स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Mob lynching: मॉब लीचिंग की घटना टली, पुलिस ने भीड़ से दो व्यापारियों को बचाया

Prateek Saini

Publish: Jun 20, 2019 17:17 PM | Updated: Jun 20, 2019 17:17 PM

Hazaribagh

Mob lynching: पुलिस ( Jharkhand Police ) के समय रहते पहुंचने से बड़ी घटना टल गई नहीं तो दोनों लोग अपनी जान गंवा बैठते...

 

(रांची,हजारीबाग): झारखंड ( Jharkhand news ) के चतरा जिले के ईटखोरी थाना क्षेत्र में पुलिस की तत्परता की वजह से एक मॉब लीचिंग ( Mob lynching ) की घटना होने से बच गई। भीड़ ने चोर समझ कर दो व्यापारियों को बंधक बनाकर उनकी जमकर पिटाई कर दी, लेकिन मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों व्यापारियों को भीड़ के चंगुल से बचाकर अस्पताल में भर्ती कराया है।


प्राप्त जानकारी के अनुसार हजारीबाग ( hazaribagh news ) जिले के चौपारण थाना अंतर्गत महाराजगंज गांव के दो पशु व्यापारी अमन मियां और गुलाम हैदर कल (बुधवार देर शाम) मवेशी खरीदने ईटखोरी थाना क्षेत्र के धनखेरी गांव पहुंचे थे। ग्रामीणों ने दोनों को चोर समझकर पकड़ लिया और बिना कुछ सोचे-समझे जमकर धुनाई कर दी। मारपीट की इस घटना में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। लेकिन मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को भीड़ के चंगुल से मुक्त कराकर ईटखोरी स्वास्थ्य उपकेंद्र में उपचार के लिए भर्ती कराया।


बताया गया है कि पशु खरीदने पहुंचे दो व्यापारियों को ग्रामीणों ने चोर समझकर न सिर्फ जमकर धुनाई की, बल्कि बंधक बनाकर पीटते भी रहे। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ( jharkhand police ) ने ग्रामीणों के कब्जे से घायल पशु व्यापारियों को बचाकर अस्पताल में भर्ती कराया। इधर घटना की जानकारी मिलते ही सिमरिया एसडीपीओ सौरभ और डीएसपी मुख्यालय वरुण देवगम दलबल के साथ ईटखोरी पहुंचे। जहां अस्पताल में घायलों से पूछताछ करने के बाद दोनों घटना स्थल पहुंचे। सूत्रों के अनुसार पुलिस घटना में शामिल आधा दर्जन ग्रामीणों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

 

यह भी पढे: West Bengal violence: भाटापारा में दो गुटों में झड़प, एक की मौत, तीन घायल