स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कांग्रेस की चेतावनी- भाजपा को भारी पड़ेगी प्रियंका की गिरफ्तारी

Rahul Aditya Rai

Publish: Jul 21, 2019 06:10 AM | Updated: Jul 21, 2019 01:23 AM

Gwalior

कांग्रेस नेताओं ने चेतावनी देते हुए कहा कि भाजपा को यह गिरफ्तारी भारी पड़ेगी। भाजपा सरकार लगातार लोकतंत्र की हत्या कर रही है।

ग्वालियर। उत्तरप्रदेश में भाजपा सरकार द्वारा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की गिरफ्तारी के विरोध में कांग्रेस ने शनिवार को फूलबाग चौराहे पर धरना दिया। इस दौरान कांग्रेस नेताओं ने चेतावनी देते हुए कहा कि भाजपा को यह गिरफ्तारी भारी पड़ेगी। भाजपा सरकार लगातार लोकतंत्र की हत्या कर रही है।

 

सुबह 9 बजे से जिलाध्यक्ष डॉ.देवेन्द्र शर्मा की अध्यक्षता में दिए गए धरने में पार्टी के वरिष्ठ नेता, पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल हुए। इस अवसर पर डॉ.शर्मा ने कहा कि उत्तरप्रदेश अपराधों का गढ़ बन गया है। प्रदेश के मुख्यमंत्री के इशारे पर भाजपा के भूमाफिया को कब्जा कराने के लिए सोनभद्र में आदिवासियों का नरसंहार कराया गया है। इन आदिवासियों के परिवारों को शोक संवेदना व्यक्त करने के लिए उत्तरप्रदेश पहुंची प्रियंका गांधी को रेस्ट हाउस में नजरबंद करके भाजपा सरकार ने अपना लोकतंत्र विरोधी चेहरा बता दिया है।

 

पसीना-पसीना होते रहे कार्यकर्ता
भीषण गर्मी और उमस के कारण धरने में शामिल नेता और कार्यकर्ता पसीना-पसीना होते रहे। पार्टी ने पानी की व्यवस्था नहीं की थी, बाद में कुछ पाउच और पानी की बोतलें मंगाई गईं। धरने में वरिष्ठ कांग्रेस नेता यदुनाथ सिंह तोमर, सुरेन्द्र सिंह परमार चच्चू, अशोक शर्मा, सुनील शर्मा, चन्द्रमोहन नागौरी, रामवरन सिंह गुर्जर, महाराज सिंह पटेल, अमर सिंह माहौर, जेएच जाफरी, आनंद शर्मा, प्रमोद पांडे, धर्मेन्द्र शर्मा, अशोक प्रेमी, शिववीर सिंह भदौरिया, सत्येन्द्र शर्मा, मोनु सोलंकी, सरोज मिश्रा, किरण खेनवार, ऊषा चौहान, मोनु दुबे, अनूप तिवारी, अशोक शर्मा व्याख्याता, संगीता जोशी, दिनेश शर्मा, दिनेश जैन, जीवाजीराव मांडोले, इब्राहिम पठान, देशराज भार्गव, केसी सिंह राजपूत आदि शामिल रहे।

प्रदेश को रोकी गई राशि दिलाने की मांग
धरने के बाद शहर जिला कांग्रेस ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र भेजकर वर्ष 2019-20 के आम बजट में भाजपा की मोदी सरकार द्वारा मध्यप्रदेश के विकास को अवरुद्ध करने के लिए 2677 करोड़ रुपए की कटौती किए जाने का विरोध करते हुए राज्य के हिस्से की राशि उसे दिलाने के निर्देश दिए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार प्रदेश कांग्रेस सरकार के साथ जो व्यवहार कर रही है वह ठीक नहीं है।