स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

HEALTH : ब्रेन पॉवर बढाना चाहते हैं तो आज से ही करें ये काम

Ramesh Kumar Singh

Publish: Aug 23, 2019 22:12 PM | Updated: Aug 23, 2019 22:12 PM

Health

एक अध्ययन के मुताबिक स्पोट्र्स खेलने वालों में बीमारियों से मौत का खतरा 47 प्रतिशत तक कम और ब्रेन पॉवर बेहद मजबूत होती है। जो लोग बैडमिंटन, टेनिस, फुटबॉल, रनिंग करते हैं उनकी उम्र व्यायाम न करने वालों की अपेक्षा ज्यादा होती है। बढ़ती उम्र के साथ बीमारियों की आशंका घटती है। सप्ताह में 150 मिनट की स्पोट्र्स गतिविधि जरूरी है।

 

 

स्पोट्र्स एक्टिविटी से व्यस्त दिनचर्या, काम के दबाव के बावजूद दिमाग की कार्यक्षमता बढ़ जाती है। शारीरिक रूप से फिट होने के साथ मानसिक रूप से व्यक्ति मजबूत होता है।
दौडऩा ( RUNNING )

पहले मॉर्निंग वॉक की आदत डालें। फिर धीरे-धीरे jogging करना शुरू करें। इसके बाद शरीर की क्षमतानुसार रनिंग करें। इससे शरीर लचीला होगा। शरीर के प्रत्येक अंग पर असर दिखेगा।
क्रिकेट- CRICKET

एकाग्रता, शरीर का लचीलापन बढ़ता है। पैरों की MUSCELS मजबूत होती हैं। शारीरिक संतुलन बढ़ता, हड्डियां व जोड़ मजबूत होते हैं। टीमवर्क की भावना भी बढ़ती है।
बास्केटबॉल- BASKET BALL

यह शरीर में ऊर्जा, गतिशीलता और प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। शरीर में फुर्ती, हाथों व आंखों के बीच समन्वय, दिमाग में त्वरित निर्णय की क्षमता बढ़ती है।
बैडमिंटन, टेनिस- BADMINTON, TENNIS

गति व दिशा के साथ खुद को संतुलित रखना सीखते हैं। ध्यान केन्द्रित करने की क्षमता बढ़ती है। तुरंत निर्णय लेना सीखते हैं। डिफेंस करना सीखते हैं। इसके अलावा मसल्स टोनअप, कंधे व बांहें मजबूत होती हैं।
फुटबॉल- FOOTBALL

मैदान में खेलने के लिए अपने पैरों का ज्यादा प्रयोग करने व शरीर का संतुलन अच्छा होता है। सांसों को नियंत्रित करने व डिफेंस करना सीखते हैं।
कबड्डी- KABADDI

कबड्डी शरीर को मजबूत और स्वस्थ बनाती है। फेफड़े व हृदय व स्वस्थ होते हैं। हाथ-पैरों की पकड़ व मांसपेशियों को भी मजबूती मिलती है।
जिम्नास्टिक - GYMNASTIC

शारीरिक फुर्ती के साथ बॉडी बैलेंसिंग में सबसे ज्यादा मददगार है। शरीर में लचीलापन बढ़ता है। सांसों पर नियंत्रण व आइ मूवमेंट भी सुधरता है।

उम्र सीमा नहीं
स्पोट्र्स के लिए कोई तय उम्र नहीं होती है। शरीरिक स्थिति के अनुसार खेल सकते हैं। कोई भी खेल गतिविधि से पहले बॉडी फिटनेस की जांच की जाती है। फिटनेस के बिना अपने मन से कोई खेल खेलना खतरनाक हो सकता है। शोधों में साबित हो चुका है कि SPORTS बच्चों की अच्छी ग्रोथ व बढ़ती उम्र को रोकने व बुजुर्गावस्था में बीमारियों से दूर रखने में मदद करती है।

EXPERT : डॉ. राजेंद्र के अहिरे, ऑथोपेडिक सर्जन , रायपुर
EXPERT : डॉ. राहुल उपाध्याय एंकल सर्जन, जयपुर