स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जमीं के तारे जब दौड़े, खेले, खिलखिलाए तो मां-बाप भी मुस्कराए

Adrish Khan

Publish: Dec 03, 2019 11:34 AM | Updated: Dec 03, 2019 11:34 AM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. जमीं के तारे विशेष आवश्यकता वाले बच्चे सोमवार को खूब खेले। खुलकर खिलखिलाए, दौड़े, नाचे। अपने खास बच्चों को यूं खिलखिलाते देख अभिभावकों के चेहरों पर भी मुस्कान खेल गई। इसी चाह में सैकड़ों विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को जिले भर से उनके मां-बाप कैनाल कॉलोनी स्थित केवी स्कूल परिसर में लेकर आए थे। समग्र शिक्षा अभियान (समसा) के समावेशी शिक्षा के वातावरण निर्माण कार्यक्रम के तहत आयोजित इस दो दिवसीय प्रतियोगिता में पहले दिन बच्चों को खिलखिलाने व अपना

जमीं के तारे जब दौड़े, खेले, खिलखिलाए तो मां-बाप भी मुस्कराए
- विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के चेहरों पर हंसी बिखेरने के लिए दो दिवसीय कार्यक्रम
- अभिभावकों का बढ़ाया हौसला
हनुमानगढ़. जमीं के तारे विशेष आवश्यकता वाले बच्चे सोमवार को खूब खेले। खुलकर खिलखिलाए, दौड़े, नाचे। अपने खास बच्चों को यूं खिलखिलाते देख अभिभावकों के चेहरों पर भी मुस्कान खेल गई। इसी चाह में सैकड़ों विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को जिले भर से उनके मां-बाप कैनाल कॉलोनी स्थित केवी स्कूल परिसर में लेकर आए थे। समग्र शिक्षा अभियान (समसा) के समावेशी शिक्षा के वातावरण निर्माण कार्यक्रम के तहत आयोजित इस दो दिवसीय प्रतियोगिता में पहले दिन बच्चों को खिलखिलाने व अपना हुनर दिखाने का भरपूर मौका दिया गया। दौड़, म्यूजिकल चेयर सहित विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने की उनकी ललक देखते ही बन रही थी। बच्चों के भविष्य को लेकर फिक्र में घुलने वाले अभिभावकों को भी इस आयोजन ने राहत दी। क्योंकि बच्चों के पालन-पोषण, उनके संघर्षों व कामयाबी से जुड़ी कई कहानियां अधिकारियों ने अभिभावकों से साझा की। उनको सकारात्मक सोच के साथ आगे बढऩे के लिए प्रेरित किया।
राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के आदेश पर आयोजित इस प्रतियोगिता का उद्घाटन सीईओ जिला परिषद परशुराम धानका, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी तेजासिंह गदराना, डीईओ माध्यमिक मुख्यालय हंसराज जाजेवाल व समसा के एडीपीसी कुलवंत सिंह ने किया। समसा के एपीसी सुरेन्द्र रॉयल ने समावेशी शिक्षा व प्रतियोगिता के आयोजन के उद्देश्य पर प्रकाश डाला। इस मौके पर समसा के एपीसी जितेन्द्र बठला, पीओ हरलाल ढाका, नवीन कुमार आदि मौजूद रहे। प्रतियोगिता का समापन मंगलवार को होगा। अभिभावकों के ठहरने व भोजन की व्यवस्था समसा की ओर से की गई है।
रैली से देंगे संदेश
प्रतियोगिता के दूसरे दिन मंगलवार को रैली निकाली जाएगी। इसके जरिए विशेष बच्चों की शिक्षा व पालन-पोषण संबंधी जागरुकता का संदेश दिया जाएगा। इसके बाद पोस्टर प्रतियोगिता होगी। फिर समापन समारोह होगा। इसमें विजेताओं के साथ-साथ प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी बच्चों को पुरस्कृत किया जाएगा। एपीसी सुरेन्द्र रॉयल ने बताया कि इस आयोजन का उद्देश्य यह है कि समाज में विशेष आवश्यकता वाले बच्चों की शिक्षा, खेल आदि को लेकर सकारात्मक वातावरण का निर्माण हो।


जानिए शिक्षा के बारे में
विशेष आवश्यकता वाले जैसे मूक बधिर, दृष्टिबाधित व विमंदित श्रेणी के बच्चों की शिक्षा व शारीरिक गतिविधियों के लिए प्रत्येक ब्लॉक पर एक संदर्भ केन्द्र बना हुआ है। हर ब्लॉक के केन्द्र पर विशेष आवश्यकता वाले बच्चों की शिक्षा के लिए विशेष शिक्षक नियुक्त किए गए हैं। इन केन्द्रों पर विभिन्न उपकरण भी उपलब्ध कराए गए हैं। इन पर जाकर अभिभावक बच्चों की शिक्षा आदि के संबंध में जानकारी हासिल कर सकते हैं तथा सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं।


यह रहे विजेता
अस्थि दिव्यांगों की छह से दस आयु बालिका वर्ग की ५० मीटर तेज चाल में अंजू प्रथम, स्नेहा द्वितीय व निशा तृतीय रही। ११ से १४ में चरणजीत कौर प्रथम, ममता द्वितीय व रेखा तृतीय रही। अस्थि दिव्यांगों की छह से दस आयु बालक वर्ग की ५० मीटर दौड़ में सलमान प्रथम, राजपाल द्वितीय व गोविन्द तृतीय रहे। ११ से १४ में अजय प्रथम, पंकज द्वितीय व मोहित तृतीय रहे। १५ से १८ में अजय प्रथम, सतपाल द्वितीय व विशाल तृतीय रहे। अल्प दृष्टिबाधित बालिका जूनियर वर्ग ५० मीटर दौड़ में सीता प्रथम, सुनहरी द्वितीय व रेखा तृतीय रही। सीनियर वर्ग में कांता प्रथम, आरजू द्वितीय व खुशी तृतीय रही। बौद्धिक अक्षमता बालिका वर्ग (६ से १० वर्ष) ५० मीटर दौड़ में रेखा प्रथम, मंजू द्वितीय व शिक्षा तृतीय रही। बालक वर्ग (६ से १० वर्ष) में रूपेश प्रथम, निर्मल द्वितीय व करण सिंह तृतीय रहे। ११ से १४ वर्ष बालक वर्ग में सुरेश प्रथम, अक्षय द्वितीय व मुकेश तृतीय रहे। १५ से १८ में अजय प्रथम, विनोद द्वितीय व दिलीप तृतीय रहे। श्रवण बाधितों की ५० मीटर दौड़ बालक वर्ग (६ से १०) में अभितेज प्रथम, दीपक द्वितीय व सुनील तृतीय रहे। ११ से १४ वर्ग में हरप्रीत सिंह प्रथम, कुलदीप द्वितीय व सनी तृतीय रहे। १५ से १८ में रामकिशन प्रथम, दयाराम द्वितीय व विकास तृतीय रहे। श्रवण बाधितों की ५० मीटर दौड़ बालिका वर्ग (६ से १०) में निशा प्रथम, स्नेहा द्वितीय व मक्सूदा तृतीय रहे। ११ से १४ में अशु प्रथम, आरती द्वितीय व सोनू तृतीय रही।

[MORE_ADVERTISE1]