स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चाय पर चर्चा के साथ निपटा 'कुर्सी पर उठने-बैठने' का चर्चित मामला

Adrish Khan

Publish: Jan 18, 2020 12:25 PM | Updated: Jan 18, 2020 12:25 PM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. एसडीएम व चिकित्सक का कुर्सी पर उठने-बैठने को लेकर हुआ विवाद आखिरकार चाय पर चर्चा के साथ निपट गया। जिला कलक्टर जाकिर हुसैन की मौजूदगी में हुई वार्ता के दौरान शब्द वापसी के साथ मामले का पटाक्षेप हो गया।

चाय पर चर्चा के साथ निपटा 'कुर्सी पर उठने-बैठने' का चर्चित मामला
- हनुमानगढ़ के पीलीबंगा एसडीएम व गोलूवाला सीएचसी प्रभारी के बीच हुआ विवाद समाप्त
- गोलूवाला थाना प्रभारी की नकारात्मक भूमिका के चलते हटाने का प्रस्ताव
हनुमानगढ़. एसडीएम व चिकित्सक का कुर्सी पर उठने-बैठने को लेकर हुआ विवाद आखिरकार चाय पर चर्चा के साथ निपट गया। जिला कलक्टर जाकिर हुसैन की मौजूदगी में हुई वार्ता के दौरान शब्द वापसी के साथ मामले का पटाक्षेप हो गया। वहीं इस घटनाक्रम में गोलूवाला थाना प्रभारी बिशन सहाय की नकारात्मक भूमिका के चलते उनको पद से हटाने पर सहमति बनी। इस संबंध में पुलिस प्रशासन को प्रस्ताव भेजने का निर्णय किया गया। पिछले तीन दिनों से यह मामला सोशल मीडिया पर छाया हुआ था। एसडीएम-चिकित्सक के वाद-विवाद की वीडियो क्लिप लाखों लोग देख चुके थे। साथ ही इस मसले पर हजारों लोग अपनी राय व्यक्त कर चुके थे। ऐसे में जिला प्रशासन, सेवारत चिकित्सक संघ तथा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने सकारात्मक ढंग से मामले को लेते हुए इसका पटाक्षेप कर दिया।
इससे पहले आईएमए व अरिसदा के पदाधिकारियों की जिला कलक्टर जाकिर हुसैन की मौजूदगी में बैठक हुई। इसमें पीलीबंगा एसडीएम प्रियंका तलानिया व गोलूवाला सीएचसी प्रभारी डॉ. नरेन्द्र बिश्नोई ने बुधवार शाम सीएचसी पर हुए घटनाक्रम को लेकर अपना पक्ष रखा। दोनों अधिकारियों ने कहा कि इस विवाद से पहले वे एक-दूसरे को नहीं जानते थे। इसलिए उनका पहले से विवाद या दुर्भावना जैसी कोई बात थी ही नहीं। यकायक बात बढ़ती चली गई। पीलीबंगा एसडीएम प्रियंका तलानिया ने कहा कि उनकी बहन भी चिकित्सक हंै। चिकित्सक व चिकित्सकीय पेशे के प्रति पूरा सम्मान रखती हैं। यदि उनके व्यवहार व शब्दों से सीएचसी प्रभारी को ठेस लगी है तो अपने शब्द वापस लेती हूं। एसडीएम ने घटना को लेकर खेद जताया। वार्ता में पीएमओ डॉ. एमपी शर्मा, सीएमएचओ डॉ. अरुण चमडिय़ा, आईएमए अध्यक्ष डॉ. निशांत बतरा, अरिसदा अध्यक्ष डॉ. हरिओम बंसल, महासचिव डॉ. धर्मेन्द्र रोझ, डॉ. रविशंकर शर्मा, एसडीएम हनुमानगढ़ कपिल यादव, डीआईजी स्टाम्प भवानीसिंह पंवार, पीआरओ सुरेश बिश्नोई आदि मौजूद रहे।


आखिर क्यों पैदा हुआ विवाद
सूत्रों के अनुसार गत सप्ताह गोलूवाला थाने के पुलिसकर्मी मेडिकल मुआयने संबंधी कार्य से स्थानीय सीएचसी गए। वहां पुलिसकर्मियों के चिकित्सक कक्ष के द्वार पर खड़े होने को लेकर विवाद हो गया। सीएचसी प्रभारी डॉ. नरेन्द्र बिश्नोई ने पुलिसकर्मियों को समझाया। पुलिसकर्मियों ने इसे अपना अपमान समझते हुए मामले की जानकारी गोलूवाला थाना प्रभारी बिशन सहाय को दी। उन्होंने पीलीबंगा एसडीएम आदि अधिकारियों से सीएचसी प्रभारी के व्यवहार की शिकायत की। इस घटनाक्रम के दो-तीन दिन बाद ही बुधवार शाम को पीलीबंगा एसडीएम, गोलूवाला थाना प्रभारी, पीलीबंगा तहसीलदार आदि सीएचसी का निरीक्षण करने गए।


क्या था विवाद
गोलूवाला सीएचसी का बुधवार शाम निरीक्षण किया गया। इस दौरान पीलीबंगा एसडीएम व सीएचसी प्रभारी के बीच विवाद हो गया। दोनों के बीच कुर्सी से उठने-बैठने को लेकर बहस हुई। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर दुव्र्यवहार के आरोप लगाए।

[MORE_ADVERTISE1]