स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस कुत्ते की स्वामीभक्ति की मिसाल सुन कर दंग रह जाएंगे आप

Yogendra Yogi

Publish: Nov 30, 2019 18:15 PM | Updated: Nov 30, 2019 18:15 PM

Guwahati

आपने कुत्तों के बहादुरी और वफादारी के किस्से बहुत सुने होंगे किन्तु यहां जिस कुत्ते के बारे में चर्चा की जा रही है वह किसी परिवार के किसी बेटे-बेटी जैसा कत्र्वय अदा कर रहा है। पानी भरी बोतलें लाद कर चार किलोमीटर चलता है।

 

 

कोहिमा ( सुवालाल जांगु ): आपने कुत्तों के बहादुरी और वफादारी ( Dogs bravery and loyality ) के किस्से बहुत सुने होंगे किन्तु यहां जिस कुत्ते के बारे में चर्चा की जा रही है वह किसी परिवार के किसी बेटे-बेटी जैसा कत्र्वय अदा कर रहा है। ( Hard work like a family member ) इसे हर रोज घर के अन्य सदस्यों की तरह परिवार चलाने के लिए वही मेहनत करनी होती है, जोकि घर के अन्य सदस्य करते हैं। घर-परिवार चलाने की जो जिम्मेदारी घर के सदस्यों की बनती है, ठीक वही जिम्मेदारी यह वफादार साथी भी निभा रहा है। इस कुत्ते का काम देखकर आपका मन भी एकबारगी पिघल जाएगा। यह कुत्ता है भारत के आखिरी राज्य नागालैंड ( Nagaland ) का। इस सुदुरवर्ती राज्य के सुदुरवर्ती नागालै वोखा जिला के यीम्पांग गांव में इस स्वामीभक्त श्वान की सेवा का अद््भुत नजारा देखा जा सकता है।

पानी भरी बोतलें लाद कर लाता है
इस पालतू कुत्ते का नाम है रामू, जो अपने मालिक के साथ सोता से पानी से भरी चार बोतलों को अपनी पीठ पर ( Carry four bottle of Water Daily ) बने एक डीआईवाई बेग में भरकर हर दिन लेकर आता हैं। रामू अपने मालिक के परिवार का एक सदस्य की तरह हैं। मालिक योंगतौ मेतमे ने अपने रामू के इस काम की फोटो और एक वीडियो इन्स्टाग्राम पर साझा की है। रामू और योंगतौ दोनों साथ-साथ अपने घर के लिए गांव से दूर एक प्राकृतिक सोते से रोज पानी लाते हैं।

हर दिन चार किलोमीटर चलता है
रामू अपनी पीठ पर रोज चार बोतले पानी की ( Climb 4 Kilometer with Water bottles ) लाद कर अपने मालिक के पीछे-पीछे चलकर पहाड़ी के ऊपर घर को लाता हैं। यीम्पांग गांव के लोग पानी के लिए पहाड़ी के नीचे प्राकृतिक सोते पर निर्भर हैं। गांव के लोग पानी के लिए रोज पहाड़ी के नीचे उतरते हैं। अपने मालिक के साथ रामू भी रोज 4-5 किलोमीटर का चढ़ाई और ढलान वाले रास्ते से घर के लिए पानी भरने के काम में लग जाता हैं। रामू अपनी पीठ पर पानी की चार बोतले लाद कर चलते हुये गांव के लोगों के दिल जीत लेता है।

[MORE_ADVERTISE1]