स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सुनवाई नहीं होने पर गधे को सौंपा ज्ञापन

Manoj Goyal

Publish: Aug 22, 2019 11:54 AM | Updated: Aug 22, 2019 11:54 AM

Hanumangarh

आंदोलन...
मुआवजे की मांग को लेकर हनुमानगढ़ में जिला कलेक्ट्रेट के समक्ष ४८ दिन से धरने पर बैठे हैं किसान

हनुमानगढ़. नेशनल हाइवे निर्माण में किसानों की भूमि अधिग्रहण करने पर बाजार भाव के अनुरूप मुआवजा नहीं मिलने पर बुधवार को धरने पर बैठे किसानों ने रोष स्वरूप गधे को ज्ञापन सौंपा। सुरेंद्र शर्मा ने बताया कि नेशनल हाइवे के निर्माण में किसानों की भूमि कौडिय़ों के भाव में सरकार खरीदना चाहती है, जबकि बाजार भाव के अनुसार एक बीघा २५ से ३० लाख रुपए के करीब है लेकिन किसानों को दो से तीन लाख रुपए ही दिए जाएंगे।


ऐसे में कई किसानों की अधिकांश जमीन नेशनल हाइवे की सीमा में आ रही है। कईयों की जमीन से नेशनल हाइवे निकलने से भूमि दो भागों में बंट रही है। इसके चलते किसान ४८ दिन से धरने पर बैठे हैं। कई दफा नेशनल हाइवे के अधिकारियों की उपस्थित में बैठक भी हुई लेकिन मांगे नहीं माने जाने पर वार्ता विफल हो गई। संघर्ष समिति अध्यक्ष दलीप छिम्पा ने बताया कि जिले के समस्त विधायकों से किसान संघर्ष समिति की वार्ता हो चुकी है और उनके दस दिन के आश्वासन पर किसान शांत हैं। जिसमें से अब केवल सात दिन शेष हंै।

 

उन्होंने कहा कि अगर सात दिवस के भीतर भी किसानों की मांगे नहीं मानी गई तो आंदोलन को उग्र किया जाएगा। इस मौके पर उपाध्यक्ष देवीलाल, सुखविन्द्र सिंह, भूप जाट, उग्रसेन भादू, भूपराम बिश्रोई, हनुमान गोदारा, विजेश बिश्रोई, हरचरण सिंह, गिरधारी सिंह, मांगी जाखड़, जगदीश चाहर, बलवीर सिंह, सुखदेव सिंह मौदन, रोशन लाल, नंदलाल लिम्बा, साहबराम, अर्जुन वाडिया, आत्माराम पचार, बीरबल दास, अब्दूल शकूर, सोहन लाल खरलिया आदि मौजूद रहे।


किसान संघ की हुई बैठक
हनुमानगढ़. भारतीय किसान संघ तहसील हनुमानगढ़ की मासिक बैठक मंगलवार को किसान भवन में हुई। इसमें संभाग अध्यक्ष प्रेम बेनीवाल, प्रभारी विनोद मांझू, प्रांत महामंत्री विनोद धारणियां आदि बैठक में मौजूद रहे। सभी ने किसानों की समस्याओं पर चर्चा कर इसके समाधान को लेकर एकजुट होने की बात कही। किसान नेता बीरबलराम भांभू ने नरमा-कपास खरीद की तैयारी शुरू करने की मांग की। रामेश्वर सुथार, बनवारीलाल जाखड़, कृष्ण कुमार नैण, इंद्रजीत धारणियां आदि मौजूद रहे।