स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पीएम मोदी के जन्मदिन से पहले भाजपा के इस बड़े नेता को पार्टी से किया निलंबित, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

Ruchi Sharma

Publish: Sep 17, 2019 10:38 AM | Updated: Sep 17, 2019 10:38 AM

Hardoi

जिले में शिवलिंग तोड़ने के आरोप में भाजपा ने अरुण मौर्या को पार्टी से निलंबित कर दिया है

लखनऊ. जिले में शिवलिंग तोड़ने के आरोप में भाजपा ने अरुण मौर्या को पार्टी से निलंबित कर दिया है। साथ ही बीजेपी ने तीन सदस्यीय जांच टीम भी गठित की है, जो तीन दिन के अंदर रिपोर्ट देगी। कहा जा रहा है कि अरुण मौर्या पुलिस की गिरफ्तारी के डर से अभी फरार चल रहे हैं। वहीं, इस घटना ने धीरे-धीरे पूरे शहर में बड़ा रूप धारण कर लिया है। अब तमाम हिंदू संगठनों ने बवाल मचाना शुरू कर दिया है।


जिले में मंदिर में घुसकर मंदिर तोड़ने को लेकर हिंदू संगठनों ने सोमवार को चौराहों को जाम कर दिया और जमकर बवाल काटा। हिंदू संगठन का कहना है कि अगर बीजेपी नेता की गिरफ्तारी नहीं होती है तो यह आंदोलन और भी उग्र होता चला जाएगा। वहीं पार्टी शीर्ष नेतृत्व की तरफ से अब बीजेपी नेता के खिलाफ जांच कराई जा रही है। फिलहाल, उनको पार्टी पद से कार्यमुक्त कर दिया गया है। सूत्रों का कहना है कि अरुण मौर्या को प्रदेश के उप मुख्यमंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या का राइट हैंड माना जाता है। यही वजह है कि अरुण मौर्या पर पुलिस कर्रवाई करने से घबरा रही है।

गौरतलब है कि शहर कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत मोहल्ला सुभाषनगर में कुश आश्रम में एक संस्था की बैठक के दौरान भाजपा नेता की मौजूदगी में ही पड़ोस में स्थित मंदिर में मूर्ति को तोड़ दिया गया और पूरे मन्दिर को तहस नहस करने की योजना बनाई गई लेकिन मोहल्ले के लोगों के भारी विरोध के चलते वहां अफरा-तफरी मच गई। तनाव को देखते हुए पुलिस बल मौके पर तैनात कर दिया गया है और दो लोगों को हिरासत में लिया गया है।