स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हनुमानगढ़ में मेडिकल कॉलेज की राह खुली, अब बजट का इंतजार

Anurag Thareja

Publish: Nov 07, 2019 22:05 PM | Updated: Nov 07, 2019 22:05 PM

Hanumangarh

हनुमानगढ़ में मेडिकल कॉलेज की राह खुली, अब बजट का इंतजार
- मेडिकल कॉलेज के सतीपुरा बाइपास पर भूमि का आवंटन

हनुमानगढ़ में मेडिकल कॉलेज की राह खुली, अब बजट का इंतजार
- मेडिकल कॉलेज के सतीपुरा बाइपास पर भूमि का आवंटन

हनुमानगढ़. सब कुछ सही रहा तो आने वाले कुछ वर्षों में हनुमानगढ़ में मेडिकल कॉलेज बन जाएगा। मेडिकल कॉलेज के लिए सतीपुरा बाइपास पर राज रकबे की करीब 40 बीघा भूमि का आवंटन किया गया। एक तरफ साढ़े बारह मीटर सड़क के लिए जगह छोड़ी गई है। इस भूमि का निशुल्क आवंटन जिला कलक्टर ने किया है। इस भूमि का प्रयोग केवल मेडिकल कॉलेज के लिए ही किया जा सकता है। खास बात यह है कि मेडिकल कॉलेज के लिए 25 बीघा भूमि की आवश्यता थी। लेकिन मेडिकल कॉलेज के लिए करीब 40 बीघा भूमि का आवंटन किया गया। इस जगह पर मेडिकल कॉलेज होने से सतीपुरा, जंक्शन, टाउन बाइपास व रावतसर मार्ग से आने-जाने में परेशानी नहीं होगी और सतीपुरा बाइपास पर मेडिकल कॉलेज होने से ट्रैफिक व्यवस्था भी कोई असर नहीं पड़ेगा। भूमि के आवंटन के बाद सरकार की ओर से मेडिकल कॉलेज के लिए बजट की मांग की जाएगी। प्रथम स्तर पर इस भूमि पर करीब 100 से 150 बैड के मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति के साथ-साथ बजट मिलने की उम्मीद है।

मेडिकल कॉलेज से यह होगा लाभ
मेडिकल कॉलेज खुलने से शहर के नागरिकों को रोजगार मिलेगा। इसके साथ ही बेहतर इलाज के लिए बड़े शहरों के अस्पतालों में नहीं जाना पड़ेगा। इससे धन व समय दोनों की बचत होगी। मेडिकल कॉलेज से हनुमानगढ़ को कई रोगों के विशेषज्ञ चिकित्सक भी मिलेंगे। वर्तमान में न्यूरो फीजिएशन व न्यूरो सर्जन नहीं होने के कारण दुर्घटना के जख्मी को बीकानेर के पीबीएम अस्पताल में रैफर किया जाता है। लेकिन हनुमानगढ़ में मेडिकल कॉलेज खुलने से इस तरह के रैफर केसों में काफी हद तक कमी आएगी। इसके अलावा हार्ट, ईएनटी, न्यूरो, ग्रेस्ट्रोलोजिस्ट इत्यादि चिकित्सकों की सेवाएं मिल सकेंगी।


मेडिकल कॉलेज पर की चर्चा
जिला कलक्टर ने कैंसर कैंप के निरीक्षण के दौरान सीएमएचओ, पीएमओ व अन्य चिकित्सकों से मेडिकल कॉलेज की भी चर्चा की। खास बात है कि सरकारी की सभी जिलों में मेडिकल कॉलेज खोलने की योजना के तहत हनुमानगढ़ जिले में सबसे पहले मेडिकल कॉलेज के लिए भूमि का आवंटन हुआ है। इस मौके पर सीएमएचओ डॉ. अरूण चमडिय़ा, पीएमओ डॉ. एमपी शर्मा, मेडिकल ज्यूरिस्ट डॉ. शंकर सोनी आदि मौजूद रहे।

बेहतर होगा इलाज
महात्मा गांधी जिला अस्पताल के पीएमओ डॉ. एमपी शर्मा ने बताया कि मेडिकल कॉलेज के लिए सतीपुरा बाइपास पर भूमि का आवंटन हो चुका है। अब बजट आवंटन के लिए राज्य सरकार की ओर से केंद्र सरकार को पत्र लिखा जाएगा। करीब 40 बीघा की भूमि पर मेडिकल कॉलेज होने से सभी रोगों से संबंधित विशेषज्ञों की सेवाएं मिल सकेंगी। इलाज के रोगी व परिजनों को बड़े शहरों में नहीं जाना पड़ेगा।
*****************************

[MORE_ADVERTISE1]