स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नवजात बच्चे को गोद में लेकर किसानों को समर्थन देने पहुंची महिला विधायक, नहरी पानी की मांग को लेकर किसानों का पड़ाव दूसरे दिन जारी

Purushotam Jha

Publish: Dec 10, 2019 11:36 AM | Updated: Dec 10, 2019 11:36 AM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. रबी फसलों की बिजाई के लिए किसान पूरा पानी मांग रहे हैं। लेकिन अफसर इस मांग पर टस से मस नहीं हो रहे हैं। इसके कारण किसानों में रोष बढ़ता जा रहा है। बारह दिसम्बर के बाद भी इंदिरागांधी नहर को चार में दो समूह में चलाने की मांग को लेकर किसानों का पड़ाव मंगलवार को दूसरे दिन भी जारी रहा।

 

नवजात बच्चे को गोद में लेकर किसानों को समर्थन देने पहुंची महिला विधायक, नहरी पानी की मांग को लेकर किसानों का पड़ाव दूसरे दिन जारी
-डीएसपी अंतर सिंह ने पड़ाव स्थल का दूसरे दिन लिया जायजा, किसान आंदोलन को लेकर पुलिस तंत्र चाक-चौबंद
हनुमानगढ़. रबी फसलों की बिजाई के लिए किसान पूरा पानी मांग रहे हैं। लेकिन अफसर इस मांग पर टस से मस नहीं हो रहे हैं। इसके कारण किसानों में रोष बढ़ता जा रहा है। बारह दिसम्बर के बाद भी इंदिरागांधी नहर को चार में दो समूह में चलाने की मांग को लेकर किसानों का पड़ाव मंगलवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। डीएसपी अंतर सिंह ने मंगलवार सुबह दस बजे के करीब पड़ाव स्थल पर जाकर वस्तुस्थिति जानी। उन्होंने पुलिस कर्मियों को सतर्क रहने की बात कही। इससे पूर्व अनूपगढ़ विधायक संतोष बावरी व भाजपा नेता प्रभुदयाल सहित अन्य ने सोमवार रात को पड़ाव स्थल पहुंचकर किसानों के आंदोलन को समर्थन दिया। विधायक संतोष बावरी अपने नवजात बच्चे को गोद में लेकर पड़ाव स्थल पर आंदोलन को समर्थन देने पहुंची। बच्चे को गोद में लेकर ही उन्होंने किसानों के साथ वार्ता की और आगामी आंदोलन की रणनीति बनाई। दूसरी तरफ एहतियात के तौर पर जल संसाधन विभाग कार्यालय के चप्पे-चप्पे पर पुलिस का जाब्ता तैनात कर दिया गया है। पड़ाव स्थल पर हुई सभा में किसानों ने कहा कि बांध में जितना पानी उपलब्ध है, उसी हिसाब से हम रोटेशन में मामूली फेरबदल करके वर्तमान में सिंचाई पानी देने की मांग कर रहे हैं। लेकिन मुख्य अभियंता की हठधर्मिता के चलते किसान मजबूरी में आंदोलन कर रहे हैं। भारतीय किसान संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष रामकुमार खिलेरी ने कहा कि हर वर्ष आंदोलन के बाद ही अफसर किसानों को सिंचाई पानी देते रहे हैं। इस बार भी किसान आरपार की लड़ाई लडक़र हक का पानी लेकर ही दम लेंगे। खिलेरी ने कहा कि वर्तमान में यदि किसानों को पूरा सिंचाई पानी नहीं मिला तो वह बिजान भी नहीं कर पाएंगे। प्रांतीय महामंत्री विनोद धारणियां ने कहा कि अधिकारी मनमाने तरीके से रेग्यूलेशन बनाकर लागू कर रहे हैं। जबकि कईयों को तो नहरी तंत्र का पूरा ज्ञान भी नहीं है। इस स्थिति में बेहतर यही है कि अफसर, किसान नेता और विधायक एक साथ बैठकर रेग्यूलेशन की समीक्षा करें। जिससे किसान हितों के अनुरूप रेग्यूलेशन तैयार कर नहरों में पानी चलाया जा सके। देर शाम तक मुख्य अभियंता की ओर से वार्ता के लिए नहीं बुलाए जाने पर किसान नेताओं ने खूब नारेबाजी भी की। पड़ाव स्थल पर आयोजित सभा में भारतीय किसान संघ के संभागीय उपाध्यक्ष गुलाब सिंह मोयल, जैविक प्रमुख धन्नाराम गोदारा, प्रांतीय उपाध्यक्ष सुरेंद्रपाल सिंह सिद्धू, सत्यनारायण गोदारा, जिलाध्यक्ष चरणजीत सिंह, प्रचार प्रमुख हनुमानगढ़ रामेश्वर सुथार, प्रचार प्रमुख श्रीगंगानगर रघुवीर चौधरी, जिला कोषाध्यक्ष प्रगट सिंह बराड़, तहसील अध्यक्ष बीरबल भांभू, तहसील महामंत्री जसवंत जाखड़, तहसील अध्यक्ष रावतसर प्रताप सिंह सूडा आदि मौजूद रहे।

[MORE_ADVERTISE1]