स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गबन मामले की अंतिम रिपोर्ट बनाने में जुटे अफसर, हनुमानगढ़ आबकारी विभाग में दो करोड़ की हेराफेरी का मामला

Purushotam Jha

Publish: Dec 08, 2019 11:32 AM | Updated: Dec 08, 2019 11:32 AM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. टाउन स्थित जिला आबकारी विभाग में अब तक हुए दो करोड़ गबन के मामले में अधिकारी शनिवार को भी अंतिम रिपोर्ट तैयार करने में जुटे। जिला आबकारी अधिकारी की ओर से नौ दिसंबर को अंतिम रिपोर्ट तैयार कर उदयपुर मुख्यालय भिजवाई जाएगी।

 

गबन मामले की अंतिम रिपोर्ट बनाने में जुटे अफसर, हनुमानगढ़ आबकारी विभाग में दो करोड़ की हेराफेरी का मामला
जिला आबकारी अधिकारी उदयपुर मुख्यालय भेंजेंगे तथ्यात्मक रिपोर्ट
हनुमानगढ़. टाउन स्थित जिला आबकारी विभाग में अब तक हुए दो करोड़ गबन के मामले में अधिकारी शनिवार को भी अंतिम रिपोर्ट तैयार करने में जुटे। जिला आबकारी अधिकारी की ओर से नौ दिसंबर को अंतिम रिपोर्ट तैयार कर उदयपुर मुख्यालय भिजवाई जाएगी। इसी रिपोर्ट के आधार पर ही उदयपुर मुख्यालय अधिकारी व कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। इसके अलावा रावतसर, नोहर व भादरा थाने में फर्जी मुहर के आधार पर मदिरा का उठाव करने का मामला दर्ज कराने के लिए अलग से दस्तावेज तैयार किए जा रहे हैं। यह मामला आबकारी निरीक्षकों की ओर से दर्ज करवाया जाएगा। आबकारी नियमों के आधार पर वित्तीय वर्ष २०१८-१९ में हुए एक करोड़ के गबन की वसूली की तथ्यात्मक रिपोर्ट तैयार के लिए ठेकेदारों से भी चालान मंगवा कर जांच की जा रही है। इसके अलावा वित्तीय वर्ष २०१९-२० में फर्जी चालान जमा कराने व जमा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। हालांकि विभाग की ओर से इसकी रिकवरी की जा चुकी है। उल्लेखनीय है कि जिला आबकारी कार्यालय में रावतसर, नोहर, भादरा में मदिरा के उठाव में अब तक दो करोड़ का गबन सामने आ चुका हैं। इसमें एक करोड़ का गबन वित्तीय वर्ष २०१९-२० व एक करोड़ का गबन वित्तीय वर्ष २०१८-१९ में किया गया था। वित्तीय वर्ष २०१९-२० में एक करोड़ के किए गबन की वसूली तो विभाग की ओर से की जा चुकी है।
लेकिन वित्तीय वर्ष २०१८-१९ की रिकवरी किस आधार पर की जाएगी, इसके ठेकेदारों से चालान मंगवाकर ईग्रास साइट से वेरिफिकेशन भी किया जा रहा है। ४ अप्रेल २०१९ से लेकर १५ सितंबर २०१९ तक आबकारी विभाग में हनुमानगढ़ की तहसील नोहर, भादरा व रावतसर में मदिरा के उठाव में एसबीआई बैंक की फर्जी मुहर लगाकर चालान जमा कर एक करोड़ का गबन किया गया था। गबन का खेल कबसे चल रहा है, वित्तीय वर्ष २०१८-१९ के रिकार्ड की जांच करने पर भी एक करोड़ और गबन होने का मामला सामने आया है। इस गबन में बैंक चालानों में एसबीआई व पीएनबी बैंक की फर्जी मुहर होना भी पाया गया है। वर्तमान में वित्तीय वर्ष २०१७-१८ के दस्तावेजों की जांच की जा रही है।
कई दिन लगेंगे जांच में
वित्तीय वर्ष २०१७-१८ के दस्तावेजों की जांच में अभी कई दिन लगेंगे। जानकारी के अनुसार इन दस्तावेंजों की जांच में भी की तरह खामियां सामने आई है। लेकिन जिला आबकारी विभाग के अधिकारी व कर्मचारी अब इन खामियों की पुष्टि करने में लगे हैं। पूरी तरफ साफ होने के बाद ही उच्चाधिकारियों को अवगत करवाएंगे।

[MORE_ADVERTISE1]