स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बैठक में अधिकारी बोले, बेवजह कनेक्शन कट जाता तो पचास लाख के इंजेक्शन हो जाते खराब

Purushotam Jha

Publish: Dec 10, 2019 20:49 PM | Updated: Dec 10, 2019 20:49 PM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. बिजली बिलों के वितरण और वसूली में जोधपुर डिस्कॉम के अभियंताओं की ओर से की जा रही मनमानी का मामला जब मंगलवार को जिला स्तरीय बैठक में उठा तो पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने भी अपनी पीड़ा कलक्टर के सामने बयां कर दी। पब्लिक की ओर से औसत बिल के नाम पर की जा रही लूट की शिकायतों के बाद बैठक में कुछ विभाग के अधिकारियों ने भी बिजली संबंधी समस्याएं एक-एक करके कलक्टर के सामने रखी।

 

बैठक में अधिकारी बोले, बेवजह कनेक्शन कट जाता तो पचास लाख के इंजेक्शन हो जाते खराब
-जिला स्तरीय बैठक में कलक्टर ने बिजली कनेक्शन काटने से पहले पूरी सावचेती बरतने के दिए निर्देश
....फोटो.......
हनुमानगढ़. बिजली बिलों के वितरण और वसूली में जोधपुर डिस्कॉम के अभियंताओं की ओर से की जा रही मनमानी का मामला जब मंगलवार को जिला स्तरीय बैठक में उठा तो पशुपालन विभाग के एक अधिकारी ने भी अपनी पीड़ा कलक्टर के सामने बयां कर दी। पब्लिक की ओर से औसत बिल के नाम पर की जा रही लूट की शिकायतों के बाद बैठक में कुछ विभाग के अधिकारियों ने भी बिजली संबंधी समस्याएं एक-एक करके कलक्टर के सामने रखी। कलक्ट्रेट सभगाार में हुई जिला स्तरीय बैठक में कलक्टर जाकिर हुसैन ने जोधपुर डिस्कॉम के अधिकारियों को निर्देशित किया कि कहीं अगर बिल भर दिया गया है और बिजली काटी जा रही है तो यह गलत है। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. अमीलाल सहारण ने बताया कि उनके कार्यालय का बिल 15 नंवबर से पहले ही भर दिया गया था। इसके बावजूद डिस्कॉम का जेईएन कनेक्शन काटने आ गया। अगर कनेक्शन काट दिया जाता तो विभाग में 50 लाख के इंजेक्शन खराब हो सकते थे। इस पर जिला कलक्टर ने बिजली विभाग के अधिकारियों को कोई भी कार्रवाई से पहले पूरी जानकारी लेने के सख्त निर्देश दिए। लखूवाली ग्राम पंचायत में ढीले तारों को अब तक ठीक नहीं करने और नीचे रखे ट्रांसफार्मर के चारों ओर चारदिवारी नहीं बनाने को लेकर भी नाराजगी जताई। वहीं जोधपुर डिस्कॉम के एक्सईएन अरुण कुमार ने कहा कि पशुपालन विभाग के जिस बिल का मुद्दा उठाया गया है, उस मामले में निर्धारित तिथि के बाद बिल जमा करवावाया गया था। तत्काल बिल जमा करवाने की सूचना अपडेट नहीं होने के कारण कई बार इस तरह की दिक्कतें आती है। उन्होंने औसत बिल के मामले में कहा कि यदि मीटर खराब हो जाता है तो विभाग औसत विद्युत खर्च के आधार पर उपभोक्ताओं को बिल तैयार करके भिजवाता है। बैठक में कलक्टर ने निर्देश दिए कि ई-मित्र सेवा का लाभ लेने के लिए अब मूल दस्तावेजों को स्कैन कर अपलोड करना होगा। समीक्षा बैठक में जिला कलक्टर ने एसीपी योगेन्द्र कुमार को निर्देश दिए कि इस संबंध में सभी ई-मित्रों को आदेश जारी किए जाएं। दरअसल बैठक में मुद्दा आया कि ई-मित्र पर कई लोग फोटो स्टेट करवाए हुए फर्जी दस्तावेजों को अपलोड कर सरकारी योजनाओं का लाभ लेने की कोशिश करते हैं।मूल दस्तावेजों के अभाव में इसका जल्द वैरिफिकेशन नहीं हो पाता। जिला कलक्टर के निर्देश के बाद अब ई-मित्र सेवा केन्द्र से जो भी फॉर्म भरा जाएगा। वहां संबंधित दस्तावेजों की मूल कॉपी को स्कैन कर लगाना जरूरी होगा। बैठक में जिला कलक्टर ने सभी विभागों की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि सभी विभाग के जिला स्तरीय अधिकारी जनहित के मामलों को गंभीरता से लें और सतर्क रहें। किसी परिवेदना को किसी कारणवश रिजक्ट करना है तो उसमें जो भी कारण लिखा जाता है उसका वे खुद अवलोकन करने के बाद ही रिजक्ट करें। साथ ही किसी परिवेदना में लाभ दिया जाता है तब भी सभी जानकारियों को खुद जिला स्तरीय अधिकारी देखकर ही जारी करें। बैठक में एसडीएम कपिल यादव ने एक एक विभाग के विभिन्न मुद्दों की समीक्षा की। सीईओ जिला परिषद परशुराम धानका ने कहा कि सभी अधिकारी संपर्क पोर्टल में 30 दिन से ज्यादा पेंडिंग केसों का जल्द से जल्द निस्तारण करें। बैठक में जिला कलक्टर ने कहा कि संपर्क पोर्टल पर जो भी परिवेदना आती है उसे जिला स्तरीय अधिकारी सप्ताह में दो बार खुद देखेंगे और अगर कोई किसी परिवेदना को 60 दिन से ऊपर हो गए हैं तो उसकी वो खुद पर्सनली मॉनिटरिंग करेंगे। साथ ही जिला कलक्टर ने कहा कि सरकार की ओर से जो भी चि_ी आती है उसको भी सभी गंभीरता से लें। जिला कलक्टर ने टोल पर पब्लिक टॉयलेट होने और उसकी नियमित साफ सफाई के लिए रिडकोर के अधिकारियों को निर्देशित किया। जिला कलक्टर ने परिवहन विभाग के अधिकारियों को चेकिंग अभियान चलाने और खनिज विभाग के साथ मिलकर संयुक्त कार्रवाई के लिए भी निर्देशित किया। बैठक में उपस्थित नहीं होने वाले अधिकारियों को नोटिस देने के लिए भी कहा। बैठक में आबकारी अधिकारी ने बताया कि पिछले हफ्ते में 5 केस दर्ज किए गए जिसमें दो केस ओवररेट के और तीन अन्य थे। बैठक में आबकारी अधिकारी ने बताया कि पिछले हफ्ते में 5 केस दर्ज किए गए जिसमें दो केस ओवररेट के और तीन अन्य थे। बैठक में एसडीएम कपिल यादव, पीआरओ सुरेश बिश्नोई, पीएमओ डॉ. एमपी शर्मा, सीएमएचओ डॉ. अरूण चमडिय़ा, नगर परिषद कमीश्नर शैलेन्द्र गोदारा, कृषि विभाग के उप निदेशक दानाराम गोदारा, एसीपी योगेन्द्र कुमार, सहायक निदेशक महिला बाल विकास प्रवेश सोलंकी, एसई सिंचाई डीएस बेनीवाल, एसई शिवचरण रैगर, सीडीईओ तेजा सिंह, डेयरी एमडी पवन गोयल, विकास शाखा प्रभारी बृजमोहन सोखल समेत सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

[MORE_ADVERTISE1]