स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डीइओ ऑफिस के गोपनीय रिकॉर्ड असुरक्षित, कोई भी कर सकता है गलत उपयोग

Parmanand Prajapati

Publish: Jul 20, 2019 14:01 PM | Updated: Jul 20, 2019 14:01 PM

Gwalior

डीइओ ऑफिस के गोपनीय रिकॉर्ड असुरक्षित, कोई भी कर सकता है गलत उपयोग

 

ग्वालियर. महाराज बाड़ा स्थित जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय (डीईओ) को नए भवन में शिफ्ट करा दिया गया है, लेकिन पुराने कार्यालय में रखे गोपनीय रिकॉर्ड की सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं। कार्यालय में दस्तावेजों पर लगाने वाली सीलों के अलावा गोपनीय रिकॉर्ड असुरक्षित पड़ा हुआ है, जिसकी देखभाल करने वाला भी कोई नहीं रहता है। ऐसे में कोई भी बाहरी व्यक्ति रिकॉर्ड के साथ छेड़छाड़ कर सकता है। साथ ही कार्यालय में आने और जाने वाले लोगों से भी किसी प्रकार की पूछताछ नहीं की जाती है, जिससे असुरक्षा का माहौल रहता है। कार्यालय में आवारा कुत्ते आराम फरमाते रहते हैं, जिन्हें भी कोई नहीं भगाता है।


जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय कई वर्षों से महाराज बाड़ा क्षेत्र में पुराने भवन में संचालित हो रहा था। भवन काफी पुराना होने के कारण यहां अव्यवस्थाएंं थीं, अधिकारियों के लिए भी पर्याप्त इंतजाम नहीं थे, इसलिए कार्यालय को सिरोल रोड पर नए भवन में शिफ्ट कर दिया गया है। लेकिन अभी तक पूरा सामान नए भवन में नहीं पहुंच पाया है। कार्यालय का गोपनीय रिकॉर्ड पुराने भवन में ही अव्यवस्थित तरीके से पड़ा हुआ है, जिसकी देखभाल करने वाला कोई नहीं है। महत्वपूर्ण रिकॉर्ड को गठरियों में बांधकर इधर-उधर रखवा दिया गया है। ऐसे में गोपनीय रिकॉर्ड की सुरक्षा भगवान भरोसे ही है। यहां रखे महत्वपूर्ण रिकॉर्ड को कोई भी देख सकता है, साथ ही ले जा भी सकता है। क्योंकि कार्यालय में ऐसा करने पर कोई भी रोकने-टोकने वाला नहीं है।


साथ ही कार्यालय में जगह-जगह गंदगी का आलम है, जिसकी भी सुध लेने वाला कोई नहीं है। इधर, कार्यालय में आराम फरमाने वाले आवारा जानवरों को लेकर भी कर्मचारियों द्वारा ध्यान नहीं दिया जाता है, जिसके कारण पुराने कार्यालय के हालात दिन व दिन बदतर होते जा रहे हैं। जब तक कार्यालय का पूरा सामान नए भवन में शिफ्ट नहीं हो रहा है, तब तक पुराने कार्यालय की व्यवस्थाओं में सुधार और महत्वपूर्ण रिकॉर्ड की सुरक्षा को लेकर जिम्मेदार अधिकारी कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।