स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Reality check: पुलिस हिरासत में हुई मौत का जानिये सच

Virendra Kumar Sharma

Publish: Oct 18, 2019 14:34 PM | Updated: Oct 18, 2019 14:38 PM

Hapur

Highlights

. पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी उठाया था मुद्दा
. तीन पुलिसकर्मियों को किया गया था संस्पेड
. सीओ समेत चा पर मुकदमा दर्ज

 

हापुड़. पिलखुवा में हुई पुलिस कस्टडी में प्रदीप तोमर की मौत मामले में पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज हो गया है। आईजी के निर्देश पर तत्कालीन सीओ संतोष कुमार, इंस्पेक्टर योगेश बालियान और चौकी इंचार्ज अजब सिंह समेत 4 पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

यह भी पढ़ें: घरों में भैंसें पालना पड़ेगा भारी, लगेगा इतना जुर्माना

बता दें कि 3 दिन पहले पिलखुआ पुलिस ने लाखन गांव के प्रदीप नाम के युवक को महिला की हत्या के मामले में पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। आरोप है कि कोतवाली में उसके साथ मारपीट की गई। परिजनों ने आरोप लगाए है कि थर्ड डिग्री देने की वजह से उसकी मौत हुई है। तभी से परिजन न्याय की गुहार लगा रहे थे। वहीं, पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी इस मामले को उठाया था।

इस मामले में एसपी ने पिलखुआ इंस्पेक्टर समेत तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया था। इसी मामले का एक वीडियो वायरल हुआ। जिसके बाद लोगों ने वीडियो को लेकर कई तरह के सवाल किए। साथ ही पुलिस पर भी निशाना साधा। वाट्सऐप पर यह वीडियो वायरल हुआ। पत्रिका ने इस वायरल वीडियो की पड़ताल की। वायरल वीडियो सही निकला। वहीं, इस मामले में पुलिसकर्मियों के खिलाफ गुरुवार को बड़ी कार्रवाई की गई। इस मामले में हत्या का मुकदमा सीओ समेत 4 पुलिसकर्मियों को दर्ज किया गया है।