स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मुहर्रम के जुलूस में शामिल युवक पुलिस की मार से बचने को नदी में कूदा युवक, मौत के बाद दो सिपाहियों पर केस दर्ज

Hariom Dwivedi

Publish: Sep 11, 2019 17:41 PM | Updated: Sep 11, 2019 17:41 PM

Hardoi

- उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले की कोतवाली देहात का मामला
- परिजनों ने कहा- आरोपित सिपाहियों पर 302 और हरिजन एक्ट के तहत हो कार्रवाई

हरदोई. मुहर्रम जुलूस के दौरान सिपाहियों की पिटाई से बचने के लिए एक युवक ने नदी में छलांग लगा दी। 12 घंटे के बाद नदी से युवक का शव बरामद हुआ। मृतक के परिजनों के मुताबिक, युवक की पिटाई के बाद सिपाहियों ने उसे दौड़ाया था, जिससे बचने के लिए उसने नदी में छलांग लगा दी थी। इसके बाद नदी में डूबकर उसकी मौत हो गई। युवक की मौत के बाद से उसके घर में मातम पसरा है। मामले में दो सिपाहियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

मामला कोतवाली देहात क्षेत्र के ग्राम भीठा महासिंह का है। गत दिन इलाके में ताजिये का जुलूस निकाला जा रहा था। इस दौरान गमजदा समाज के लोगों के साथ जुलूस में भीठा महासिंह गांव निवासी मदन (40) भी जा रहा था। बताया जाता है कि जुलूस के साथ चल रहे देहात कोतवाली के एक सिपाही ने मदन को दूसरे वर्ग का जानकर उसे नशे में समझते हुए जुलस से हटा दिया और न मानने पर उसे पकड़ने का प्रयास किया तो मदन भाग खड़ा हुआ। इस पर सिपाही उसके पीछे दौड़े तो पुलिस को पीछे आते देख मदन पास ही स्थित भैंसटा नदी में कूद गया। पुलिस रात भर उसकी तलाश करती रही। अगले दिन सुबह उसका शव नदी में उतराता मिला।

परिजनों की मांग, पुलिसवालों पर दर्ज हो 302 का मुकदमा
मृतक युवक के जीजा ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि मदन मंगलवार को लखनऊ से घर आया था। पड़ोस से ही ताजिये का जुलूस निकल रहा था, जिसे वह देखने लगा। उसी दौरान ड्यूटी पर तैनात दो सिपाही सुनील और परवेज ने उसकी बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी। पुलिस की पिटाई से बचने के लिए युवक ने नदी में छलांग लगा दी। अगले दिन बुधवार को उसका शव नदी में उतराता मिला। ओम प्रकाश की मांग है कि इस मामले में 302 और हरिजन एक्ट के तहत कार्रवाई होनी चाहिए।

अपर पुलिस अधीक्षक बोले
अपर पुलिस अधीक्षक ज्ञानांजय सिंह ने कहा कि परिजनों का आरोप है कि सिपाहियों ने उसे पीटा था. जिसके बाद वह नदी में कूद गया। इस मामले में दो सिपाहियों के खिलाफ परिजनों की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है।