूथपेस्ट प्रयोग करने को कहा गया है।

यह भी पढ़ें- World Cancer Day: हर साल इस राज्य में तंबाकू से मरते हैं 90 हजार लोग, आंकड़ा है चौंकाने वाला

 

सीडीसी ने यह भी पाया कि तीन से 15 साल की उम्र के करीब 80 फीसदी बच्चें काफी देर से ब्रश करना शुरू करते हैं जबकि उन्हें जन्म के छह महीने बाद ही ब्रश करने की सलाह दी जाती है। फ्लोराइड का उपयोग दांतों के सड़ने से बचने में मदद कर सकता है लेकिन सीडीसी ने बच्चों से दंत फ्लोरोसिस के संभावित जोखिम को रोकने के लिए दो साल की उम्र में फ्लोराइड टूथपेस्ट का उपयोग शुरू करने की सिफारिश की है।

यह भी पढ़ें- क्यों होती है अखबार पर ये चार रंगीन बिंदियां, बच्चे कभी पूछ लें तो क्या देंगे जवाब...

सीडीसी ने परिजनों और देखभाल करने वालों लोगों को बच्चों द्वारा सिफारिश की गई टूथपेस्ट की मात्रा के साथ ब्रश करने को सुनिश्चित करने की सलाह दी है। स्वास्थ्य कर्मी और संगठन भी इस दिशा में जानकारी मुहैया करा मदद कर सकते हैं। सीडीसी स्वास्थ्य एवं मानव सेवा विभाग के अंतर्गत अमरीका की एक संघीय एजेंसी है और इसका मुख्यालय जॉर्जिया के अटलांटा में है।

यह भी पढ़ें- एक यात्री के बैग से आ रही थी अजीब-अजीब आवाजें, खोला तो एयरपोर्ट अधिकारियों का दहल गया दिल