स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नशीली दवा की तस्करी के दोषियों को 12 साल की सजा

Adrish Khan

Publish: Dec 12, 2019 21:49 PM | Updated: Dec 12, 2019 21:49 PM

Hanumangarh

https://www.patrika.com/hanumangarh-news/

हनुमानगढ़. विशेष न्यायालय एनडीपीएस प्रकरण ने गुरुवार को नशीली दवा तस्करी के मामले में दो जनों को दोषी करार देते हुए 12-12 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई। दोनों पर एक-एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया। जुर्माना अदा नहीं करने पर उनको एक-एक वर्ष का अतिरिक्त कठोर कारावास भुगतना होगा।

नशीली दवा की तस्करी के दोषियों को 12 साल की सजा
- दोषियों के कब्जे से पुलिस ने जब्त की थी नशीली दवा की 50 शीशियां
- विशेष न्यायालय एनडीपीएस का प्रकरण
हनुमानगढ़. विशेष न्यायालय एनडीपीएस प्रकरण ने गुरुवार को नशीली दवा तस्करी के मामले में दो जनों को दोषी करार देते हुए 12-12 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई। दोनों पर एक-एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया। जुर्माना अदा नहीं करने पर उनको एक-एक वर्ष का अतिरिक्त कठोर कारावास भुगतना होगा। राज्य की ओर से विशिष्ट लोक अभियोजक दिनेश दाधीच ने पैरवी की।
प्रकरण के अनुसार 18 जनवरी 2017 को टाउन थाने के तत्कालीन थाना प्रभारी मोहम्मद अनवर ने अल्लारखा पुत्र उमरसदीक तथा सफल मुलुक पुत्र चिरागदीन निवासी लखूवाली के कब्जे से गश्त के दौरान नशीली दवा (कॉरेक्स) की 50 शीशियां जब्त की। एनडीपीएस घटक की इस दवा के भंडारण व परिवहन का कोई वैध लाइसेंस आरोपियों के पास नहीं मिला। पुलिस ने दवा जब्त कर दोनों को गिरफ्तार किया। जांच के बाद चालान पेश किया। अभियोजन की ओर से 12 गवाह पेश किए तथा 50 दस्तावेज न्यायालय में प्रदर्शित किए गए। न्यायालय ने दोषियों के विरुद्ध आरोप सिद्ध मानते हुए सजा सुनाई। विशिष्ट लोक अभियोजक दिनेश दाधीच ने बताया कि मेडिकेटेड नशे की बीमारी जिले में खतरनाक स्तर तक फैल गई है। इस तरह के फैसलों से नि:संदेह अपराधियों में भय बनेगा।

[MORE_ADVERTISE1]