स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नोहर में 32 लाख 57 हजार का गबन, 15 दुकानदारों पर गिरी गाज

Anurag Thareja

Publish: Dec 11, 2019 12:12 PM | Updated: Dec 11, 2019 12:12 PM

Hanumangarh


नोहर में 32 लाख 57 हजार का गबन, 15 दुकानदारों पर गिरी गाज
- जिला आबकारी विभाग में दो करोड़ गबन के मामले में अब नोहर में भी हुआ मामला दर्ज
- अधिकारी व कर्मचारी अभी भी लपेटे से बाहर


नोहर. आबकारी विभाग की ओर से अब नोहर में 15 दुकानों की एवज में 32 लाख 57 हजार रुपए के गबन होने का मामला नोहर थाने में दर्ज करवाया गया है। आबकारी निरीक्षक वृत नोहर बालकृष्ण शर्मा ने थाने में मामला दर्ज करवाया कि मलका देवी पत्नी सतपाल निवासी जिला सिरसा, हरियाणा अनुज्ञाधारी देशी मदिरा कम्पोजिट दुकान समूह बड़बिराना वर्ष 2019-20 के 03 चालानों की कुल राशि रुपए 492500 के गबन में शामिल थी। जिसको जारी नोटिस के उपरान्त मलका देवी ने उक्त बकाया राशि नए चालानों से राजकोष में जमा करवा दी। लेकिन तीन चालान में से दो चालान बैंक की जाली मुहर लगाकर तैयार किए गए। जो विभागीय रिकार्ड में उपलब्ध है। इसी तरह संतोष/लीलाधर निवासी वार्ड 04 बडबिराना अनुज्ञाधारी देशी मदिरा कम्पोजिट दुकान समूह दलपतपुरा ने एक चालान की राशि के 80000 गबन में शामिल थी। इसको जारी नोटिस के उपरान्त बकाया राशि नए चालान द्वारा राजकोष में जमा करवा दी। जेठी / भुराराम निवासी दुधली, तहसील रावतसर कम्पोजिट दुकान समूह धानसिया के 05 चालानों की कुल राशि 12लाख 7200 गबन में शामिल थी। इसने भी नोटिस के उपरांत राशि जमा करवा दी। लेकिन ठेकेदार की ओर से जमा राशि के उक्त 05 चालान में सें 03 चालान बैंक की जाली मुहर लगाकर जमा करवाए गए थे। रामकुमार पुत्र वीर सिंह निवासी वार्ड 11 ढिलकी जाटान अनुज्ञाधारी देशी मदिरा कम्पोजिट दुकान समूह ढिलकी जाटान के एक चालान की कुल राशि 62300 का गबन हुआ। नोटिस जारी करने के बाद ठेकेदार ने उक्त राशि राजकोष में जमा करवा दी। इसी प्रकार सतोंष कवंर पत्नी भरत सिह निवासी वार्ड 11 गोगामेडी, कम्पोजिट दुकान समूह फेफाना ने एक जाली चालान की राशि 6 लाख 24 हजार 300 गबन में शामिल थी। जिसको जारी नोटिस के उपरान्त सतोंष कवंर ने उक्त बकाया राशि नए चालान के माध्यम से राजकोष में जमा करवा दी। लेकिन इनमें से एक चालान पर बैंक की फर्जी मुहर पाई गई।

विनोद कवंर पत्नी दलीप सिंह निवासी गांव जाखर तहसील नवलगढ़ ने कम्पोजिट दुकान समूह गोरखाना के एक चालान की राशि 147000 गबन में शामिल थी। नोटिस जारी करने के उपरांत राशि जमा करवा दी गई। शारदा पत्नी बलदेव वार्ड 8 अरड़की कम्पोजिट दुकान समूह मलवानी की एक चालान की राशि 221600 का गबन किया गया। नोटिस जारी करने के बाद इन्होंने भी राशि जमा करवा दी। राजेश कंवर पत्नी मूल सिंह ने वार्ड सात में तारानगर जिला चुरू कम्पोजिट दुकान समूह मंदरपुरा चालान की राशि 91500 का गबन होना पाया गया। इन्होंने भी नोटिस जारी करने के बाद राशि जमा करवा दी। इसी तरह रोहिताश छिम्पा पुत्र कृष्ण लाल वार्ड 15 रावतसर का 24400 रुपए का चालान का गबन होना पाया गया। नोटिस जारी होने के पश्चात रोहिताश ने राजकोष में राशि जमा करवा दी। कालू राम पुत्र सोहन लाल वार्ड 09 बच्चुसर वीपीओ महेन्द्रपुरा कम्पोजिट दुकान समूह सिरगंसर के 02 चालान की की राशि 165100 गबन में शामिल थी। इसे भी राजकोष में जमा करवा दिया गया। जयवीर पुत्र लिच्छी राम निवासी गांव सोनडी नोहर कम्पोजिट दुकान समूह सोनड़ी के एक चालान की की राशि 58700 भी गबन में शामिल थी। इसे भी नोटिस के बाद में जमा करवा दी गई।
विशेष लेखा जांच टीम ने 15 मदिरा दुकानों में से 4 मदिरा दुकान बड़बिराना, धानसिया, फेफाना, मलवानी के अनुज्ञाधारियों ने बैंक की मुहर के चालान प्रस्तुत कर देशी मदिरा का उठाव करना पाया है। सात दुकानें दलपतपुरा, ढिलकी जाटान, गोरखाना, मंदरपूरा, रामसरा, सिरंगसर, सोनडी के दुकान संचालकों ने करीब 06 लाख 88 हजार रुपए का बिना चालान के विभागीय साईट पर राशि इन्द्राज कर व करवा कर मदिरा का उठाव किया। इस प्रकरण में कार्यालय रिकार्ड में उपलब्ध सात जाली चालान बैंक में जमा होना नहीं पाए गए। ऑडिट टीम ने 4 मदिरा दुकानों भोगराना, जबरासर, नीमला एवं थालड़का के 4 बैंक चालानों की राशि 83120 बकाया निकाली गई थी। जिसमें इन 4 दुकानों के बैंक चालानों का पुन: ईग्रास से मिलान किया गया तो देशी मदिरा दुकान जबरासर का बैंक चालान राशि 82500 का मिलान हो गया है। राशि नियमानुसार जमा पाई गई है। अन्य तीन दुकानों भोगराना, नीमला, थालड़का के बैंक चालान राशि 100, 200, 320 का इन्द्राज विभागीय त्रुटिवश हो गया था। जिसकी राशि जमा करवा दी गई है। शेष रही 11 दुकानों के विरूध विभागीय कार्यवाही कर सम्बधित अनुज्ञाधारियों को नोटिस जारी कर सम्पूर्ण राशि बतीस लाख सतावन हजार तीन सौ बीस सम्बन्धित मदिरा दुकानों के अनुज्ञाधारियों द्वारा राजकोष में जमा करवा दी गई है।

