स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बच्चों के दूध के नाम पर बिल उठाने का चल रहा खेल

Anurag Thareja

Publish: Aug 20, 2019 11:26 AM | Updated: Aug 20, 2019 11:26 AM

Hanumangarh

पंचायत समिति की साधारण सभा की बैठक में सदस्यों ने लगाया आरोप

बच्चों के दूध के नाम पर बिल उठाने का चल रहा खेल
पंचायत समिति की साधारण सभा की बैठक में सदस्यों ने लगाया आरोप

हनुमानगढ़. सरकारी स्कूलों में पोषाहार योजना के तहत बच्चों को दूध देने की योजना है। जो बच्चे दूध नहीं पीते, उनका भी बिल उठाया जा रहा है। नई योजना की मॉनिटरिंग करने की बजाए कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। दूध की खपत वास्तविक कितनी होती है और कागजों में कितनी हो रही है। इसकी जांच होनी चाहिए। यह आरोप सोमवार को टाउन स्थित पंचायत समिति सभागार में हुई साधारण सभा की बैठक के दौरान पंचायत समिति सदस्यों ने उठाई। इसके अलावा सरकारी स्कूलों में हो रहे पौधरोपण पर भी सवाल उठाया गया। सदन में सदस्यों ने कहा कि स्कूलों में पौधे कम लेकिन कागजों में ज्यादा दर्शाए जा रहे हैं। इनकी भी जांच कर अधिक से अधिक पौधे लगाए जाने चाहिए। बच्चों की छात्रवृति भी देने की मांग भी की गई। इसके अलावा गावों की विद्युत सप्लाई में सुधार, किसानों को सिंचाई के लिए पूरा पानी देने व ग्राम पंचायतों के दूर दराज इलाकों में पेयजल सप्लाई देने की मांग भी सदन में उठाई गई। साधारण सभा बैठक की अध्यक्षता उपप्रधान अमरसिंह ने की।

मीजल्स रूबेला से बिगड़ी तबीयत
बैठक में स्वास्थ्य विभाग की ओर से बीसीएमओ डॉ. ज्योति धींगड़ा ने बताया कि जिले में अबतक 81000 बच्चों को मीजल्स रूबेला का टीकाकरण किया जा चुका है। इस पर रामसरा सरपंच रेशम सिंह ने आपत्ति जताते हुए कहा कि इस टीकाकरण से दो बच्चों की तबीयत काफी अधिक बिगड़ गई थी। जो अभी तक निजी अस्पताल में भर्ती हैं। रेशम सिंह ने बताया कि एक बच्चा तलवाड़ा झील का है और दूसरा ग्राम पंचायत रामसरा का। इस पर डॉ. ज्योति धींगड़ा ने कहा कि उन्हें तलवाड़ा झील के बच्चे की जानकारी है लेकिन गांव रामसरा के बच्चे की नहीं है। इस पर सरपंच ने सदन में दूरभाष से बच्चे की जानकारी लेकर डॉ. ज्योति धींगड़ा को दी।

आठ सरपंच, 12 डायरेक्टर
इससे पूर्व साधारण सभा की बैठक एक फरवरी 2019 को हुई थी। करीब पांच माह बाद साधारण सभा की बैठक में केवल आठ सरपंच व बारह डायरेक्टर ही शामिल हुए। इसके अलावा बैठक में पंचायत समिति बीडीओ व प्रधान भी जयपुर में बैठक होने के कारण शामिल नहीं हो पाए। बैठक में सार्वजनिक निर्माण विभाग, कृषि उपज मंडी समिति, रसद विभाग, पुुलिस, राजस्व एवं प्रसासन विभाग, आबकारी विभाग आदि से भी कोई अधिकारी बैठक में शामिल नहीं हुए। हैरत की बात है सदन में महिला जनप्रतिनिधियों के पति भी मौजूद रहे, इनको लेकर किसी ने आपत्ति जाहिर नहीं की।

ये उठाए मुद्दे
पंचायत समिति सदस्य मदन कड़वा ने सहजीपुरा के चक चार एआरडब्लयू के स्कूल की विद्युत व्यवस्था करने की मांग की। सरपंच ग्राम पंचायत रणजीतपुरा इन्द्रजीत शर्मा ने नरेगा में अन्य विभागों से लेबर कार्य करवाने की मांग की तथा पीएचईडी विभाग से ढाणियों में जल कनेक्शन के लिए एनओसी. जारी करने व वन विभाग से वृक्षा रोपण करने की मांग की। पंचायत समिति सदस्य ममता स्वामी ने कृषि विभाग के बकाया अनुदान राशि के भुगतान की मांग की। जण्डावाली सरपंच ने वाटर वक्र्स के ओवर हैड टैंक क्षतिग्रस्त होने पर सुधार करने की मांग की। बैठक में हरिराम, पंचायत प्रसार अधिकारी राजीव यादव, अनिल कुमार आदि मौजूद रहे।
******************************