स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

२५ पेड लगाने की शर्त पर व्यापमं घोटाले के आरोपी को जमानत

Rajendra Talegaonkar

Publish: Nov 12, 2019 19:23 PM | Updated: Nov 12, 2019 19:23 PM

Gwalior

पूर्व में अन्य आरोपियों को मिली जमानत को देखते हुए दी सशर्त जमानत

ग्वालियर। उच्च न्यायालय ने व्यावसायिक परीक्षा मंडल घोटाले के आरोपी राधेश्याम पासवान को छायादार एवं फलदार २५ पेड लगाए जाने की शर्त पर रिहा किए जाने के आदेश दिए हैं। आरोपी को यह पेड कलेक्टर द्वारा निर्धारित स्थान पर लगाते हुए उनकी एक साल तक देखभाल करना होगी।

न्यायमूर्ति आनंद पाठक ने इस आदेश में यह भी कहा कि यदि आरोपी ट्री गार्ड लगाने में असमर्थ है तो वन विभाग उसे मुफ्त या रियायती दरों पर किसी वृक्षारोपण योजना के तहत उपलब्ध कराए। यदि आरोपी इसमे विफल होता है तो उसकी जमानत स्वत: रद्द हो जाएगी। आरोपी को वृक्षारोपण की रिपोर्ट भी न्यायालय में पेश करनी होगी। जिला वन अधिकारी को पौधरोपण की रिपोर्ट भी पेश करना होगी।

राधेश्याम पासवान द्वारा जमानत के लिए दूसरा आवेदन प्रस्तुत करते हुए कहा गया कि पुलिस थाना झांसी रोड़ द्वारा ४ जुलाई १९ को उसे धारा ४२०, ४६७, ४६८, ४७१, १२० बी तथा परीक्षा अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में सीबीआई की ओर से असिस्टेंट सोलिसीटर जनरल ने आरोपी के जमानत आवेदन का विरोध करते हुए कहा कि आरोपी के खिलाफ जो सबूत मिले हैं एवं उस पर जो आरोप है उन्हें देखते हुए आरोपी को जमानत नहीं दी जाए।

आरोपी राधेश्याम पासवान पर आरोप है कि उसने पीएमटी २००९ में धोखाधड़ी की। उसने सह आरोपी सॉल्वर की व्यवस्था की थी, इस मामले में सॉल्वर अनिल कुमार को जमानत का लाभ दिया जा चुका है। न्यायालय ने प्रकरण के तथ्यों को देखते हुए आरोपी को उक्त शर्तों के साथ जमानत पर रिहा किए जाने के निर्देश दिए हैं।

[MORE_ADVERTISE1]