स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अफीम तस्करी में मामी सहित पांच जने दोषी, सुनाई 20 साल की सजा

Adrish Khan

Publish: Nov 18, 2019 20:00 PM | Updated: Nov 18, 2019 20:00 PM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. पिछले साल 55 किलोग्राम अफीम और 18 लाख रुपए से अधिक की नकदी बरामदगी के चर्चित मामले में विशिष्ट न्यायालय एनडीपीएस ने सोमवार को महिला सहित पांच जनों को तस्करी का दोषी करार दिया। पांचों दोषियों को 20-20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई।

अफीम तस्करी में मामी सहित पांच जने दोषी, सुनाई 20 साल की सजा
- पिछले साल अप्रेल में चिश्तियां से दबोचा था नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की टीम ने
- 55 किलो 100 ग्राम अफीम व 18 लाख 40 हजार 600 रुपए बरामदगी का मामला
हनुमानगढ़. पिछले साल 55 किलोग्राम अफीम और 18 लाख रुपए से अधिक की नकदी बरामदगी के चर्चित मामले में विशिष्ट न्यायालय एनडीपीएस ने सोमवार को महिला सहित पांच जनों को तस्करी का दोषी करार दिया। पांचों दोषियों को 20-20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई। साथ ही उन पर दो-दो लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया। जुर्माना अदा नहीं करने पर उनको एक-एक वर्ष का अतिरिक्त कठोर कारावास भुगतना होगा। राज्य सरकार की ओर से मामले की पैरवी विशिष्ट लोक अभियोजक दिनेश दाधीच ने की। विशिष्ट न्यायाधीश विरेन्द्र कुमार जसूजा ने मुख्य आरोपी जसविंदर कौर उर्फ मामी पत्नी दिवंगत जगराज सिंह, चरण सिंह पुत्र मुकंद सिंह व हरदीप सिंह पुत्र भगवान सिंह सभी निवासी चिश्तियां तथा रामफूल पुत्र नाथूलाल व गोविंद माली पुत्र मांगीलाल माली दोनों निवासी भीमनगर, जिला झालावाड़ को दोषी मान सजा सुनाई है।
प्रकरण के अनुसार नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की जोधपुर व चंडीगढ़ टीम ने गांव चिश्तियां में नौ अप्रेल 2018 को छापा मार 55 किलो 100 ग्राम अफीम जब्त की थी। साथ ही 1840600 लाख की नकदी भी बरामद की थी। अफीम सप्लायर सहित पांच जनों को गिरफ्तार किया। एनडीपीएस एक्ट में कार्रवाई के बाद अनुसंधान मीना मीणा सूचना अधिकारी जोधपुर ने किया। अनुसंधान परिवाद न्यायालय में पेश किया। ट्रायल के दौरान पर्याप्त साक्ष्य के आधार पर न्यायालय ने सभी आरोपियों को दोषी करार देते हुए सजा सुनाई।


यूं दबोचा था टीम ने
नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो चंडीगढ़ टीम को मुखबिर ने सूचना दी थी कि कोटा क्षेत्र से बोलेरो नम्बर आरजे 33, जीए 2488 में भारी मात्रा में अफीम लेकर हनुमानगढ़ आ रही है। चंडीगढ़ टीम ने जोधपुर टीम से सूचना साझा कर संयुक्त टीम बनाई तथा बोलेरो का कोटा क्षेत्र से ही पीछा किया। हनुमानगढ़ से करीब सात किलोमीटर दूर गांव चिश्तियां स्थित जसविन्द्र कौर के घर बोलेरो पहुंची। यहां थैले में भरी अफीम उतार कर कमरे में रख दी गई। गांव चिश्तियां के गुरचरण सिंह उर्फ चरणा व उसके भतीजा हरदीप सिंह पुत्र भगवान सिंह ने अफीम की आपूर्ति ली। इसके बाद ब्यूरो टीम ने घर पर छापा मार बोलेरो जब्त कर ली तथा चालक रामफूल पुत्र नाथूलाल तथा परिचालक गोविन्दलाल पुत्र मांगीलाल दोनों निवासी झालावाड़ को गिरफ्तार कर लिया। अफीम छिपाने के लिए बोलेरो के नीचे विशेष तौर पर बॉक्स बनाया हुआ था। इसमें औजारों के पास अफीम छिपाकर रखी हुई थी।


नहीं हुई ऐसी कार्रवाई
पूछताछ में आरोपित जसविन्द्र कौर, चरणजीत ङ्क्षसह व हरदीप सिंह से 1840600 रुपए की नकदी भी बरामद हुई। इस कार्रवाई में स्थानीय पुलिस को शामिल नहीं किया गया। गांव चिश्तियां में मौके की जांच-पड़ताल तथा कागजी कार्रवाई पूर्ण होने के बाद ही जंक्शन पुलिस को वहां बुलाया गया। बरामद अफीम की कीमत बाजार में 70 लाख रुपए के करीब बताई गई थी। इतनी बड़ी मात्रा में अफीम बरामदगी की कार्रवाई जिले में पिछले एक दशक से अधिक समय में नहीं हुई है।

[MORE_ADVERTISE1]