स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नंबर प्लेट नहीं फिर भी ढोह रहे रेत-गिट्टी

Rajesh Shrivastava

Publish: Nov 12, 2019 19:22 PM | Updated: Nov 12, 2019 19:22 PM

Gwalior

अंचलभर से इन दिनों रेत, मुरम और गिट्टी का अवैध परिवहन जमकर किया जा रहा है। अवैध परिवहन में ट्रैक्टर-ट्रॉलियों का ही सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता है, लेकिन मटेरियल का परिवहन करने वाले रसूखदारों द्वारा बिना नंबर के ही वाहन चलवाए जा रहे हैं।

ग्वालियर. अंचलभर से इन दिनों रेत, मुरम और गिट्टी का अवैध परिवहन जमकर किया जा रहा है। अवैध परिवहन में ट्रैक्टर-ट्रॉलियों का ही सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता है, लेकिन मटेरियल का परिवहन करने वाले रसूखदारों द्वारा बिना नंबर के ही वाहन चलवाए जा रहे हैं। जिससे कार्रवाई होने पर वाहन पकड़ा जाए तो वाहन मालिक की पहचान उजागर नहीं हो सके। हालांकि परिवहन विभाग द्वारा इन दिनों चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। इसके बावजूद भी मटेरियल का परिवहन करने वाले बिना नंबर के वाहन आसानी से शहर से होकर हाईवे के रास्ते निकल जाते हैं। इस तरह से रेत और गिट्टी बिना नंबर के वाहनों से ही शहर में सप्लाई की जा रही है। मटेरियल लाने वाले बिना नंबर के वाहन पहले तो शहर के बाहर ही सीमा पर खड़े रहते हैं, जैसे ही उन्हें मटेरियल का ऑर्डर मिलता है तो वह वाहन को शहर में प्रवेश कर संबंधित जगह पर मटेरियल पहुंचाकर आसानी से शहर से बाहर निकल जाते हैं। जिन्हें देखने के बावजूद भी ट्रैफिक पुलिसकर्मी अनदेखा कर देते हैं।

ट्रैफिक पुलिस की मिलीभगत तो नहीं...
शहर से होकर गुजरे हाइवे पर कई ट्रैक्टर-ट्रॉलियां तेज रफ्तार में निकलते देखे जा सकते हैं, इन वाहनों से रेत, गिट्टी और मिट्टी का परिवहन किया जाता है। अहम बात तो यह है कि मटेरियल का परिवहन करने वाले इन वाहनों पर नंबर भी नहीं लिखे रहते हैं। इसके बावजूद भी बिना नंबर लिखे वाहनों से मटेरियल की सप्लाई की जाती है। बिना नंबर वाले वाहन शहर से होकर गुजर जाते हैं, लेकिन न तो परिवहन विभाग द्वारा कोई कार्रवाई की जाती है और न ही ट्रैफिक पुलिस द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जाता है। जिसका ही फायदा बिना नंबर वाले वाहन चालकों द्वारा उठाया जा रहा है।

इधर, परिवहन विभाग द्वारा यह भी जांच नहीं की जाती है कि मटेरियल का परिवहन करने वाले ट्रैक्टर-ट्रॉली कृषि के लिए हैं या फिर कर्मिशल रजिस्ट्रेशन कराकर मटेरियल की सप्लाई कर रहे हैं। इसी के साथ ही कई चार पहिया वाहन भी शहर में दौड़ते हुए नजर आते हैं, जिन पर भी नंबर नहीं लिखे होते हैं।

जांच कराकर करेंगे कार्रवाई
- नियमों का पालन नहीं करने वाले सभी वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए अभियान चलाया जा रहा है। जहां तक बिना नंबर के ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के चलने की बात है तो इनकी जांच कराई जाएगी और जांच उपरांत नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
एमपी सिंह, आरटीओ, ग्वालियर

[MORE_ADVERTISE1]