स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भावी उम्मीदवार 18 को करेंगे पहला पड़ाव पार - निकाय चुनाव 2019 का शंखनाद, 18 को वार्डों के आरक्षण को लेकर निकलेगी लॉटरी

Anurag Thareja

Publish: Sep 09, 2019 12:01 PM | Updated: Sep 09, 2019 12:01 PM

Hanumangarh

भावी उम्मीदवार 18 को करेंगे पहला पड़ाव पार - निकाय चुनाव 2019 का शंखनाद, 18 को वार्डों के आरक्षण को लेकर निकलेगी लॉटरी हनुमानगढ़. वार्डों के आरक्षण की तारीख की घोषणा होते ही निकाय चुनाव 2019 का शंखनाद हो गया है। 18 सितंबर को जिला कलक्ट्रेट में वार्डों के आरक्षण लॉटरी के माध्यम से होगा।


भावी उम्मीदवार 18 को करेंगे पहला पड़ाव पार
- निकाय चुनाव 2019 का शंखनाद, 18 को वार्डों के आरक्षण को लेकर निकलेगी लॉटरी

हनुमानगढ़. वार्डों के आरक्षण की तारीख की घोषणा होते ही निकाय चुनाव 2019 का शंखनाद हो गया है। 18 सितंबर को जिला कलक्ट्रेट में वार्डों के आरक्षण लॉटरी के माध्यम से होगा। यह आदेश स्वायत्त शासन विभाग के संयुक्त निदेशक व संयुक्त सचिव ने जारी किए हैं। इस संदर्भ में नंवबर 2019 में प्रदेश के 52 निकायों के चुनावों के चलते वार्डों का आरक्षण लॉटरी के माध्यम से तय करने के लिए जिला कलक्टर को निर्देश दिए हैं। निकाय चुनाव लडऩे का मन मनाए बैठे भावी उम्मीदवार लोकसभा चुनाव के बाद से ही वार्डों में वोट बैंक की राजनीति के लिए जोड़-तोड़ शुरू कर चुके थे। हालांकि चुनाव लडऩे का मन मनाए बैठे भावी उम्मीदवार वार्डों के आरक्षण की लॉटरी निकलने के बाद अपना पहला पड़ाव पार करेंगे। इस दिन कईयों के चेहरों पर खुशी दिखाई देगी तो कईयों के चेहरे लटकते हुए नजर आएंगे तो कई भावी उम्मीदवार अपना वर्चस्व कायम रखने के लिए उनके अनुरूप आरक्षण नहीं होने पर दूसरे वार्डों में चुनाव लडऩे के लिए कूदेंगे । सूत्रों की माने तो 11 सितंबर से 18 सितंबर के बीच कभी भी राज्य सरकार 52 निकायों के मुखिया के आरक्षण की लॉटरी निकाल सकती है।

'ट्री गार्ड व विकासÓ तय करेंगे वोट!
पर्यावरण की दुहाई देते हुए, वर्तमान में वार्डों में ट्री गार्ड व पौधरोपण करने की होड़ मची हुई है और सभी पार्षद अपने वार्डों में विकास कार्य कराने के लिए हरसंभव प्रयास में जुटे हैं। यही कारण है कि नगर परिषद विकास कार्य कराने के लिए निविदा पर निविदा जारी करने में लगी है। चाहे भाजपा के पार्षद हों, कांग्रेस के या फिर निर्दलीय, सभी एक सूत्री कार्यक्रम वोट बैंक को पक्का करने में लगे हैं। क्योंकि इनके सामने अधिकांश चुनाव लडऩे का मन मनाए बैठे भावी उम्मीदवार जोड़-तोड़ कर अपने स्तर पर ट्री गार्ड, विकास कार्य, भूमि संबंधित, साफ-सफाई, धार्मिक कार्यक्रमों में शिरकत कर आदि के जरिए वार्ड के नागरिकों को अपनी ओर आकर्षित करने में जुटे हुए हैं। यह प्रयास सफल हो पाएगा या नहीं, यह तो दो पड़ावों को पार करने का बाद ही मालूम होगा। पहला पड़ाव वार्डों के आरक्षण के समय व दूसरा पड़ाव इन चुनावों में जीत हासिल करने के बाद।

वार्डों की यह है स्थिति
हनुमानगढ़ में वर्तमान में 45 पार्षद हैं। राज्य सरकार के निर्देशानुसार पुनर्गठन कर 60 वार्ड किए जा चुके हैं। निकाय चुनाव नवंबर 2019 में 36 सामान्य वार्ड होंगे, इनमें से 12 वार्डों में महिलाओं के चुनाव लडऩे के लिए आरक्षित किया गया है। अन्य पिछड़ा वर्ग के 13 वार्ड होंगे, 10 वार्ड अनुसूचित जाति के व एक वार्ड अनुसूचित जनजाति का तय राज्य सरकार ने 16 अगस्त को किया था। हालांकि यह आरक्षण किन वार्डों में लागू होगा, यह 18 सितंबर को होने वाली लॉटरी में तय होगा।


शहरी क्षेत्र की जनसंख्या का गणित
हनुमानगढ़ शहरी क्षेत्र में 2011 की जनगणना के अनुसार कुल जनसंख्या 150958 के करीब है। इसमें से 79709 पुरूष की जनसंख्या व 71249 महिलाओं की जनसंख्या है। शहरी क्षेत्र में सामान्य जाति की जनसंख्या 123009, अनुसूचित जाति की जनसंख्या 25486 है, अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या 2463 है। शहरी क्षेत्र की जनसंख्या धर्म आधार पर इस प्रकार से हैं। इसमें हिन्दू की जनसंख्या 124049, सिख समुदाय की जनसंख्या 14724, मुस्लिम समुदाय की जनसंख्या 11072, 598 जैन समाज की जनसंख्या, ईसाई 296 जनसंख्या 2011 जनसंख्या जनगणना के आधार पर है।

********************************