स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सजा से ज्यादा जेल भुगत चुका हूं,आगामी विधानसभा चुनाव तक मुक्त होने की उम्मीदःचौटाला

Prateek Saini

Publish: Jun 07, 2019 21:01 PM | Updated: Jun 07, 2019 21:01 PM

Hisar

चौटाला ने कहा कि अभी वे मात्र चौदह दिन की पेरोल पर आए हैं और समय कम होने के कारण एक दिन में तीन जिलों में कार्यकर्ताओं की सभाओं में पहुंच रहे हैं...

(हिसार,पंचकूला): हरियाणा की पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ओपी चौटाला ने आज पंचकूला में पार्टी कार्यकर्ताओं की सभा में कहा कि वे अपनी सजा से ज्यादा जेल भुगत चुके हैं। अब उन्हें आगामी विधानसभा चुनाव तक उनके बीच पहुंचने की उम्मीद है।


चौटाला ने कहा कि अभी वे मात्र चौदह दिन की पेरोल पर आए हैं और समय कम होने के कारण एक दिन में तीन जिलों में कार्यकर्ताओं की सभाओं में पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोग मौजूदा सरकार से निराश हैं और इसे बदलना चाहते हैं। ऐसी स्थिति में इनेलो की सरकार बनने की संभावना मजबूत है। कार्यकर्ता आगामी विधानसभा चुनाव में अच्छे प्रत्याशियों के चयन में सहयोग करें और मेहनत के साथ चुनाव लडें। उन्होंने कहा कि पार्टी प्रत्याशियों की तन-मन और धन से मदद की जाएगी। आर्थिक रूप से कमजोर प्रत्याशियों को जनसहयोग से मदद दिलाई जाएगी।


उन्होंने कहा कि प्रदेश के राजनीतिक हालात में इनेलो की सरकार बनेगी। सरकार की नीतियों के जरिए सभी की परेशानियां दूर की जायेंगी। इनेलो की सरकार आमजन के हित में नीतियां बनाएगी। साथ ही हरियाणा को अन्तरराष्ट्रीय स्तर का प्रदेश बनाया जाएगा। प्रदेश के हर पढे-लिखे युवा को बगैर राजनीतिक भेदभाव के रोजगार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 3206 युवाओं को नौकरी देने पर उन्हें दस साल की जेल हुई। अब भी वे युवाओं को नौकरी देने का काम करेंगे, चाहे फांसी ही क्यों न हो जाए।


चौटाला ने प्रदेश की भाजपा सरकार का नेतृत्व कर रहे मुख्यमंत्री मनोहर लाल पर अपने हरियाणवी प्रहार जारी रखते हुए कहा कि वे खट्टर हैं। हरियाणवी में खट्टर का मतलब है कि ऐसा पशु जो काम नहीं करता। हालांकि मुख्यमंत्री के बारे में चौटाला की इस तरह की टिप्पणियों को लेकर कड़ी आलोचना की जा रही है लेकिन चौटाला ने अपना रुख नहीं बदला है। उन्होंने कहा कि जो अच्छे लोग पार्टी से बाहर रह गए हैं। उन्हें शामिल करने का काम किया जाए और पार्टी छोड़ गए गद्दारों को किसी हालत में नहीं आने देना है। उन्होंने कहा कि अगर कोई गद्यार पार्टी में रह गया है, तो उसे भी बाहर का रास्ता दिखाया जाए।