स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिजली की शिकायतें ज्यादा, कर्मचारी कम, कैसे हो समाधान?

Rajesh Shrivastava

Publish: Sep 20, 2019 20:09 PM | Updated: Sep 20, 2019 20:09 PM

Gwalior

बिजली संबंधी शिकायतें भी ज्यादा हैं। समस्या को लेकर बिजली कंपनी के कर्मचारी व अधिकारी भी परेशान हैं। वहीं बिजली उपभोक्ता भी बिजली अफसरों की लेटलतीफी रवैए को लेकर कई बार नाराजगी जाहिर कर सडक़ पर आ चुके हैं।

ग्वालियर. प्रदेश में बिजली संकट किसी से छिपा नहीं है। कंपनी द्वारा बिजली कटौती इस हद तक की जाती है कि कई लोगों के रोजगार पर संकट आ जाता है। शहर के कई हिस्से ऐसे हैं जहां बिजली कंपनी ने सिर्फ बिजली मीटर टांग दिए हैं और बिजली खंभे तक नहीं लगाए। जिससे बिजली की शिकायतें और इससे होने वाले हादसों की संख्या बढ़ रही है। शहर के ईस्ट डिवीजन में बिजली उपभोक्ताओं की संख्या सबसे अधिक है। यह क्षेत्र में बिजली सबसे ज्यादा खपत होती है। राजस्व भी सबसे अधिक आता है। इसके अलावा क्षेत्र में बिजली संबंधी शिकायतें भी ज्यादा आती हैं। गोला का मंदिर से लेकर महाराज पुरा क्षेत्र तक आए दिन बिजली संबंधी समस्या आती है। इस क्षेत्र में आने वाली समस्या को लेकर बिजली कंपनी के कर्मचारी व अधिकारी भी परेशान हैं। वहीं बिजली उपभोक्ता भी बिजली अफसरों की लेटलतीफी रवैए को लेकर कई बार नाराजगी जाहिर कर सडक़ पर आ चुके हैं। पत्रिका ने बिजली कंपनी के उप महाप्रबंधक अरुण शर्मा से उपभोक्ताओं की समस्या और शिकायतों के निराकरण को लेकर चर्चा की। प्रस्तुत है मुख्य अंश...
- ईस्ट डिवीजन में से ज्यादा उपभोक्ता किस जोन में है?
-मेरा क्षेत्र बढ़ा है इसमें सबसे अधिक उपभोक्ता हैं। वहीं जोन की बात करें तो दीनदयाल नगर जोन में सबसे अधिक उपभोक्ता हैं। इस जोन को दो जोन में बनाए जाने की तैयारी है।
बिजली शिकायत भी इस क्षेत्र में आती हैं। पिछले महीनों में बिजली बंद होने को लेकर विरोध प्रदर्शन भी हुए हंै। फिर सुधार क्यों नहीं होता है?
- बिजली संबंधी शिकायत आने पर तत्काल सुधार के प्रयास शुरू हो जाते हैं। कई बार फॉल्ट आने पर उनकी तलाश करने में देरी होती है। लोड क्षेत्र में अधिक होने की वजह से समस्या आती है। जैसे ही दीनदयाल नगर और महाराजपुरा जोन दो अलग जोन तैयार होंगे। वैसे ही समस्या भी खत्म हो जाएगी।
आपके क्षेत्र में बिजली चोरी भी हो रही है। कई कालोनियों में बिजली पोल नहीं लोग सीधे कटिया डालकर कर बिजली जला रहे हैं?
जी, जो कालोनी कानूनन तौर पर अवैध है। उन कालोनियों में बिजली चोरी हो रही है क्योंकि अवैध कालोनियों में बिजली सप्लाई सिस्टम कालोनीनाइजर द्वारा तैयार नहीं किया गया है।
अवैध कालोनियों में बिजली चोरी रोकने को लेकर क्या प्रयास हो रहे हैं?
अवैध कालोनी में बिजली सप्लाई सिस्टम तैयार कराने को लेकर क्षेत्रीय विधायक मुन्नालाल गोयल से मुलाकात की है। जन सहयोग व जनप्रतिनिधि फंड से सिस्टम तैयार कराने की बात कही गई है।