स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भूकंप बाढ़ से हो रही मौतो को देख 7 वर्ष की बच्ची नें जलवायु परिवर्तन को ले कर उठाया ये कदम

Pratibha Tripathi

Publish: Sep 14, 2019 18:26 PM | Updated: Sep 14, 2019 18:26 PM

Hot on Web

  • जानें 7 वर्ष की बच्ची लिसेप्रिया कंगुजम के बारे में
  • 7 वर्ष की बच्ची लिसेप्रिया कंगुजम जलवायु परिवर्तन को लेकर किस तरह का कर रही है काम

नई दिल्ली। जिस उम्र में बच्चे खेलना कूदना और स्कूल जाना पसंद करते है। उस उम्र में जब कोई बच्चा नोबेल पुरस्कार के लिए नामित हो जाए, तो जाहिर है ये सोचने वाली बात बन जाती है। कि क्या ऐसा भी हो सकता है। जीं हां। इस बात को सच कर देने वाली ग्रेटा अर्नमैन थनबर्ग एक ऐसा ही नाम है जिन्होनें जलवायु परिवर्तन और उसके दुष्प्रभावों से लोगों को जागरूक करने के लिए 2019 के नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया गया है ग्रेटा अर्नमैन थनबर्ग स्वीडन की एक स्कूली छात्रा हैं। इस छोटी से ही उम्र में इस बच्ची ने जानलेवा जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लडाई लड़ी थी। इस लड़की नें इस जंग की शुरूआत अकेली ही की थी इस छात्रा के बुलंद हौसलों को देखते हुए फिर धीरे धीरे लोग इस अभियान से जुड़ते गए।और आगे चलकर इस अभियान नें एक बड़ा रूप ले लिया।और जलवायु परिवर्तन के इस अभियान ने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लिया।
दरअसल जलवायु परिवर्तन और इससे होने वाला दुष्प्रभाव एक ऐसा मुद्दा है जिसकी चिंता किसी को नही है। इसका प्रभाव किसी देश की अर्थव्यवस्था से लेकर आम नागरिक के स्वास्थ्य पर सीधा कर रही है। आज की भावी पीढ़ी को इससे सांस लेने में दिक्कत आ रही है। लेकिन इसके सवाल का जबाब किसी के पास नही है।

हाल ही में ग्रेटा थनबर्ग ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी वीडियो संदेश भेजकर जलवायु परिवर्तन पर गंभीर कदम उठाने की मांग की। जिसके लिये मोदी नें इस बात को समझते हुये इस पर विचार किया।
लेकिन यह समस्या किसी एक देश की ही नही ,बल्कि पूरी दुनिया की सबसे बड़ी समस्या बन चुकी है। जिसके लिये हमारे देश की एक छोटी से बच्ची नें इस कार्य की जिम्मेदारी अपने नन्हें कंधो पर ले ली है। मणिपुर की सात साल की बच्ची लिसेप्रिया कंगुजम अब भारत को नई दिशा देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। लिसेप्रिया कंगुजम स्विट्जरलैंड (Switzerland) के जिनेवा (Geneva) में संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करने जा रही है। लिसेप्रिया अभी दूसरी कक्षा की छात्रा है। यह 13 से 17 अप्रैल को आयोजित होने वाले छठे सत्र के आपदा जोखिम न्यूनीकरण 2019 (Global Platform for Disaster Risk Reduction 2019) में हिस्सा लेने जा रही है। कार्यक्रम का विषय “रेजिलिएंट डिविडेंड टुवर्ड्स सस्टेनेबल एंड इनक्लूसिव सोसाइटीज” है। लिसेप्रिया इस कार्यक्रम में सबसे कम उम्र की प्रतिभागी होगी जो संयुक्त राष्ट्र कार्यालय द्वारा आयोजित आपदा जोखिम न्यूनीकरण (यूएनआईएसटी) का हिस्सा बनेंगी।

lic_gra.jpg

लिसेप्रिया कंगुजम नाम की यह छोटी सी बच्ची एशिया के सभी बच्चों और युवाओं का प्रतिनिधित्व करेंगी। यह अभी अंतर्राष्ट्रीय युवा समिति (IYC) में बाल आपदा जोखिम न्यूनीकरण अधिवक्ता (Child Disaster Risks Reduction Advocate) के रूप में काम कर रही हैं। इस राष्ट्र ग्लोबल प्लेटफ़ॉर्म 2019 में 140 देशों के लोग जिसमें विभिन्न सरकारी, गैर-सरकारी, रेडक्रॉस की राष्ट्रीय समितियों, अकादमियों, बच्चों और युवा संगठनों और अन्य लोगों के 3000 से अधिक प्रतिनिधियों के हिस्सा लेने की उम्मीद है।
लिसेप्रिया ने एक इंटरव्यू के दौरान अपने मन की बात को शेयर करते हुए कहा था कि “मुझे डर लगता है जब मैं टीवी पर भूकंप, बाढ़ और सुनामी के कारण लोगों को मरते हुए देखती हूं। जिसमें बच्चे अपने माता-पिता को खोते हैं या लोग आपदाओं के खतरों के कारण बेघर हो जाते हैं तो मुझे रोना आता है। मैं सभी से आग्रह करती हूं कि आप सब मेरी मदद करें,दिमाग और जुनून के साथ एक होकर इस दुनियां को बेहतर बनाने की कोशिश करें।