स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अफसरों की कार्यशैली से खफा सदस्य बोले, पहली बैठक में जिन मुद्दों को रखा था, उसका समाधान आखिरी बैठक में भी नहीं हुआ

Purushotam Jha

Publish: Dec 12, 2019 21:53 PM | Updated: Dec 12, 2019 21:54 PM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. जिला परिषद की साधारण सभा की गुरुवार को संपन्न हुई बैठक में ज्यादातर सदस्यों ने व्यवस्थाओं में खामियों को लेकर खूब शिकायतें की। सदस्यों का कहना था कि जिन समस्याओं को हमने जिला परिषद के इस कार्यकाल की पहली बैठक में रखा था, उनका समाधान आखिरी बैठक में भी नहीं हो सका।

अफसरों की कार्यशैली से खफा सदस्य बोले, पहली बैठक में जिन मुद्दों को रखा था, उसका समाधान आखिरी बैठक में भी नहीं हुआ
-जिला परिषद सदस्यों ने आबकारी विभाग में हुए घोटाले के साथ ही बिजली, पानी व परिवहन से संबंधित उठाए मामले
-शिकवे व शिकायतों का दौर चलने के बाद कुछ सदस्यों ने जिप बैठक के अंतिम दौर में मांगी माफी
.......फोटो........
हनुमानगढ़. जिला परिषद की साधारण सभा की गुरुवार को संपन्न हुई बैठक में ज्यादातर सदस्यों ने व्यवस्थाओं में खामियों को लेकर खूब शिकायतें की। सदस्यों का कहना था कि जिन समस्याओं को हमने जिला परिषद के इस कार्यकाल की पहली बैठक में रखा था, उनका समाधान आखिरी बैठक में भी नहीं हो सका। एक महिला सदस्य ने अपने क्षेत्र में परिवहन सुविधा की मांग रखते हुए कहा कि मुझे अच्छी तरह याद है कि इसे मैंने जिला परिषद की पहली बैठक में रखा था, लेकिन आज तक यह मांग अधूरी है। उन्होंने कहा कि इस स्थिति में मुझे समझ नहीं आ रहा कि मैं अफसरों सम्मानित करूं या फिर आभार जताऊं।
नोहर-भादरा के आसपास आबकारी विभाग में हुए घोटाले का मामला उठाने पर सदन में खूब हंगामा हुआ। इस दौरान जिला परिषद सदस्य मंगेज चौधरी ने पत्रिका में प्रकाशित खबरों की प्रतियां भी दिखाई। एक सदस्य ने तो यहां तक कह दिया कि आबकारी विभाग लूट का केंद्र बन गया है। आरोप लगाया कि इतना बड़ा घोटाला जिला स्तरीय अधिकारियों की संलिप्तता के बिना नहीं हो सकता। नीचे से लेकर ऊपर तक के अधिकारियों की मिलीभगत के कारण शराब के धंधे में लगातार गड़बडिय़ां हो रही है। जिला परिषद सदस्यों की ओर से लगाए गए आरोप पर जिला आबकारी अधिकारी संजीव पटावरी ने कहा कि आयुक्त स्तर जांच पूरी हो गई है। इसमें ठेकेदार ही नहीं कुछ अफसर भी शक के दायरे में आए हैं। जिन्हें चार्जशीट देने की तैयारी विभाग स्तर पर शुरू कर दी गई है। जिला परिषद सदस्य मंगेज चौधरी व गौरीशंकर थोरी ने कहा कि रात आठ बजे बाद भी शराब खूब बिक रही है। इससे गांवों में लोगों का सडक़ पर चलना मुश्किल हो गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि आबकारी विभाग सिवाय मंथली वसूलने के कुछ नहीं कर रहा। सभी सदस्यों की सहमति से जिले में शराबबंदी का प्रस्ताव रखा गया तो सदन ने सर्वसम्मति से पारित कर दिया।
भादरा विधायक बलवान पूनियां ने प्रधानमंत्री आवास योजना में लोगों को आवास निर्माण में किस्त नहीं मिलने की समस्या रखी। इस पर जिला परिषद सीईओ ने कहा कि बैंकों की कोड बदलने के कारण ऐसी दिक्कतें आ रही है। सदस्यों ने नोहर में समाज कल्याण विभाग के होस्टल निर्माण में बरती गई अनियमितिताओं का मामला रखा। इस दौरान सदस्यों ने कहा कि जिन अभियंताओं ने गड़बड़ी की थी, उसे सरकार ने पदोन्नत भी कर दिया है। एसई गुरनाम सिंह ने कहा कि जिन कमियों का जिक्र किया गया था, उसे दुरुस्त कर दिया गया है। लोक परिवहन बसों की मनमाने का जिक्र कर सदस्यों ने कहा कि इसकी परिवहन विभाग नियमित जांच करें। शिक्षा अधिकारी तेजा सिंह गदराना ने कहा कि सामूहिक प्रयासों के चलते शिक्षा के क्षेत्र में हनुमानगढ़ जिला प्रदेश में अव्वल है। लाडो शौचालय के लिए स्वीकृत किए गए बजट का जिक्र कर कहा कि इससे बालिका विद्यालयों में नामांकन बढऩे के आसार हैं। सदस्यों ने निजी स्कूलों की ओर से बढ़ाई जा रही फीस पर अंकुश लगाने की मांग रखी।

इतने में आ धमके विधायक
जिला परिषद सदस्य दुनीराम ने अपने क्षेत्र में पेयजल समस्या का जिक्र किया तो एक अधिकारी ने विधायक की सहमति से कनेक्शन काटने का जिक्र किया। दोनों के बीच बहसबाजी चल ही रही थी कि विधायक बलवान पूनियां बैठक में शामिल होने के लिए आ पहुंचे। इस दौरान एक सदस्य ने कहा कि लो, आ गए विधायक जी, अब बताओ क्या दिक्कत है। इस पर विधायक पूनियां ने कहा कि हां, मैंने ही कनेक्शन बंद करवाया है। विधायक ने कहा कि सरकार पेयजल योजनाएं बहुत सारे लोगों को राहत दिलाने के लिए बनाती है। लेकिन जब कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए व्यवस्थाएं बनाने लगते हैं, तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आपणी योजना तथा घर-घर कनेक्शन योजना का लाभ कुछ ही लोग उठा रहे हैं। जबकि अधिकतर लोग इससे वंचित हैं। सबकी सहमति से सदन में यह प्रस्ताव पारित किया गया कि आपणी योजना के तहत हुए अवैध कनेक्शनों को काटने का अधिकार संबंधित महकमे को दे दिया जाए। वर्तमान में यह अधिकार संबंधित गांव की कमेटियों के पास है।

[MORE_ADVERTISE1]