स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शहर के नामी डॉक्टर को ज्योतिषाचार्य ठग और उसके बेटे ने लगाया 11.50 लाख का चूना

Harpal Singh Chauhan

Publish: Oct 22, 2019 23:37 PM | Updated: Oct 22, 2019 23:37 PM

Gwalior

ज्योतिष के सिलसिल में हुई थी ठग से मुलाकात फिर मुनाफा बताकर फंसाया

ग्वालियर। ज्योतिषाचार्य ठग मनोज शर्मा और उसके बेटे प्रफुल्ल की ठगी की करतूत अब भी सामने आ रही है। लंबी चुप्पी के बाद आखिरकार डॉक्टर ने ठग बाप-बेटे पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज करा ही दिया। ठगों ने उनसे कहा कि उन पर काफी कर्जा है। इसलिए उनकी खदान में पैसा इनवेस्ट कर दो जिसमें अच्छा मुनाफा होगा । यह कहकर 11.50 लाख की रकम ठगी थी। लेकिन आज तक रकम नहीं दी। हालांकि दिसंबर 2018 में ठग पर पहली एफआइआर हुई तभी उन्हें ठगों की करतूत पता चल गई। लेकिन वह चुप्पी साधे रहे। अब उन्होंने पड़ाव थाने में मामला दर्ज कराया।

पुलिस के मुताबिक ठगी अचलेश्वर बिहार कॉलोनी निवासी डॉ. रमाकांत रावत के साथ मनोज शर्मा ओर उसके बेटे प्रफुल्ल ने की है। ज्योतिष के सिलसिले में डॉक्टर रमांकात का मनोज से मिलना होता था। उसी दौरान मनोज ने अपने बेटे प्रफुल्ल से उनकी मुलाकात कराई। बताया कि बेटा ग्रेनाइट की खदान का काम करता है, लेकिन कुछ समय से कर्ज में है। अगर वह पैसा लगाते हैं तो अच्छा मुनाफा होगा। यह भी कहा कि ज्योतिष के हिसाब से इस धंधे में उन्हें मोटा मुनाफा होगा। उनकी बातों में आकर डॉक्टर ने प्रफुल्ल को 2 दिसंबर 2016 को 18 लाख 20 हजार रुपए दे दिए। पैसे देने के बाद कई महीने बीत गए लेकिन कोई मुनाफा नहंी दिया। जब पैसों की कहा तो प्रफुल्ल ने 6.30 लाख उनके खाते में डाल दिए। बाद मे 40 हजार और दिए, लेकिन बाकी की रकम आज तक नहीं दी। तब परेशन होकर डॉक्टर रमाकांत ने मनोज और प्रफुल्ल पर धेखाधड़ी और अमानत में ख्यानत की एफआइआर कराई।

बाप पर 3 बेटे पर 4 एफआइआर
बाप-बेटे दोनों ही ठगी में माहिर हैं। मनोज पर ३ एफआइआर और बेटे प्रफुल्ल पर ४ एफआइआर है। सबसे पहले विवेक तोमर ने दिसंबर 2018 में फिर कमलेश चौरसिया ने झांसी रोड में तीसरी एफआइआर सूक्ष्म शर्मा ने 19 जून 2019 को पड़ाव थाने में और चौथी एफआइआर डॉक्टर ने पड़ाव थाने में कराई।

अब तक बेटा पुलिस की पकड़ से दूर
पुलिस ने मनोज शर्मा उसकी पत्नी और बेटी को तो गिरफ्तार कर लिया। लेकिन अभी तक फरार हुए सात हजार के इनामी प्रफुल्ल को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। इंदौर में जब पुलिस ने दबिश दी तब प्रफुल्ल उस घर मे मौजूद था। जिसमें मनोज पकड़ा गया। लेकिन पुलिस की भनक लगते ही वह भाग गया था।