स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: Hariyali Teej 2019: हरियाली तीज पर सुहागिनों ने पहनी हरी साड़ियां, चारो तरफ दिख रही रौनक

Ashutosh Pathak

Publish: Aug 03, 2019 11:54 AM | Updated: Aug 03, 2019 13:59 PM

Hapur

  • हरियाली तीज आज, मां पर्वती और भगवान शिव की हो रही पूजा
  • अखंड सौभाग्‍य के लिए महिलाओं ने रखा हरियाली तीज का व्रत
  • सोलहों श्रृंगार कर महिलाएं झूल रही हैं झूला

हापुड़। आज सुहागिनों का त्योहार हरियाली तीज ( hariyali tej ) है। हरियाली तीज खासतौर पर उत्तर भारत में मनाया जाता है। हरियाली तीज के दिन विवाहित महिलाएं भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा करती हैं। उत्तर भारत में इस त्यौहार की रौनक ज्यादा देखने को मिलती है। सावन की वजह से इस त्योहार में महिलाओं के श्रृंगार में हरे रंग की अधिकता रहती है। तरह-तरह के पकवान बनते हैं और पेड़ों पर झूला झूलने की भी प्रथा है।

 

hapur

हापुड़ में हरियाली तीज का त्यौहार बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। महिलाएं नए नए कपडे, साड़िया, श्रंगार कर के सामान खरीदने पहुंची है। महिलाओं के साथ ही लड़कियां भी अपने हाथों पर मेहंदी लगाकर उत्सव मना रहीं हैं तो कहीं महिलाएं झूला झूल रही हैं।

hapur

हरियाली तीज पर बरसात की फुहार और सावन की मल्हार गाकर महिलाए झूला झूलती हैं। हरियाली तीज के त्यौहार को लेकर बाजारों में भी काफी रौनक देखने को मिल रही है। वहीं बच्चों के लिए झूले और खेलने के सामान भी बाजार में देखने को मिल रहे है। बताया जाता है की इस दिन सुहागिनें पूरा साज-श्रृंगार करती हैं। हापुड़ के पिलखुआ में हरियाली तीज के पर्व पर कई कार्यक्रम किये गए। जिनमे मेहंदी कॉम्पटीशन, हेयर कॉम्पटीशन, डांस कॉम्पटीशन आदि समेत कई कार्यक्रम कराए गए।

 

hapur

आपको बता दें कि श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरियाली तीज पर्व मनाया जाता है। सावन मास में आने के कारण इसे हरियाली तीज कहा जाता है। क्योंकि सावन के महीने में हर जगह हरियाली छाई रहती है। इस मौके पर महिलाएं झूला झूलती हैं, लोकगीत गाती हैं और खुशियां मनाती हैं। सुहागन स्त्रियों के लिए इस व्रत का खास महत्व होता है।