स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हितग्राहियों के आवास में चोरी की बिजली

Rajesh Shrivastava

Publish: Aug 18, 2019 19:35 PM | Updated: Aug 18, 2019 19:35 PM

Gwalior

हितग्राहियों को मुहैया आवासों में रहने वाले लोगों द्वारा बिजली कंपनी से बिजली कनेक्शन हैं, मीटर भी लगवाए हैं, लेकिन बिजली ट्रांसफार्मरों पर डायरेक्टर तार डालकर बिजली चोरी की जा रही है।

ग्वालियर. बहोड़ापुर रोड पर स्थित टंकी वाले हनुमानजी मंदिर परिसर में शासन द्वारा बनवाए गए आवासों में रहने वाले लोगों द्वारा इन दिनों चोरी की बिजली उपयोग किया जा रही है। अहम बात तो यह है कि आवासों में रहने वाले लोगों द्वारा बिजली कंपनी से बिजली कनेक्शन तो ले रखे हैं, जिनका मीटर भी दरवाजे पर लगवाए गए हैं, लेकिन आवासों में रहने वाले लोगों द्वारा आवास के पीछे वाले हिस्से में लगे बिजली ट्रांसफार्मरों पर डायरेक्टर तार डालकर बिजली चोरी की जा रही है। जिससे ट्रांसफार्मरों पर लोड बढऩे के कारण आए दिन फॉल्ट हो रहे हैं। ऐसे में घंटों तक बिजली गुल रहने के कारण आस-पास के लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
टंकी वाले हनुमान मंदिर परिसर में लोगों की सुविधा के लिए आवास बनवाए गए हैं, जिन्हें हितग्राहियों को मुहैया भी कराया गया है। वहीं आवासों में रहने वाले लोगों के लिए बिजली, पानी सभी प्रकार की सुविधाएं की गई हैं। वहीं बिजली की व्यवस्था को लेकर आवासों के आस-पास बिजली के ट्रांसफार्मर भी लगवाए गए हैं। इन ट्र्रांसफार्मरों से आवास में रहने वाले लोगों को बिजली के कनेक्शन भी दिए गए हैं, लेकिन बिलों की राशि बचाने के लिए ही आवासों में रहने वाले लोगों द्वारा आवासों के पीछे से डायरेक्ट तार डालकर बिजली चोरी की जा रही है। इधर मीटर रीडिंग लेने के लिए आने वाले कर्मचारी भी आगे लगे मीटरों से रीडिंग लेकर चले जाते हैं, जिनके द्वारा ट्रांसफार्मरों पर लगे डायरेक्ट तारों को नहीं देखा जाता है। जिसका फायदा आवासों में रहने वालों द्वारा उठाया जा रहा है। यहां तक कि बिजली चोरी से आवासों में रहने वाले लोगों द्वारा हीटर और फ्रिज तक चलाए जा रहे हैं। जिससे ट्रांसफार्मरों पर लोड भी बढऩे लगता है। इधर बिजली कंपनी द्वारा आवासों में होने वाले चोरी पर अंकुश लगाए जाने के संबंध में तो कोई ध्यान नहीं दिया जाता है। हालांकि कंपनी द्वारा बिजली की खपत की राशि वसूले जाने के लिए क्षेत्र के लोगों को आकलित खपत के बिल भेजकर पूर्ति कर ली जाती है। ऐसे में बिजली चोरी करने वाले लोगों की मनमानी का खमियाजा कनेक्शनधारी उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ रहा है। इस संबंध में उनके द्वारा कई बार विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों को भी अवगत कराया जा चुका है, लेकिन आज दिनांक तक कोई सुनवाई नहीं हो रही है।