स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बीवी को पीहर से बुलाने की बात पर जीजा-साले में विवाद, मारपीट में विवाहिता के जेठ की हत्या

Adrish Khan

Publish: Dec 13, 2019 12:16 PM | Updated: Dec 13, 2019 12:16 PM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. पीहर से पत्नी को वापस बुलाने की बात को लेकर जीजा-साले में हुआ विवाद हत्या में बदल गया। जीजा के साथ मोबाइल फोन पर कहासुनी के बाद साले अपने चार दोस्तों के साथ बुधवार रात बहन के ससुराल जा पहुंचा। वहां जीजा सहित ससुराल पक्ष के लोगों पर हमला कर दिया।

बीवी को पीहर से बुलाने की बात पर जीजा-साले में विवाद, मारपीट में विवाहिता के जेठ की हत्या
- टिब्बी थाना क्षेत्र के गांव मसानी की वारदात
- चार जनों को किया गिरफ्तार
हनुमानगढ़. पीहर से पत्नी को वापस बुलाने की बात को लेकर जीजा-साले में हुआ विवाद हत्या में बदल गया। जीजा के साथ मोबाइल फोन पर कहासुनी के बाद साले अपने चार दोस्तों के साथ बुधवार रात बहन के ससुराल जा पहुंचा। वहां जीजा सहित ससुराल पक्ष के लोगों पर हमला कर दिया। इसमें एक की मौत हो गई तथा तीन जने घायल हो गए। वारदात क्षेत्र के गांव मसानी के वार्ड 4 में हुई। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों के बयान के आधार पर मामला दर्ज किया। इस संबंध में चार जनों को गिरफ्तार किया। उनको शुक्रवार को कोर्ट में पेश कर रिमांड मंजूर कराया गया। इससे पूर्व टिब्बी पुलिस ने मृतक अमरजीत सिंह के शव का गुरुवार को जिला चिकित्सालय में पोस्टमार्टम करवा कर शव परिजनों को सौंप दिया।
पुलिस ने हत्या के आरोप में काला सिंह उर्फ गोविन्द सिंह पुत्र मेजर सिंह निवासी नंदराम की ढाणी, चक 10 केएसपी निवासी धोलू वाल्मीकि व मुंडा निवासी विनोद गोदारा तथा शिवा पुत्र शंकरलाल निवासी मुंडा को गिरफ्तार किया है। मामले की जांच पुलिस उप अधीक्षक संगरिया को सौंपी गई है। एसआई ओमप्रकाश सुथार ने बताया कि गांव मसानी निवासी रणजीत सिंह पुत्र मेजर सिंह मजहबी की पत्नी सोनू देवी पुत्री मेजर सिंह तीन दिन पूर्व अपने दो बच्चों के साथ पीहर नंदराम की ढाणी गई थी। बुधवार शाम तक वापस नहीं लौटने पर रणजीत सिंह ने अपने साले काला सिंह उर्फ गोविन्द पुत्र मेजर सिंह को फोन कर सोनू को मसानी भेजने को कहा। काला सिंह ने इनकार किया तो दोनों के बीच कहासुनी हो गई। काला सिंह ने रणजीत सिंह को मसानी आकर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद काला सिंह उर्फ गोविन्द अपने साथी 10 केएसपी निवासी धोलू वाल्मीकि, मुण्डा निवासी विनोद गोदारा व शिवा तथा नंदराम की ढाणी निवासी जग्गा सिंह के साथ मोटरसाइकिल पर सवार होकर मसानी पहुंचे।
रणजीत सिंह, उसके भाई अमरजीत सिंह व उनके पिता मेजर सिंह पर लाठी, गंडासी व लोहे की रॉड से हमला कर दिया। शोर सुनकर आसपास के ग्रामीणों के एकत्र होने पर आरोपी मौके से फरार हो गए। उनके फरार होने के बाद ग्रामीणों ने घायलों को संभाला तथा इलाज के लिए हनुमानगढ़ जिला चिकित्सालय के लिए रवाना हुए। रास्ते में ही अमरजीत सिंह की मौत हो गई।
जबकि रणजीत सिंह व मेजर सिंह को जिला चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया वहां से मेजर सिंह को बीकानेर रेफर कर दिया गया। हमले के दौरान आरोपी काला सिंह उर्फ गोविन्द भी घायल हो गया। उसे भी हनुमानगढ़ के चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया है। पुलिस ने हनुमानगढ़ चिकित्सालय में उपचाराधीन रणजीत सिंह के पर्चा बयान के आधार पर पांचों आरोपियों के खिलाफ धारा 302, 458, 323, 143 व एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है।


पहले छोटे को फोन
मसानी निवासी रणजीत सिंह का नंदराम की ढाणी निवासी सोनू के साथ करीब छह साल पूर्व विवाह हुआ था। वह तीन दिन पूर्व अपने दो बच्चों सहजदीप व बब्बू को लेकर अपने पीहर गई थी। बुधवार रात को रणजीत सिंह ने पहले अपने छोटे साले सुनील को फोन किया। लेकिन उसने बाहर होने की जानकारी दी तो रणजीत सिंह ने अपने बड़े साले काला सिंह को फोन किया।

[MORE_ADVERTISE1]