स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नेट में 60 परसेंट माक्र्स लाने के लिए रखने होंगे बेसिक कॉन्सेप्ट क्लियर

Avdhesh Shrivastava

Publish: Mar 16, 2019 20:26 PM | Updated: Mar 16, 2019 20:26 PM

Gwalior

जीवाजी यूनिवर्सिटी के गालव सभागार में शुक्रवार को सेमिनार आयोजित किया गया ।

ग्वालियर. यूजीसी नेट और जेआरएफ के पैटर्न में 20 प्रतिशत तक चेंजेज हुए हैं। इसके लिए स्टूडेंट्स को उसी के अकॉर्डिंग तैयारी करनी होगी। सबसे पहले छात्र अपने आपमें विश्वास पैदा करें। यदि आप नेट, जेआरएफ क्वालिफाई करना चाहते हैं, तो आपको फस्र्ट पेपर मे कम से कम 60 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य होगा। इसलिए हर टॉपिक पर सही से पकड़ होनी जरूरी है। यह जानकारी नागपुर के प्रो. अनिल करमंडे ने सेमिनार के दौरान दी। यह सेमिनार जीवाजी यूनिवर्सिटी के गालव सभागार में शुक्रवार को आयोजित किया गया था।
रिसर्च में डेटा का महत्व : सेमिनार में उत्कृष्ट शिक्षा संस्थान भोपाल के प्रो. केके खरे ने बताया कि रिसर्च में हमेशा डेटा का महत्व होता है। उन्होंने बताया कि इमोशन, घृणा, भाव, दया, प्यार इनको मापने का कोई पैमाना नही होता। उन्होंने डेटा के सोर्सेज के बारे में एवं उसका इस्तेमाल करने की जानकारी दी। एक्सपर्ट के यप में गुजरात से प्रो अशोक भी उपस्थित रहे। डॉ. शांतिदेव सिसौदिया ने कहा कि हमेशा बेसिक कॉन्सेप्ट एकदम स्पष्ट होना चाहिए, तभी परिणाम अच्छा आएगा।
रेडिएशन और स्वयं की सुरक्षा पर डाला प्रकाश : जीवाजी विश्वविद्यालय के रसायन विभाग द्वारा राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विभागाध्यक्ष प्रो. राधा तोमर ने की। सबसे पहले डॉ. एमवीएस सूर्यनारायण ने स्पीच दी। उन्होंने भोपाल गैस कांड का उदहारण देते हुए प्रयोगशाला में उपयोग होने वाली सावधानियों एवं सुरक्षा के बारे में विस्तार से बताया। इसके बाद स्पीकर साइंटिस्ट डॉ. डीके त्रिपाठी ने रेडिएशन सेफ्टी पर अपने विचार व्यक्त किए। पर्यावरण के प्रति रसायन के कत्र्तव्य पर उन्होंने रेडिएशन से स्वयं सुरक्षा पर भी प्रकाश डाला। वैज्ञानिक डॉ उमा पाठक ने अभिज्ञान सुरक्षा एवं सुधिकरण के बारे में जानकारी दी।
नेशनल अधिवेशन में पढ़े जाएंगे 90 रिसर्च पेपर : जीवाजी यूनिवर्सिटी के शारीरिक शिक्षा अध्ययनशाला की ओर से दो दिवसीय फि टनेस, हेल्थ और स्पोट्र्स साइंसेस विषय पर राष्ट्रीय अधिवेशन की शुरुआत शनिवार से होने जा रही है। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में एलएनसीपीई त्रिवेन्द्रम के पूर्व प्राचार्य प्रो. एमएल कमलेश एवं स्पीकर के रूप में कृष्णा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस महाराष्ट्र के कुलपति डॉ. वेद प्रकाश मिश्रा मौजूद रहेंगे। गेस्ट आफ ऑनर एलएनआइपीई के कुलपति प्रो. दिलीप डुरेहा अर्जुन अवार्डी विजय सिंह चौहान उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता जीवाजी यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला करेंगी। अधिवेशन में शारीरिक शिक्षा एवं खेलकूद से जुड़े लगभग 30 रिसोर्स पर्सन अपने विचार व्यक्त करेंगे और 90 शोध पत्र पढ़े जाएंगे।