स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सेंट्रल जेल में कैदियों के लिए बनेगी लाइब्रेरी

Mahesh Gupta

Publish: Oct 09, 2019 12:02 PM | Updated: Oct 09, 2019 12:02 PM

Gwalior

सेंट्रल जेल में कैदियों के लिए बनेगी लाइब्रेरी

पुस्तकें लोगों का जीवन बदल सकती हैं। इसी उद्देश्य के साथ रंगनाथन सोसायटी फॉर सोशल वेलफे यर एंड लाइब्रेरी डवलपमेंट 'बिमटेकÓ की ओर से एवं संस्कार मंजरी के सहयोग से सेंट्रल जेल में इसी माह लाइब्रेरी तैयार कराई जाएगी। जेल में एजुकेशन का ईको सिस्टम डवपल किया जाएगा, जिसके अंतर्गत लाइब्रेरी में एक हजार बुक्स होंगी। यह जानकारी बिमटेक के सीईओ डॉ ऋ षि तिवारी ने दी। इस लाइब्रेरी में मोटिवेशनल, धार्मिक, आत्मकथा से जुड़ी किताबें होंगी, जो हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू में उपलब्ध रहेंगी।

मप्र में ग्वालियर जेल से शुरुआत
बिमटेक नोएडा स्थित बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी प्रबंधन की संस्था है, जो उत्तरप्रदेश में कई जेल में लाइब्रेरी शुरू कर चुकी है। मप्र में सबसे पहले उसने ग्वालियर सेंट्रल जेल को चुना। इसके बाद भोपाल, इंदौर, जबलपुर का प्लान है। केंद्रीय कारागार के वरिष्ठ अधिकारी जेल सुप्रिटेंडेंट मनोज साहू व जेलर प्रभात कुमार ने बताया कि इससे हेल्दी एन्वॉयर्नमेंट बन सकेगा। संस्कार मंजरी की अध्यक्ष संध्या राम मोहन त्रिपाठी और प्रबंध निदेशक नीलम जगदीश गुप्ता ने कहा कि इस इनिशिएटिव की जिम्मेदारी हमें मिली है, जिसका हम बखूबी निर्वाह करेंगे।