स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पौधे लगाने के साथ उनकी देखभाल भी करते हैं

Parmanand Prajapati

Publish: Jul 20, 2019 13:47 PM | Updated: Jul 20, 2019 13:47 PM

Gwalior

पौधे लगाने के साथ उनकी देखभाल भी करते हैं


ग्वालियर. पर्यावरण के संरक्षण के लिए युवाओं की टीम द्वारा पौधरोपण अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत सार्वजनिक स्थानों पर पौधे लगाए जाते हैं, साथ ही उनकी नियमित देखभाल भी की जाती है, जिससे पौधे पेड़ का रूप ले सकें। युवाओं की टीम द्वारा लोगों के घर-घर पहुंचकर भी पौधे वितरित किए जाते हैं और संकल्प दिलाया जाता है कि वह पौधे लगाने के साथ उनकी देखभाल भी करेंगे। युवाओं के प्रयास से लोग भी पौधे लगाने और उनके संरक्षण के प्रति जागरूक हो रहे हैं। युवाओं द्वारा खास तौर पर मंदिरों और आश्रमों के बाहर पौधे लगाए जाते हैं, जिससे यहां पर आने वाले लोगों को राहत मिल सके।

 

पौधरोपण करने वाली टीम के सदस्य बेताल कैन ने एक्सपोज से चर्चा के दौरान कहा कि आधुनिकता के दौर में इंसान अपनी भौतिक सुख सुविधाओं के लिए पेड़ों की अंधाधुंध कटाई कर रहा है, जिससे हमारा भविष्य खतरे में आ सकता है। हमें अपने भविष्य को अच्छा बनाने के लिए पर्यावरण का संरक्षण करना बेहद जरूरी है। इसके लिए हमें अधिक से अधिक संख्या में पौधे लगाने के साथ ही उनकी देखभाल की जिम्मेदारी भी लेनी चाहिए। टीम के सदस्यों द्वारा हर साल बारिश के पूर्व पौधरोपण अभियान की शुरुआत की जाती है और बरसात के पूरे मौसम में पौधे लगाए जाते हैं। वहीं हर रविवार को टीम के सदस्य किसी भी मंदिर और आश्रम पर पहुंचते हैं, जहां परिसर में फलदार और छायादार पौधे लगाते हैं। जिनकी देखभाल करने के लिए भी वह समय-समय पर पहुंचते हैं। साथ ही वह लोगों को पौधे भी उपलब्ध कराते हैं, जिसका पूरा खर्च युवाओं द्वारा उठाया जाता है। टीम के सभी सदस्य आपस में पैसा एकत्रित करते हैं और पौधे खरीदकर सार्वजनिक स्थानों पर लगाते हैं। उनके द्वारा खास तौर पर पहाड़ी क्षेत्रों में पौधे लगाने का कार्य किया जा रहा है, जिससे पहाड़ी वाले क्षेत्र हरे-भरे हो सकें। टीम के सदस्यों द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए किए जा रहे कार्य से प्रेरित होकर अन्य लोग भी जुड़ रहे हैं और सहयोग प्रदान कर रहे हैं। युवाओं द्वारा किए जा रहे इस कार्य के लिए कई संस्थाओं द्वारा उनका मनोबल बढ़ाते हुए सम्मान किया गया है।