स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सावन के पहले सोमवार मैं बन रहा यह शुभ योग, कई गुना ज्यादा मिलेगा पूजा का फल

Sandeep Nayak

Publish: Jul 20, 2019 18:15 PM | Updated: Jul 20, 2019 18:15 PM

Hoshangabad

चंदन से लिखा बेलपत्र पर राम नाम बदल सकता है आपकी किस्मत

होशंगाबाद। वैसे तो सावन का पूरा महिना ही शुभ फलदायक रहता है। लेकिन इस बार सावन का पहला सोमवार पर खास योग बन रहा है। इस दिन पूजा करने से कई गुना ज्यादा फल मिलेगी। पंडि़त शुभम दुबे के अनुसार भगवान भोलेनाथ का पवित्र श्रावण मास प्रारंभ हो चुका है सावन के महीने में भगवान शिव का रुद्राभिषेक किया जाता है। कहते हैं अलग-अलग चीजों से रुद्राभिषेक करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। इस बार सावन के महीने की खास बात यह है कि इस बार सावन के 4 सोमवार होंगे। सावन का और पहला सोमवार भी भगवान भोलेनाथ का आने वाला है शास्त्रों में श्रावण सोमवार का बड़ा विस्तार से विधान किया है पहला सावन सोमवार 22 जुलाई को है. इस दिन की खास बात ये है कि सोमवार सुबह से ही शुभ योग बन रहा है। सावन के पवित्र महीने में चार सोमवार होंगे। शिव पूजा करने वालों के लिए ये दिन बेहद खास होते हैं। पंडि़त दुबे के अनुसार सावन के पहले सोमवार के दिन कई सुंदर योग बने हैं, जो पूजा के फल को कई गुना ज्यादा बढ़ा देंगे। सावन मास में नक्षत्रों में उत्तम श्रवण नक्षत्र में सावन का पहला सोमवार शुरू होगा। सोमवार के दिन सर्वार्थ सिद्ध योग का शुभ योग बनेगा। यह योग अपने नाम के अनुसार सभी प्रकार की सिद्धियां प्रदान करने वाला है। यानी जिस कामना से आप काम आरंभ करेंगे, वो काम अवश्य पूरा होगी? इसके अलावा प्रीति योग भी बनेगा। जो भगवान शिव के प्रति श्रद्धा भाव बढ़ाकर शिव कृपा प्रदान कर आएगा।

 

सोमवार व्रत से मिलता है यह वरदान
सावन के सोमवार को भगवान शंकर की आराधना करने से न सिर्फ रुके हुए काम पूरे होते हैं, बल्कि भक्तों पर भगवान की विशेष कृपा होती है। सोमवार को शिव पूजा करने वाली माताओं बहनों को मनोवांछित वर प्राप्त होता है। वहीं, भाइयों को नौकरी में वृद्धि बुद्धि विवेक की जागृति व्यापार में उत्तरोत्तर वृद्धि होती है। भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा करने वाले भक्तों पर भगवान प्रसन्न होते हैं।

 

सावन के सोमवार
इस बार सावन में 4 सोमवार आएंगे। पहला सोमवार 22 जुलाई को है। दूसरा 29 जुलाई को और तीसरा सोमवार 5 अगस्त को चौथा और सावन का आखिरी सोमवार 12 अगस्त को है। 15 अगस्त को सावन का आखिरी दिन है।