स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जेएएच में सफाईकर्मियों की हड़ताल, ऐसे बिगड़े हालात कि खड़े होना हो गया मुश्किल

Rahul Aditya Rai

Publish: Jul 21, 2019 08:05 AM | Updated: Jul 21, 2019 01:11 AM

Gwalior

जेएएच समूह में करीब 250 सफाई कर्मचारी काम करते हैं, जो शुक्रवार से हड़ताल पर चले गए हैं। हड़ताल के दूसरे दिन शनिवार को हालात ज्यादा बिगड़ गए, जिससे लोगों को काफी परेशानी हुई। स्थिति यह रही कि मरीज वार्डों में गंदगी के बीच ही लेटे थे।

ग्वालियर। जयारोग्य अस्पताल समूह में सफाई कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने से बुरी तरह अव्यवस्था फैल गई है। जेएएच और कमलाराजा अस्पताल के किसी भी वार्ड, गैलरी और शौचालय में शनिवार को सफाई नहीं हुई, इससे हर तरफ गंदगी पसरी रही। जगह-जगह कचरे के ढेर लगे देखे गए, जिनसे आ रही तीखी बदबू के कारण मरीजों, अटेंडरों के साथ डॉक्टरों और अस्पताल स्टाफ को भी काफी परेशानी हुई।

 

जेएएच समूह में करीब 250 सफाई कर्मचारी काम करते हैं, जो शुक्रवार से हड़ताल पर चले गए हैं। हड़ताल के दूसरे दिन शनिवार को हालात ज्यादा बिगड़ गए, जिससे लोगों को काफी परेशानी हुई। स्थिति यह रही कि मरीज वार्डों में गंदगी के बीच ही लेटे थे। शौचालयों से भयंकर बदबू आ रही थी। गैलरी से डॉक्टरों व अटेंडरों को नाम पर रूमाल रखकर ही निकलना पड़ रहा था।

 

पेटी कॉन्ट्रैक्ट पर ठेका
जेएएच में सफाई का ठेका हाइट्स कंपनी को दिया गया है, लेकिन इस कंपनी ने पेटी कॉन्ट्रैक्ट पर बीबीजी कंपनी को ठेका दे दिया है। हड़ताल पर गए सफाई कर्मचारियों का आरोप है कि इस कंपनी के अधिकारी उन्हें कम वेतन दे रहे हैं, वह भी समय पर नहीं मिलता है। अभी दो महीने से वेतन नहीं मिला है, इसलिए हड़ताल करनी पड़ी है। वेतन मिलने में देरी होने का पर इससे पहले भी सफाई कर्मचारी हड़ताल कर चुके हैं।

 

ऑपरेशन थियेटर के रास्ते, सीढिय़ों सब जगह कचरा
मेल सर्जिकल वार्ड, फीमेल वार्ड, जेएएच के ऑपरेशन थियेटर की ओर जाने वाले रास्ते पर हर जगह गंदगी है। सीढिय़ों पर कचरे के ढेर लगे हैं। दोपहर में बदबू से यह हाल हो गया कि जो भी निकल रहा था वह नाक पर रूमाल रखकर निकल रहा था।कूलर अंदर खींच रहे हैं बदबूमेल सर्जिकल वार्ड की गैलरी से लेकर हॉल तक हर तरफ गंदगी के ढेर लगे हैं। गेट पर लगे कूलर गंदगी से बदबू अंदर खींच रहे हैं, जिससे कमरों में भी बदबू आ रही है।

 

बदबू से खड़े भी नहीं हो पा रहे
- तीन दिन से परिजन भर्ती है, इसके चलते यहां पर हंू, लेकिन कल से बुरा हाल हो गया है। बदबू इतनी है कि यहां पर खड़ा होना मुश्किल हो गया है। कोई भी देखने वाला नहीं है।
-हेमंत, गिरवाई

 

गंदगी से रहना मुश्किल हो रहा
- बच्चा बीमार है, लेकिन गंदगी के कारण यहां रहना मुश्किल हो गया है। रूम के अंदर और बाहर दुर्गंध के कारण बैठ नहीं पा रहे हैं।
-विजयाकुमारी, टीकमगढ़

 

9 हजार की बात हुई थी 6 हजार दे रहे
सफाई कर्मचारी कालीचरण ने बताया कि कंपनी ने हमें 9 हजार रुपए देने के लिए कहा है, लेकिन ठेकेदार 6 हजार रुपए ही दे रहा है। इसके बावजूद वेतन कई महीनों तक नहीं मिलता है। कर्मचारियों के भुगतान के लिए कंपनी से कहा है

 

आज शुरू हो सकती है सफाई
वेतन न मिलने के कारण अस्पताल में सफाई कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं। इससे पहले भी दो बार कर्मचारी वेतन न मिलने के कारण हड़ताल कर चुके हैं। इससे व्यवस्थाएं बिगड़ गई हैं। कर्मचारियों के भुगतान के लिए कंपनी से बात की है। संभवत: रविवार से सफाई शुरू हो जाएगी।
डॉ.अशोक मिश्रा, अधीक्षक जेएएच