स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

छह साल की बच्ची से बलात्कार व हत्या के मामले में युवक को माना दोषी, आज होगा सजा का ऐलान

Adrish Khan

Publish: Nov 04, 2019 19:59 PM | Updated: Nov 04, 2019 19:59 PM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. छह वर्षीय बालिका से बलात्कार व उसकी हत्या कर शव कूलर में छिपाने के सादुलशहर के बहुचर्चित प्रकरण में विशेष कोर्ट पोक्सो हनुमानगढ़ ने सोमवार को आरोपी युवक को दोषी करार दिया। विशिष्ट न्यायाधीश पोक्सो कोर्ट मसरूरआलम खान ने आरोपी हेमंत सोनी उर्फ आशु (23) पुत्र मनोहरलाल सोनी निवासी सादुलशहर को आईपीसी की धारा 376, 302, 120 बी व 201 तथा पोक्सो एक्ट की धारा 5एम76 में दोषी माना।

छह साल की बच्ची से बलात्कार व हत्या के मामले में युवक को माना दोषी, आज होगा सजा का ऐलान
- मासूम से दरिंदगी का दोषी युवक दोष सिद्ध होने पर तिलमिलाया
- पोक्सो कोर्ट हनुमानगढ़ आज करेगी सजा का ऐलान
- सादुलशहर का बहुचर्चित प्रकरण
हनुमानगढ़. छह वर्षीय बालिका से बलात्कार व उसकी हत्या कर शव कूलर में छिपाने के सादुलशहर के बहुचर्चित प्रकरण में विशेष कोर्ट पोक्सो हनुमानगढ़ ने सोमवार को आरोपी युवक को दोषी करार दिया। विशिष्ट न्यायाधीश पोक्सो कोर्ट मसरूरआलम खान ने आरोपी हेमंत सोनी उर्फ आशु (23) पुत्र मनोहरलाल सोनी निवासी सादुलशहर को आईपीसी की धारा 376, 302, 120 बी व 201 तथा पोक्सो एक्ट की धारा 5एम76 में दोषी माना। मगर वकीलों के कार्य बहिष्कार के चलते सजा के बिन्दुओं पर बहस मंगलवार को होगी। इसके बाद न्यायाधीश दोषी को सजा सुनाएंगे। इस प्रकरण में हेमंत सोनी की माता कांता सोनी को आईपीसी की धारा 302 से दोष मुक्त कर दिया गया। मगर 120 बी व 201 में दोषी माना गया। राज्य सरकार की ओर से मामले की पैरवी विशिष्ट लोक अभियोजक विनोद डूडी ने की। सजा सुनकर दोषी तिलमिला गया। उल्लेखनीय है कि बालिका से दरिंदगी को लेकर श्रीगंगानगर में आक्रोश था। कई जगह कैंडल मार्च निकाल कर घटना पर रोष जताया गया। सादुलशहर थाने पर विरोध प्रदर्शन भी किया गया था।
कूलर में छिपाया था शव
सादुलशहर के वार्ड 17 निवासी व्यापारी की छह वर्षीय पोती 22 दिसम्बर 2015 की दोपहर लापता हो गई थी। सूचना पर सादुलशहर पुलिस ने तलाशी शुरू की। हेमंत सोनी के घर की तलाशी भी ली। मगर कुछ पता नहीं चला। मगर जब पुलिस उनकी छत पर गई तो वहां बच्ची के जूते पड़े मिले। हेमंत सोनी व उसके परिजनों ने छत से पुलिस कर्मियों को नीचे लाने का प्रयास किया। इससे पुलिस का शक गहरा गया। बच्ची के परिजनों को जूते दिखाए तो उन्होंने पहचान कर ली। फिर पुलिस ने हेमंत सोनी से सख्ती से पूछताछ की तो उसने सच उगल दिया। बच्ची का शव घर के कमरे में रखे कूलर से बरामद करवा दिया। बच्ची के शरीर पर गंभीर चोटों के निशान थे। बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या के संदेह में आरोपी पर मुकदमा दर्ज किया गया। उसकी मां को भी सह आरोपी बनाया गया।
टॉफी के बहाने बुला दरिंदगी
दोषी हेमंत सोनी की बालिका के परिवार से दूर की रिश्तेदारी थी। इसलिए वह बच्ची के अपहरण की आशंका के बाद पीडि़त परिवार के साथ उसे ढूंढने में मदद कर रहा था। बठिंडा व डबवाली में बालिका के रिश्तेदारों के यहां तलाश कराने भी साथ गया था। मासूम बच्ची के घर के बिलकुल पास ही रहता था। उसकी मां घर में कॉस्मेटिक सामान की दुकान करती थी। आरोपी किसी दुकान पर नौकरी करता था। 22 दिसम्बर 2015 की दोपहर बच्ची गली में खेलते-खेलते उसके घर तक पहुंची। आरोपी ने उसे घर में खड़े-खड़े ही टॉफी के बहाने अपने पास बुला लिया। कमरे में दुष्कर्म कर गला दबाकर बच्ची की हत्या कर दी।
तो मामला स्थानांतरित
सादुलशहर के चर्चित प्रकरण में न्यायालय ने मुख्य आरोपी हेमंत सोनी को दोषी माना है। उसे मंगलवार को सजा सुनाई जाएगी। इस प्रकरण में दोषी हेमंत सोनी की पैरवी करने से श्रीगंगानगर बार संघ ने इनकार कर दिया था। इस वजह से श्रीगंगानगर सेशन कोर्ट से यह मामला हनुमानगढ़ स्थानांतरित कर दिया गया था। - विनोद डूडी, विशिष्ट लोक अभियोजक, पोक्सो कोर्ट हनुमानगढ़।

[MORE_ADVERTISE1]