इस प्रकरण में विभागीय प्रारम्भिक जांच में उक्त दुकानो के संचालको के साथ कनिष्ठ सहायक इन्द्रजीत सिंह अतिरिक्त प्रभार कार्यालय वृत नोहर की मिलीभगत से गबन किया जाना प्रदर्शित होता है। आबकारी वृत नोहर की 22 मदिरा दुकानों के कुल 34 चालानों की जांच में कुल राशि अठारह लाख पिचयानवे हजार आठ सौ छियानवे का गबन पाया गया। उक्त सभी 34 चालानों में से 25 चालान विभागीय रिकॉर्ड में नहीं मिले।

वर्ष 2018-19 में यह हुआ गबन
वित्तीय वर्ष 2018-19 में 1578310 गबन योग्य राशि पाई गई है। इसमें गांव रामपुरा उर्फ रामसरा तहसील टिब्बी जिला हनुमानगढ़ अनुज्ञाधारी देशी मदिरा दुकान समूह अरड़की वृत नोहर वर्ष 2018-19 के तीन चालान की राशि 133850 गबन में शामिल थी। नोटिस के उपरान्त एक बैंक चालान 10,250/- का नियमानुसार जमाराज पाया गया शेष अन्य दो बैंक चालान प्रस्तुत नहीं किया है। इसी तरह धर्मवीर पुत्र राममूर्ति निवासी तहसील भादरा अनुज्ञाधारी देशी मदिरा दुकान समूह ढीलकी जाटान वृत नोहर वर्ष 2018-19 के 2 चालान 168650 की राशि गबन में शामिल थी । नोटिस जारी करने के बाद जवाब प्रस्तुत नहीं किया। रमेश पुत्र देवीलाल निवासी गांव थिराना तहसील नोहर अनुज्ञाधारी देशी मदिरा दुकान समूह मन्दरपुरा का एक चालान 65500 गबन में शामिल है। मुकेश पुत्र कृष्ण कुमार निवासी सोतीबड़ी तहसील नोहर का देशी मदिरा दुकान समूह रामसरा भी एक चालान 84000 का गबन में शामिल है। बजरंग पुत्र धन्नाराम निवासी जोजासर देशी मदिरा दुकान समूह टीडियासर के दो चालान जिसकी राशि 167000 गबन में शामिल है। सरोज पत्नी बंसीलाल निवासी उज्जवलवास की देशी मदिरा दुकान समूह उज्जलबास का एक चालान 136100 गबन में शामिल है। दर्ज मामले के अनुसार उक्त सभी को नोटिस भी जारी किया गया। लेकिन जवाब प्रस्तुत नहीं किया।
परवेज नागरा पुत्र यासीन नागरा निवासी वार्ड 9 की देशी मदिरा दुकान समूह देईदास की ओर से दो चालान की राशि 212400 गबन में शामिल है। सतवीर पुत्र भादरराम निवासी मैनावाली 14 एनडीआर देशी मदिरा दुकान समूह धानसिया के दो बैंक चालान की राशि 257240 भी गबन में शामिल है। इन्हें नोटिस जारी किया गया, लेकिन जवाब प्रस्तुत नहीं किया। सज्जन कुमार पुत्र ओमप्रकाश निवासी फेफाना की 50 हजार रुपए की राशि जमा नहीं होना पाया गया है। महावीर पुत्र दुनीराम निवासी परलीका की 259100 की राशि रिकार्ड में जमा नहीं होना पाया गया है। इसी तरह संदीप पुत्र देवीलाल निवासी बरवाली के केवल 4 हजार रुपए रिकार्ड में जमा नहीं होना पाया गया है। इसके अलावा सतवीर पुत्र रामेश्वर निवासी श्योरानी की ओर से 7300 रुपए की राशि जमा नहीं होना पाया गया। इसके तहत इन सभी के खिलाफ भी मामला दर्ज करवाया गया है। नसं.

******************************

[MORE_ADVERTISE1]