स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Triple Talaq कानून बनने के बाद Mobile पर तीन तलाक, रिपोर्ट दर्ज

Dhirendra yadav

Publish: Aug 02, 2019 10:20 AM | Updated: Aug 02, 2019 10:20 AM

Hathras

-मथुरा के बाद हाथरस में पत्नी ने लिखाई एफआईआर
-कोरे कागज पर दस्तखत कराकर तलाकनामा बनाया
-दहेज के लिए मारपीट करने का भी आरोप लगाया

हाथरस। संसद ने कानून बनाकर तीन तलाक पर कानूनन प्रतिबंध लगा दिया है। इसके बाद भी तीन तलाक रुक नहीं रहा है। मथुरा के बाद हाथरस में भी तीन तलाक का मामला सामने आया है। मोबाइल पर तीन तलाक दे दिया। आरोप है कि कोरे कागज पर धोखे से हस्ताक्षर कराकर तलाकनामा बना दिया। पीड़िता की तहरीर पर आरोपी पति के खिलाफ मुस्लिम महिला प्रोटेक्शन ऑफ राइट मैरिज अधिनियम 2019 के साथ अन्य धाराओं महिला थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।

ये भी पढ़ें - #BreastFeedingWeek: मां का दूध बच्चे के लिए अमृत, Breast Feeding से नहीं होता फिगर खराब

हाथरस में जलेसर रोड पर कांशीराम कॉलोनी है। यहीं की रहने वाली हैं शमा परवीन। उन्होंने बताया कि आठ साल पहले उसकी शादी अहसान मिस्त्री पुत्र जहीद खां निवासी इस्लामनगर, सादाबाद से हुई थी। शादी के बाद से ही दहेज के लिए ससुराल वाले परेशान करने लगे। दो बेटे होने के बाद वह पति के साथ कांशीराम कॉलोनी, जलेसर रोड, हाथरस में किराये पर रहने लगी। दो महीने के बाद ही फिर से दहेज के लिए मारपीट शुरू कर दी गई। आरोप है कि पति अहसान मिस्त्री ने 15 जुलाई, 2019 को शमा औह बच्चों के साथ मारपीट की। मोबाइल पर तलाक-तलाक-तलाक का संदेश भेजा और एक बेटे को लेकर चला गया। इस बीच अहसान ने कोरे कागज पर यह कहकर दस्तखत ले लिए कि बिजली कनेक्शन कटवाना है। शमा का कहना है कि इसी कागज पर पति ने तलाकनामा लिखवा लिया है।

ये भी पढ़ें - मुर्गी फार्म की आड़ में शराब का चल रहा था बड़ा कारोबार, आगरा पुलिस ने किया खुलासा, देखें वीडियो

पति ने छोड़ दिया है, कार्रवाई की जाए
शमा का कहना है कि वह इस मामले में कई बार पुलिस से शिकायत कर चुकी है, लेकिन कुछ नहीं हुआ। उसका कहना है कि पति के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। उसने तलाक नहीं दिया है। पति ने छोड़ दिया है।

ये भी पढ़ें - दो भाईयों को अपने घर में बिजली की फिटिंग कराना पड़ा महंगा, पड़ोसी ने मार दी गोली, जानिये क्या था कारण


पहले मना किया, फिर रिपोर्ट लिखी
महिला थानाध्यक्ष नंदिनी सिंह ने पहले तो तीन तलाक जैसे किसी मामले से इनकार किया, लेकिन बाद में रिपोर्ट लिख ली। उन्होंने इस आरोप को गलत बताया कि शमा की शिकायत नहीं सुनी गई। शमा की शिकायत पर महिला थाने में यह धारा 489ए, 323,506, दहेज प्रतिषेध अधिनियम की धारा तीन व चार के अलावा मुस्लिम महिला प्रोटेक्शन ऑफ राइट मैरिज अधिनियम 2019 की धारा 4 के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है। जिले में इस एक्ट के तहत पहला मुकदमा लिखा गया है। गुरुवार को ही मथुरा में भी मुकदमा लिखा गया था। अपर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ वर्मा का कहना है कि आरोपी की तलाश की जा रही है।

ये भी पढ़ें - Solid Waste Disposal आगरा और मथुरा नगर निगम पर अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना